सियाचिन ग्लेशियर

सियाचिन: जहां गाड़ियों के टायरों से लपेटनी पड़ती है जंजीर, अंडे-टमाटर बन जाते हैं 'पत्थर'

- 40 डिग्री में डीजल-पेट्रोल जम जाने की वजह से गाड़ियों का इंजन हमेशा स्टार्ट रखा जाता है.

Dec 30, 2019, 08:25 PM IST

EXCLUSIVE: जानें माइनस 40 डिग्री में हमारे 'हिम योद्धा' कैसे करते हैं देश की हिफाजत

जहां सांस लेना भी चुनौती है, वहां सेना के जवान देश की हिफाजत करते हैं. जब हम चैन से सोते हैं, वो बर्फीले तूफानों का मुकाबला करते हैं. पढ़ें सियाचिन से ZEE NEWS की एक्सक्लूसिव रिपोर्ट:   

Dec 29, 2019, 08:13 PM IST

पाकिस्तान को हराना है मकसद, सैनिकों के लिए खास ड्रेस तैयार करा रही सेना

न्य सूत्रों ने बताया कि इन सामग्रियों के देश में उत्पादन के जरिये नौसेना का लक्ष्य हर वर्ष करीब 300 करोड़ रुपये की बचत करना है. वर्तमान में इन चीजों का आयात अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया, कनाडा और स्विटजरलैंड जैसे देशों से किया जाता है.

Aug 12, 2018, 03:41 PM IST

पाक लड़ाकू विमानों ने सियाचिन के करीब भरी उड़ान, हवाई क्षेत्र के उल्लंघन से भारत का इनकार

पाकिस्तान के लड़ाकू विमानों ने बुधवार सुबह सियाचिन ग्लेशियर के नजदीक उड़ान भरी, लेकिन भारतीय वायु सेना के सूत्रों ने कहा कि भारत के हवाईक्षेत्र का कोई उल्लंघन नहीं हुआ.

मई 24, 2017, 04:07 PM IST

पाकिस्तान पर भरोसा नहीं, इसलिए भारत सियाचिन से सैनिकों को नहीं हटायेगा : पर्रिकर

सरकार ने बताया कि भारत सियाचिन ग्लेशियर से अपने सैनिकों को नहीं हटायेगा क्योंकि वह पाकिस्तान पर भरोसा नहीं कर सकता जो इसे खाली करने की स्थिति में हथिया सकता है। लोकसभा में कुछ सदस्यों के पूरक प्रश्नों के उत्तर में रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर ने कहा कि भारत के कब्जे में सियाचिन ग्लेशियर का सर्वोच्च स्थल साल्टोरो दर्रा है जो 23 हजार फुट की उंचाई पर स्थित है।

Feb 26, 2016, 02:50 PM IST

सियाचिन में हिमस्खलन होने की आशंका से अवगत था: पर्रिकर

रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर ने सोमवार को कहा कि उनका मंत्रालय सियाचिन ग्लेशियर में हिमस्खलन की आशंका से अवगत था लेकिन सटीक स्थान का पता नहीं था जहां इस महीने की शुरूआत में हिमस्खलन में 10 सैनिक शहीद हो गए।

Feb 16, 2016, 12:22 AM IST

दिल्ली लाए गए सियाचिन के 9 सूरमाओं के पार्थिव शरीर

सियाचिन में हिमस्खलन की चपेट में आने से शहीद हुए 9 सैनिकों के शव लेह से राजधानी दिल्ली लाए गए। मौसम साफ न होने की वजह से रविवार को सैनिकों के पार्थिव शरीर दिल्ली नहीं लाए जा सके थे।

Feb 15, 2016, 01:06 PM IST

लांस नायक हनुमनथप्पा कोप्पड हमेश अमर रहेंगे: पीएम नरेंद्र मोदी

लांस नायक हनुमनथप्पा कोप्पड़ की मृत्यु पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज शोक प्रकट करते हुए कहा कि हनुमनथप्पा हमें ‘उदास और व्यथित’ छोड़ गए हैं। सियाचिन हिमनद में आए हिमस्खलन में बर्फ की मोटी परत के नीचे दबे हनुमनथप्पा को छह दिन बाद जीवित बाहर निकाला गया था।

Feb 11, 2016, 02:00 PM IST

कठिन चुनौतियों से लोहा लेने में माहिर थे हनुमनथप्पा कोप्पड़

सियाचिन में छह दिन 35 फुट बर्फ के नीचे फंसे रहने का बाद जिंदा निकले लांस नायक हनुमंथप्पा नहीं रहे। दिल्ली के आर्मी अस्पताल में 11.45 पर उन्होंने आखिरी सांस ली। इससे पहले खबर मिली थी कि उनकी हालत और बिगड़ गई है और वह गहरे कोमा में चले गए हैं।

Feb 11, 2016, 01:39 PM IST

सियाचिन के बहादुर सैनिक लांस नायक हनुमनथप्पा नहीं रहे, दिल्ली के आर्मी अस्पताल में निधन, अंत्येष्टि आज

सियाचिन ग्लेशियर से चमत्कारिक रूप से जीवित निकाले गये बहादुर सैनिक लांस नायक हनमनथप्पा कोप्पड का गुुरुवार को निधन हो गया। उन्होंने सुबह 11 बजकर 45 मिनट पर अंतिम सांस ली।’ मद्रास रेजिमेंट के 33 वर्षीय सैनिक के परिवार में उनकी पत्नी महादेवी अशोक बिलेबल और 18 महीने की एक बेटी नेत्रा कोप्पड है। सियाचिन के इस जांबाज सैनिक का अंतिम संस्कार शुक्रवार को धारवाड़ स्थित उनके पैतृक गांव में पूर्ण राजकीय सम्मान के साथ किया जाएगा।

Feb 11, 2016, 01:01 PM IST

सियाचिन के जांबाज हनुमनथप्पा की हालत अब भी नाजुक, देश कर रहा है दुआएं

सियाचिन में बर्फ के नीचे से छह दिन बाद जिंदा निकले लांस नायक हनुमनथप्पा कोप्पड़ की हालत अभी भी नाजुक बनी हुई है। उनके दिमाग तक ऑक्सीजन नहीं पहुंच पा रही है जिससे उनकी हालत और बिगड़ गई है। उन्हें निमोनिया है और सांस लेने में भी तकलीफ हो रही है। पूरा देश उनकी सलामती के लिए दुआएं कर रहा है। मेडिकल बुलेटिन के मुताबिक उनकी हालत गंभीर बनी हुई है। एम्स के डॉक्टरों की भी इलाज में मदद ली जा रही है। डॉक्टरों के मुताबिक उनकी हालत अभी भी नाजुक है।

Feb 11, 2016, 11:09 AM IST

लेटेस्ट मेडिकल बुलेटिन के अनुसार, 'सियाचिन के जाबांज हनमनथप्पा की हालत और बिगड़ी'

सियाचिन ग्लेशियर में छह दिनों तक बर्फ के नीचे दबे होने होने के बावजूद मौत को मात देने वाले लांस नायक हनुमनथप्पा कोप्पड़ की हालत और बिगड़ गई है। इस बीच एम्स के विशेषज्ञों का एक दल उनका जीवन बचाने के प्रयास में शामिल हो गया है।

Feb 10, 2016, 09:57 PM IST

‘हनुमनथप्पा ने शांतिपूर्ण पोस्टिंग की बजाय अपनी 13 साल की कुल सेवा में से 10 साल सियाचिन जैसे संघर्ष वाले क्षेत्रों को चुना’

लांस नायक हनुमनथप्पा कोप्पड़ की हालत अब भी गंभीर बनी हुई है। उन्होंने शांति वाले क्षेत्रों को चुनने के बजाय कठिन क्षेत्रों को चुना और संघर्ष के क्षेत्रों में 10 साल तक लड़े। गौरतलब है कि सियाचिन ग्लेशियर में 6 दिन तक बर्फ के नीचे दबे रहने के बाद हनुमनथप्पा को चमत्कारिक तरीके से जीवित पाया गया था।

Feb 10, 2016, 06:45 PM IST

सियाचिन के जाबांज हनुमनथप्पा की हालत नाजुक बनी हुई है: अस्पताल

सियाचिन ग्लेशियर में छह दिनों तक बर्फ के नीचे दबे होने के बाद जीवित बाहर निकाले गए 19 मद्रास रेजीमेंट के लांस नायक हनुमनथप्पा कोप्पड की हालत बहुत नाजुक बनी हई है।

Feb 10, 2016, 05:36 PM IST

मौत के मुंह से लौटे जवान हनुमनथप्पा की सलामती की खातिर देशभर में मांगी जा रही है दुआएं, महिला ने की किडनी देने की पेशकश

लांसनायक हनुमनथप्पा कोपड़ का दिल्ली के आर्मी अस्पताल में इलाज किया जा रहा है। पूरा देश उनकी जिंदगी की सलामती की दुआएं मांग रहा है। इस बीच उनकी जिंदगी की खातिर एक महिला ने अपनी किडनी देने की पेशकश की है।

Feb 10, 2016, 05:03 PM IST

सियाचिन ग्लेशियर से जिंदा निकाले गए जवान हनुमनथप्पा कोमा में, वेंटिलेटर पर रखा गया, अगले कुछ घंटे अहम

सियाचिन ग्लेशियर में छह दिन तक 35 फुट बर्फ के नीचे दबे रहे जवान लांस नायक हनुमनथप्पा की हालत गंभीर, लेकिन स्थिर बनी हुई है। जानकारी के मुताबिक वह फिलहाल कोमा में हैं। उन्हें वेंटिलेटर पर रखा गया है। उनका लिवर और किडनी ठीक से काम नहीं कर रहा। साथ ही उन्हें निमोनिया भी है।

Feb 10, 2016, 10:09 AM IST

जानिए सियाचिन ग्लेशियर पर जांबांज सैनिक हनुमनथप्पा की जान किसने बचाई?

सियाचिन ग्लेशियर पर टनों बर्फ में छह दिन तक दबे रहने बाद जीवित निकाले गए सैन्यकर्मी हनुमनथप्पा कोप्पाड एक उच्च प्रेरित सैनिक हैं और सेना में अपने 13 साल के अब तक के कार्यकाल में उन्होंने ज्यादातर सेवा कठिन और चुनौती भरे क्षेत्रों में की है । कोप्पाड को कल 150 से अधिक सैनिकों और दो खोजी कुत्तों की टीम ने 2,500 फुट की उंचाई से बचाया था । बर्फ में छह दिन तक दबे रहने के बाद वह जीवित निकले ।

Feb 10, 2016, 08:47 AM IST

22,500 फीट की ऊंचाई पर चमत्कार; सियाचिन में 5 दिन बाद भी जिंदा मिला जवान, पीएम मोदी ने किया हौसले को सलाम

सियाचिन ग्लेशियर में एक सप्ताह पहले बर्फ खिसकने से 30 फुट नीचे दबे रहने के बाद जीवित निकाले गये लांस नायक हनमंथप्पा कोप्पाड जीवन के लिए संघर्ष कर रहे हैं। कोप्पाड को मंगलवार को सियाचिन ग्लेशियर से यहां आर्मी हॉस्पिटल रिसर्च एंड रेफरल लाया गया और अस्पताल के अनुसार वह कोमा में हैं और उनकी हालत अत्यंत गंभीर है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर और सेना प्रमुख जनरल दलबीर सिंह सुहाग ने अस्पताल जाकर बहादुर सैनिक से मुलाकात की और देश से उनके जल्द स्वास्थ्य लाभ के लिए प्रार्थना करने को कहा।

Feb 10, 2016, 12:13 AM IST

सियाचिन के योद्धा : 150 सैनिक और दो श्वानों की मदद से बचाए गए हनुमंथप्पा

150 से ज्यादा सैनिकों का उत्साह और दो श्वान डॉट तथा मीशा के अलावा जमीन के नीचे तक पता लगाने वाले रडार और बर्फ काटने के विशेष उपकरण की मदद से लांस नायक हनुमंथप्पा कोप्पड़ को बचाया जा सका जो 19500 फुट की ऊंचाई पर सियाचिन ग्लेशियर में कई टन बर्फ के नीचे दबे हुए थे।

Feb 9, 2016, 09:00 PM IST

सियाचिन हिमस्खलन में बचे सैनिक से अस्पताल में मिले PM मोदी; जवान वेंटीलेटर पर, 48 घंटे अहम

सियाचिन हिमनद में हुए हिमस्खलन में भारी बर्फ के नीचे दफन होने के छह दिन बाद चमत्कारिक रूप से जीवित निकले लांस नायक हनुमनथप्पा को मंगलवार को सियाचिन स्थित सेना के आधार शिविर लाया गया और यहां से उन्हें विशेष एयर एंबुलेंस विमान के जरिए दिल्ली के रिसर्च एंड रेफरल अस्पताल ले जाया गया जहां उनका इलाज किया जा रहा है।

Feb 9, 2016, 01:32 PM IST