krishna sobti

नामवर सिंह के साथ आलोचना के स्वर्णिम युग का हुआ अंत

हिंदी साहित्य का एक पुरोधा और आलोचना का एक स्तंभ गुजर गया. प्रख्यात साहित्यकार और आलोचक डॉ नामवर सिंह नहीं रहे. 93 वर्ष की उम्र में मंगलवार की रात नामवर सिंह का एम्स अस्पताल में इलाज के दौरान निधन हो गया. जनवरी महीने में अपने कमरे में गिरने के बाद से वो एम्स में भर्ती थे.

Feb 20, 2019, 02:21 PM IST

कृष्णा सोबती की पहली पसंद थी बेगम अख्तर, जिनकी गजलें सुनकर रो देती थीं : राधिका चोपड़ा

प्रतिरोध की सशक्त आवाज रहीं कृष्णा सोबती का लंबी बीमारी के चलते 93 वर्ष की उम्र में 25 जनवरी, 2019 को निधन हो गया था. 

Feb 2, 2019, 12:34 AM IST

कृष्णा सोबती: स्त्री की आजादी और साहित्यकार के संघर्ष की लंबी कहानी

रेणु की तरह कृष्णा जी अपने उस जमाने की उपज हैं जिसकी मिट्टी और पानी से उनका जीवन सजा-संवरा है. यह कृतज्ञता इतनी गहरी है कि वे बार-बार उसका कर्ज चुकाने को उद्यत जैसी रहती हैं, ठीक रेणु की तरह.  

Jan 27, 2019, 11:13 AM IST

प्रख्यात लेखिका कृष्णा सोबती का 93 साल की उम्र में निधन

लेखिका ने शुक्रवार सुबह दिल्ली के एक अस्पताल में अंतिम सांस ली. वह पिछले दो महीने से अस्पताल में भर्ती थीं.

Jan 25, 2019, 03:41 PM IST

'जिंदगीनामा', 'ऐ लड़की' की लेखिका कृष्‍णा सोबती को मिला प्रतिष्ठित ज्ञानपीठ पुरस्कार

कृष्णा सोबती को उनके चर्चित उपन्यास 'जिंदगीनामा' के लिए वर्ष 1980 का साहित्य अकादमी पुरस्कार मिला था. 

Nov 3, 2017, 03:17 PM IST