• 542/542 लक्ष्य 272
  • बीजेपी+

    354बीजेपी+

  • कांग्रेस+

    89कांग्रेस+

  • अन्य

    99अन्य

life talk

डियर जिंदगी: ओ! सुख कल आना…

हम छोटे होते हैं तो सुख को स्‍थगित नहीं करते. उसे जीते हैं. हम उसे नहीं कहते, ‘ओ ! सुख कल आना.’

Mar 4, 2019, 08:38 AM IST

डियर जिंदगी: यकीन रखें, यह भी गुजर जाएगा…

फैसला लेते समय डरिए मत, याद रखिए गलत निर्णय भी अनिर्णय से लाख गुना बेहतर है. इसमें कुछ न करने के अपराधबोध से हम पूरी जिंदगी आजाद रहते हैं.

Feb 28, 2019, 08:47 AM IST

डियर जिंदगी: मित्रता की नई ‘महफिल’!

अपनों से मिलिए, संवाद कीजिए. ख्‍याल रखना और करना एक संक्रामक आदत है. जितना अधिक इसका उपयोग किया जाएगा, यह उतना ही असर दिखाएगी.

Feb 27, 2019, 09:51 AM IST

डियर जिंदगी: यह दीवार कैसे टूटेगी!

हम मनुष्‍य के सामाजिक प्राणी होने के मूल गुण से पहली बार इतनी दूर निकलते दिखाई दे रहे हैं. हर चीज को बस वर्चुअल दुनिया के पैमाने से देखा जा रहा है.    

Feb 25, 2019, 09:11 AM IST

डियर जिंदगी: दर्द के सहयात्री!

दर्द से उबरना भी एक उपचार है. अगर सही तरह से दुख से बाहर नहीं निकला जाए तो यह ताउम्र अमरबेल की तरह हमारी आत्‍मा पर सवार रहता है.

Feb 21, 2019, 08:06 AM IST

डियर जिंदगी: बच्‍चे को 'न' कहना!

बच्‍चे जितने प्रेम, स्‍नेह से न सुनेंगे. उसे ग्रहण करेंगे, जीवन में संघर्ष की धूप का सामना भी उतनी ही आसानी से कर पाएंगे.

Feb 19, 2019, 08:55 AM IST

Dear Zindagi: जिंदगी का फूल संघर्ष की धूप के बिना नहीं खिलता

असुविधा, दुख, परेशानी जीवन का हिस्‍सा हैं. इनसे भागना संभव नहीं. जीवन इनके साथ है. इनके बिना नहीं. इसलिए, इनका हिस्‍सा बनकर जीना है. जिंदगी का फूल संघर्ष की धूप के बिना नहीं खिलता, इसे हमें बहुत अच्‍छी तरह समझना, बच्‍चों को समझाना है. इसके तनाव, निराशा के भाव से सहजता से निपटा जा सकता है!

Feb 18, 2019, 06:45 PM IST

डियर जिंदगी: प्रेम दृष्टिकोण है…

हम अपने जीवन को सुखद, सरल, सरस बनाना चाहते हैं, तो प्रेम को अपना स्‍वभाव बनाना होगा. उसको दूसरों के नजरिए, स्‍वभाव के भरोसे नहीं छोड़ा जा सकता!

Feb 18, 2019, 08:50 AM IST

डियर जिंदगी: बच्‍चों के बिना घर!

बच्‍चों के पढ़ाई के लिए बाहर जाते ही माता-पिता में खालीपन देखा जा रहा है. जैसे किसी ने उनकी मुस्‍कान गिरवी रख दी हो कि खुश रहना मना है.

Feb 15, 2019, 08:52 AM IST

डियर जिंदगी: रास्‍ता बुनना!

जिंदगी के प्रति थोड़ी कंजूसी भी जरूरी है, जिससे इसे दूसरों से नफरत, असहमति के नाम पर खर्च होने से बचाया जा सके!

Feb 14, 2019, 11:37 AM IST

डियर जिंदगी: ‘ कड़वे ’ की याद!

हम अपनी बहुत ‘छोटी’ दुनिया के अनुभव को जब बहुत बड़ी धरती पर लागू करने की कोशिश करते हैं, तो इससे हमारा दृष्टिकोण बहुत बाधित होता जाता है.

Feb 13, 2019, 09:47 AM IST

डियर जिंदगी: दुख को संभालना सीखिए. जिंदा रहिए!

बेटियां पराया धन होती हैं! उनके कन्‍यादान से कर्तव्‍य पूरा हुआ जैसे वाक्‍य जब तक समाज के विमर्श में रहेंगे, लड़कियों, शादीशुदा महिलाओं की आत्‍महत्‍या की दर को कम कर पाना आसान नहीं होगा. युवकों को असल में शिक्षित, आधुनिक नारी के अनुकूल बनाने का काम जब तक पूरा नहीं होगा, आत्‍महत्‍या को रोकना संभव नहीं होगा!

Feb 12, 2019, 12:35 PM IST

डियर जिंदगी: दुख को संभालना!

हमने बेटियों की शिक्षा की ओर तो कदम बढ़ा दिया, लेकिन लड़के हमारे वैसे ही रह गए. उनका रवैया, नजरिया, सोच अभी भी सामंती है. पुरातन है. उसमें नई हवा के झोंके बहुत कम हैं!

Feb 8, 2019, 08:45 AM IST

डियर जिंदगी: अपने लिए जीना!

जिंदगी चलती हुई 'पटरियों' पर चलने का नाम नहीं है. समय के साथ नई पटरियां बिछाने, उन पर चलने का हौसला भी करना जरूरी है! 

Feb 7, 2019, 10:00 AM IST

डियर जिंदगी: प्रेम कीजिए, खूब कीजिए. लेकिन अपनी कीमत पर नहीं

प्रेम सहज, स्‍वाभाविक भावना है! लेकिन अगर इसमें पाइथागोरस प्रमेय की तरह दिमाग लगाया जाए, तो जिंदगी सुनामी की चपेट में आ जाती है. खतरों से सावधान करने वाली चेतावनी सुनाई ही नहीं देती!

Feb 6, 2019, 10:35 PM IST

डियर जिंदगी: प्रेम का रोग होना!

मैंने बहुत सोचा कि 'डियर जिंदगी' में इस कहानी को लिखा जाए, छोड़ दिया जाए. फिर तय किया कि कहना चाहिए, क्‍योंकि इस पर तंज अधिक कसे जाते हैं, बात सबसे कम होती हैं!

Feb 6, 2019, 08:51 AM IST

डियर जिंदगी: परिवर्तन से प्रेम!

बाहरी नहीं, भीतरी चुनौती हमें अक्‍सर डराती है. यह अपनों से ही मिलती है. ऐसे में सबसे जरूरी इरादों पर डटे रहना, हार नहीं मानना है. सपनों, परिवर्तन के प्रति आस्‍था ही असली पूंजी है!

Feb 5, 2019, 08:24 AM IST

डियर जिंदगी: बच्‍चों के साथ 'जंगल' की तरह व्‍यवहार करना है, 'सर्कस' की तरह नहीं

बच्‍चों को अपने जैसा नहीं बनाना. बात अजीब लग सकती है! बेतुकी लग सकती है. लेकिन जब हम एक पटरी पर चलने के अभ्‍यस्‍त हो जाते हैं तो अक्‍सर ऐसा ही होता है. माता-पिता का सबसे बड़ा संकट बच्‍चों पर नियंत्रण को लेकर है. हम बच्‍चों को आसमां में उड़ाने की बात तो करते हैं लेकिन ऐसा करते हुए उनकी दिशा पर अपना अधिकार रखते हैं! हम भूल जाते हैं कि बच्‍चे हमसे हैं, लेकिन हमारे लिए नहीं हैं!

Jan 31, 2019, 05:10 PM IST

डियर जिंदगी: रेगिस्तान होने से बचना!

शहर में हमारे घर आंगन एक दूसरे से इतने अलग और बंटे हुए हैं कि कब वहां सुख और दुख 'हमारे' ना होकर 'मेरे और तुम्हारे' में बदल जाते हैं, हम नहीं समझ पाते.  

Jan 31, 2019, 08:30 AM IST

डियर जिंदगी: ‘ऐसा होता आया है’ से मुक्ति!

जिंदगी में कुछ भी हासिल करने का संबंध केवल योग्‍यता से नहीं. उस योग्‍यता को साहस, डटे रहने और हिम्‍मत नहीं हारने का साथ सबसे जरूरी है!

Jan 30, 2019, 08:23 AM IST