BREAKING NEWS

इंतजार करने की कोई जरूरत नहीं, फरवरी महीने में ही किसानों को मिलेगी पहली सैलरी

बजट में पीयूष गोयल ने ऐलान किया कि दो हेक्टेयर जोत तक वाले किसानों को सालाना 6,000 रुपये सैलरी मिलेगी.

इंतजार करने की कोई जरूरत नहीं, फरवरी महीने में ही किसानों को मिलेगी पहली सैलरी
6000 रुपये तीन किस्तों में दी जाएगी. (फाइल)

नई दिल्ली: सरकार प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि (पीएम-किसान) योजना के तहत छोटे किसानों के खातों में इसी महीने से धन डालना शुरू कर देगी. आर्थिक मामलों के सचिव सुभाष चंद्र गर्ग ने पीटीआई भाषा से बजट बाद साक्षात्कार में यह जानकारी दी. गर्ग ने कहा कि किसानों को न्यूनतम आय समर्थन इसी महीने से मिलना शुरू हो जाएगा क्योंकि लाभार्थियों के आंकड़ें पहले ही तैयार हैं. 

वित्त मंत्री पीयूष गोयल ने शुक्रवार को बजट भाषण में इस योजना की घोषणा की थी. इस योजना के तहत दो हेक्टेयर जोत तक वाले किसानों को सालाना 6,000 रुपये का न्यूनतम समर्थन दिया जाएगा. यह राशि उनके खातों में तीन किस्तों में डाली जाएगी. सरकार ने चालू वित्त वर्ष में 12 करोड़ किसानों को योजना के तहत धन देने के लिए 20,000 करोड़ रुपये का प्रावधान किया है. 

मोदी सरकार दे सकती है किसानों को और बड़ा तोहफा, 6000 से ज्यादा मिलेगी सैलरी

गर्ग ने कहा, ‘‘इस योजना को एक दिसंबर, 2018 से क्रियान्वित करने का फैसला किया गया है. चालू वित्त वर्ष में इसके लिए 20,000 करोड़ रुपये की जरूरत है. इसके लिए बजट में आवंटन किया गया है. जमीन का रिकॉर्ड भी उपलब्ध है. हमारे पास छोटे और सीमान्त किसानों की सभी सूचनाएं उपलब्ध हैं.’’ 

नौ लाख रुपये तक की आय पर बचाया जा सकता है टैक्स, जानि‍ए ऐसे करें सेविंग

गर्ग ने बताया कि सरकार ने पिछले साल कृषि गणना 2015-16 जारी की थी. ज्यादातर राज्य इलेक्ट्रॉनिक तरीके से रिकॉर्ड रख रहे हैं. उन्होंने कहा कि कृषि विभाग अब इस रिकॉर्ड के जरिये उन परिवारों की पहचान करेगा जिन्हें इस योजना के तहत मदद दी जानी है. संसद का मौजूदा बजट सत्र 13 फरवरी तक चलेगा. गर्ग ने बताया कि पीएम-किसान योजना को पहले ही मंत्रिमंडल की मंजूरी मिल चुकी है. इस तरह योजना के क्रियान्वयन के लिए प्रशासनिक विभाग की आवश्यक मंजूरी भी हासिल हो चुकी है. 

(इनपुट-भाषा)

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.