शोध में खुलासाः कोविड-19 की चपेट में आने के 7 माह बाद भी मरीजों में पाए गये एंटीबॉडी

एक नए अध्ययन में दावा किया गया है कि किसी व्यक्ति के शरीर में नोवेल कोरोना वायरस संक्रमण से लड़ने वाला एंटीबॉडी तत्व इस महामारी के लक्षण महसूस होने के बाद, शुरुआती तीन हफ्तों में काफी तेजी से विकसित होता है और बीमारी की चपेट में आने के सात महीने बाद तक भी यह शरीर में मौजूद रहता है. 

शोध में खुलासाः कोविड-19 की चपेट में आने के 7 माह बाद भी मरीजों में पाए गये एंटीबॉडी

लंदन: एक नए अध्ययन में दावा किया गया है कि किसी व्यक्ति के शरीर में नोवेल कोरोना वायरस संक्रमण से लड़ने वाला एंटीबॉडी तत्व इस महामारी के लक्षण महसूस होने के बाद, शुरुआती तीन हफ्तों में काफी तेजी से विकसित होता है और बीमारी की चपेट में आने के सात महीने बाद तक भी यह शरीर में मौजूद रहता है. एंटीबॉडी शरीर का वो तत्व है, जिसका निर्माण हमारे शरीर की रोग प्रतिरोधक प्रणाली वायरस को बेअसर करने के लिए करती है.

198 मरीजों पर हुआ शोध
कोरोना वायरस से संक्रमित 300 रोगियों और इससे उबर चुके 198 लोगों पर किये गए अनुसंधान में यह बात सामने आई है. 'यूरोपियन जर्नल ऑफ इम्युनोलॉजी' में प्रकाशित इस अनुसंधान में पाया गया कि सार्स-कोव-2 वायरस की चपेट में आने वाले लोगों के शरीर में छह महीने बाद भी एंटीबॉडी तत्व सक्रिय रहा.

ये भी पढ़ें- Corona वैक्सीन वॉर: सीएम शिवराज के मुफ्त ऐलान पर घमासान, कांग्रेस के आरोप पर BJP का गरीब कार्ड

 90 प्रतिशत लोगों के शरीर में पाए गए एंटीबॉडी
पुर्तगाल के प्रमुख संस्थान आईएमएम के मार्क वेल्होएन के नेतृत्व में वैज्ञानिकों ने अस्पतालों में 300 से अधिक कोविड-19 रोगियों और स्वास्थ्य कर्मियों, 2500 यूनिवर्सिटी कर्मचारियों और कोरोना वायरस संक्रमण से उबर चुके 198 स्वयंसेवकों के शरीर में एंटीबॉडी स्तर का अध्ययन किया. अनुसंधान में पता चला कि 90 प्रतिशत लोगों के शरीर में कोविड-19 की चपेट में आने के सात महीने बाद भी एंटीबॉडी पाया गया.

 

 

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.