'कहीं भाई को तो नहीं कर रही डेट?' DNA टेस्ट रिजल्ट देख लड़की के उड़े होश
X

'कहीं भाई को तो नहीं कर रही डेट?' DNA टेस्ट रिजल्ट देख लड़की के उड़े होश

फेसबुक ग्रुप बनाने के बाद करीब 50 सीक्रेट भाई-बहन लड़की के संपर्क में आए. यानी ये सभी लड़के-लड़िकियां भी एक ही स्पर्म डोनर से पैदा हुए. लड़की का कहना है कि ये संख्या अभी और बढ़ सकती है.

'कहीं भाई को तो नहीं कर रही डेट?' DNA टेस्ट रिजल्ट देख लड़की के उड़े होश

नई दिल्ली: एक लड़की ने जब अपना डीएनए टेस्ट (DNA Test) कराया तो वह हैरान रह गई. डीएनए टेस्ट के बाद पता चला कि उसके 50 'सीक्रेट' भाई-बहन हैं. इन भाई-बहन के बारे में उसे पहले से कोई जानकारी नहीं थी, अब उसे भविष्य की एक अबीज आशंका का डर सता रहा है.   

DNA टेस्ट से पता चली ये अहम जानकारी

The Sun की रिपोर्ट के मुताबिक @izzyvn_98 नाम से TikTok यूजर ने एक वीडियो शेयर करते हुए हैरान करने वाला खुलासा किया है. इस वीडियो में उसने बताया कि 2018 में उसने अपने पूर्वजों के बारे में पता लगाने के लिए डीएनए टेस्ट कराया. डीएनए टेस्ट के बाद उसे पता चला कि वह इतालवी नहीं है. इसके बाद एक महिला ने मैसेज कर उसके बारे में जानकारी मांगी, क्योंकि महिला की बेटी का डीएनए भी इस लड़की से मेल खा रहा था.

स्पर्म डोनर से हुआ जन्म

असल में इस लड़की का जन्म 'स्पर्म डोनर' के जरिए हुआ है. लड़की की मां ने जन्म देने के लिए एक स्पर्म डोनर का इस्तेमाल किया ताकि उनका खुद का बच्चा हो सके लेकिन लड़की को अपने पिता के बारे में कोई जानकारी नहीं थी. जब वह डीएनए टेस्ट कराने के बाद ऐसी महिलाओं की खोज में निकली जिन्होंने भी सेम स्पर्म डोनर का सहारा लिया था. इसके बाद उसने एक अपने सभी 'भाई-बहनों' को ढूंढ़ने के लिए फेसबुक ग्रुप बनाया.

'बॉयफ्रेंड भी भाई न निकल आए'

फेसबुक ग्रुप बनाने के बाद करीब 50 सीक्रेट भाई-बहन उसके संपर्क में आए. यानी ये सभी लड़के-लड़िकियां भी एक ही स्पर्म डोनर से पैदा हुए. लड़की का कहना है कि ये संख्या अभी और बढ़ सकती है. इस वजह से उसे डर है कि आने वाले समय में वो जिसे डेट कर रही हो वो लड़का भी उसका भाई न निकल आए. इस बीच, TikTok वीडियो पर कमेंट करते हुए एक यूजर ने खुलासा किया कि स्पर्म डोनर के तौर पर उसके 150 बच्चे हुए हैं.

यह भी पढ़ें: सिरफिरे ने 2 बच्चियों को 8वीं मंजिल से फेंका नीचे, इस छोटी सी बात पर खोया आपा

क्या हैं नियम?

यूके में, एक डोनर 10 परिवारों को स्पर्म दे सकता है. अप्रैल 2005 में द ह्यूमन फर्टिलाइजेशन एंड एक्ट (एचएफई एक्ट) में संशोधनों के बाद स्पर्म डोनर के बारे में पूरी जानकारी देना अनिवार्य कर दिया गया. स्पर्म डोनर के जरिए पैदा हुए बच्चे अब 18 वर्ष के होने के बाद अपने पिता के बारे में जानकारी हासिल कर सकते हैं. 

LIVE TV

Trending news