वाह पाकिस्तान! देश भूखमरी के कगार पर, 'तोहफे में मिली कार' पर मनाया जा रहा 'जश्न'

एक तरफ पाकिस्तान में आधे से अधिक परिवार गरीबी के कारण दो वक्त की रोटी का जुगाड़ नहीं कर पा रहे हैं. दूसरी तरफ पाकिस्तानी अधिकारी इस बात को लेकर गदगद हैं कि उनके प्रधानमंत्री यानि इमरान खान को गिफ्ट में कार मिली है. 

वाह पाकिस्तान! देश भूखमरी के कगार पर, 'तोहफे में मिली कार' पर मनाया जा रहा 'जश्न'
पाकिस्‍तान पर इस समय करीब 105 अरब अमेरिकी डॉलर का विदेशी कर्ज है.

नई दिल्ली: एक तरफ पाकिस्तान में आधे से अधिक परिवार गरीबी के कारण दो वक्त की रोटी का जुगाड़ नहीं कर पा रहे हैं. बड़ी संख्या में बच्चे कुपोषण का शिकार हो रहे हैं. देश नकदी के संकट से जूझ रहा है वहीं दूसरी तरफ पाकिस्तानी अधिकारी इस बात को लेकर गदगद हैं कि उनके प्रधानमंत्री यानि इमरान खान को गिफ्ट में कार मिली है. ये कार किसी और ने नहीं बल्कि मलेशिया के प्रधानमंत्री महाथिर मोहम्मद ने पाकिस्तान के प्रधाननमंत्री इमरान खान को तोहफे में दी है. कार का मलेशिया से पाकिस्तान पहुंचने पर भव्य स्वागत किया गया.

मलेशिया के उच्चायोग में कार्यक्रम का आयोजन
पाकिस्तानी मीडिया में प्रकाशित रिपोर्ट के अनुसार, इमरान के व्यापारिक मामलों के सलाहकार अब्दुल रज्जाक दाऊद ने महाथिर की तरफ से भिजवाई गई 'प्रोटोन एक्स 70' की सुपुर्दगी ली है. वाहन को पाकिस्तानी अधिकारियों के हवाले करने के लिए मलेशिया के उच्चायोग में एक कार्यक्रम का आयोजन किया गया जहां कार को दाऊद को दिया गया.

इस मौके पर मलेशिया के उच्चायुक्त ने कहा कि 1947 के बाद से ही पाकिस्तान और मलेशिया के संबंध बहुत अच्छे रहे हैं. गौरतलब है कि प्रधानमंत्री महाथिर मोहम्मद ने अपने हालिया पाकिस्तान के दौरे में यह एसयूवी प्रोटोन इमरान को तोहफे में देने और इसे पाकिस्तान में बनाने के लिए प्लांट लगाने का ऐलान किया था. इमरान 19 से 21 दिसंबर तक मलेशिया के दौरे पर रहेंगे जहां उनकी मुलाकात महाथिर मोहम्मद से भी होनी है.

अरबों डॉलर का कर्ज है पाकिस्‍तान पर
आपको बता दें कि पाकिस्‍तान पर इस समय करीब 105 अरब अमेरिकी डॉलर का विदेशी कर्ज है. रिपोर्टों के अनुसार पाकिस्‍तान पर कर्ज का यह बोझ अब तक का सर्वाधिक है. जबकि 2004 की तीसरी तिमाही में यह 33 अरब डॉलर का था.

43 देशों की अर्थव्‍यवस्‍था के बराबर है रकम
पाकिस्‍तान पर कर्ज की रकम 105 अरब अमेरिकी डॉलर के करीब है. यह रकम 43 देशों की संयुक्‍त जीडीपी के बराबर है. इनमें किरीबाती, सामोआ, सेशेल्‍स, गांबिया, एंटिगुआ और बरबुडा, भूटान, मध्‍य अफ्रीका, लाइबेरिया, बुरुंडी, सुरीनेम, दक्षिण सूडान, सिएरा लियोन, मालदीव, बरबाडोज, फिजी जैसे देश शामिल हैं. इन 43 देशों की संयुक्‍त अर्थव्‍यवस्‍था करीब 107 अरब अमेरिकी डॉलर है.