अमेरिका ने ईरान को दिखाई आंखें, हमारे विवेक को ‘कमजोरी’ समझने की भूल न करो
Advertisement

अमेरिका ने ईरान को दिखाई आंखें, हमारे विवेक को ‘कमजोरी’ समझने की भूल न करो

बोल्टन ने यरूशलम में इजराइली प्रधानमंत्री बेंजमिन नेतन्याहू के साथ बैठक से पहले कहा, “न ही ईरान को और न ही किसी अन्य शत्रु राष्ट्र को अमेरिका के विवेक को कमजोरी समझने की भूल करनी चाहिए.”

अमेरिकी एनएसए जॉन बोल्टन और ईरान के राष्ट्रपति हसन रुहानी. फोटो: रॉयटर्स

यरूशलम: अमेरिका के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (एनएसए) जॉन बोल्टन ने ईरान को रविवार को आगाह करते हुए कहा कि वह तेहरान पर जवाबी हमले को आखिरी क्षणों में रद्द करने के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के फैसले को “कमजोरी” समझने की भूल न करे. बोल्टन ने यरूशलम में इजराइली प्रधानमंत्री बेंजमिन नेतन्याहू के साथ बैठक से पहले कहा, “न ही ईरान को और न ही किसी अन्य शत्रु राष्ट्र को अमेरिका के विवेक को कमजोरी समझने की भूल करनी चाहिए.”

उन्होंने कहा, “किसी ने भी उन्हें पश्चिम एशिया में हमले करने का लाइसेंस नहीं दिया है.” ईरान द्वारा बृहस्पतिवार को एक अमेरिकी ड्रोन मार गिराए जाने के जवाब में उस पर किए जाने वाले हमले को टालने के ट्रंप के निर्णय के बाद बोल्टन ने कहा, “हमारी सेना में नयी ऊर्जा है और वह हर परिस्थिति के लिए तैयार है.”

बोल्टन अपने इजराइली एवं रूसी समकक्ष मीर बेन शब्बत और निकोलाई पत्रुशेव के साथ पहले से तय त्रिपक्षीय मुलाकात के लिए इजराइल में मौजूद थे. उन्होंने गौर किया कि, “क्षेत्र की वर्तमान परिस्थितियों के कारण हमारी बातचीत जल्दी-जल्दी होनी चाहिए.”
ट्रंप ने शनिवार को ट्वीट कर ईरान पर सोमवार को नये “बड़े” प्रतिबंध लगाने की बात कही थी.

ईरान और वैश्विक ताकतों के बीच पिछले साल हुए ऐतिहासिक परमाणु समझौते से ट्रंप के बाहर होने के बाद से अमेरिका ने ईरान के खिलाफ कई प्रतिबंध लगाए हैं. बोल्टन ने यरुशलम में कहा, “हमारा अनुमान है कि जिन नये प्रतिबंधों को लेकर कुछ हफ्तों से तैयारी किए जाने की ओर राष्ट्रपति ट्रंप ने इशारा किया था उनकी घोषणा सोमवार को सार्वजनिक तौर पर की जाएगी. तब तक साथ बने रहें.”

Trending news