close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

पाकिस्तान में हिंदू छात्रा की मौत के मामले में सनसनीखेज खुलासा, मिला ये सबूत

 'रोजनामा पाकिस्तान' की रिपोर्ट के अनुसार, लरकाना स्थित शहीद मोहतरमा बेनजीर भुट्टो मेडिकल कॉलेज के बीबी आसिफा डेंटल कॉलेज की छात्रा नम्रता की डीएनए रिपोर्ट जारी कर दी गई है. 

पाकिस्तान में हिंदू छात्रा की मौत के मामले में सनसनीखेज खुलासा, मिला ये सबूत
.(फाइल फोटो)

लरकाना: पाकिस्तान के सिंध प्रांत के लरकाना की मेडिकल छात्रा नम्रता चंदानी की संदिग्ध हालात में मौत के मामले में सनसनीखेज जानकारी सामने आई है. नम्रता के शरीर व कपड़ों के नमूनों पर किसी पुरुष के डीएनए सैंपल के निशान मिले हैं. 'रोजनामा पाकिस्तान' की रिपोर्ट के अनुसार, लरकाना स्थित शहीद मोहतरमा बेनजीर भुट्टो मेडिकल कॉलेज के बीबी आसिफा डेंटल कॉलेज की छात्रा नम्रता की डीएनए रिपोर्ट जारी कर दी गई है. जामशोरो की फॉरेंसिक लैब से जारी की गई इस रिपोर्ट के मुताबिक, नम्रता के शरीर के नमूनों और कपड़ों पर एक पुरुष के डीनए सैंपल के निशान मिले हैं.

रिपोर्ट में बताया गया है कि लरकाना के एसएसपी मसूद बंगश ने बताया कि नम्रता की डीएनए रिपोर्ट संबंधित पुलिस स्टेशन को मिल चुकी है और इसे अदालत के समक्ष पेश किया जाएगा.लरकाना पुलिस ने बीती 16 सितंबर को नम्रता को मृत पाए जाने के बाद 17 सितंबर को उनके शरीर के नमूने और उनके कपड़े डीएनए जांच के लिए फॉरेंसिक लैब को भेज दिए थे. अब इसकी रिपोर्ट में बताया गया है कि इन पर पुरुष के डीएनए के निशान मिले हैं.

नम्रता का शव 16 सितंबर को उनके हास्टल के कमरे में मिला था. विश्वविद्यालय प्रशासन द्वारा और शुरुआती पोस्टमार्टम रिपोर्ट में भी कहा गया कि यह आत्महत्या का मामला हो सकता है, लेकिन नम्रता के परिजनों ने साफ कहा कि यह आत्महत्या नहीं बल्कि हत्या का मामला है. नम्रता के भाई विशाल पेशे से चिकित्सक हैं. उन्होंने कहा था कि शव को देखकर यह कहा जा सकता है कि उनकी बहन की हत्या की गई है.

 

पुलिस ने इस मामले में नम्रता के साथ पढ़ने वाले दो छात्रों को हिरासत में लिया था. इनमें से एक महरान अबरो की नम्रता से गहरी मित्रता पाई गई. अबरो का दावा है कि नम्रता उससे शादी करना चाहती थी लेकिन वह इसके लिए तैयार नहीं था और इस बात से वह काफी परेशान थी.

नम्रता के घरवालों, सहपाठियों, हिंदू समुदाय और सिंध की सिविल सोसाइटी ने इस मामले की निष्पक्ष जांच के लिए सरकार पर दबाव बनाया. इसके बाद इस मामले की न्यायिक जांच की जा रही है.