किन-किन तीन पुलिसकर्मियों की कॉल डिटेल में विकास दुबे से बात का रिकॉर्ड? जानिए

पुलिस पर हमला मामले में कानपुर के एसएसपी ने बड़ी कार्रवाई करते हुए चौबेपुर थाने के 3 और पुलिसकर्मियों को निलंबित किया गया. इन तीनों पुलिसकर्मियों की कॉल डिटेल में विकास दुबे से बातचीत का रिकॉर्ड है..

किन-किन तीन पुलिसकर्मियों की कॉल डिटेल में विकास दुबे से बात का रिकॉर्ड? जानिए

नई दिल्ली: हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे को लेकर हर पल नई-नई जानकारियां सामने आ रही हैं. कानपुर शूटआउट केस की जांच में विकास दुबे का खाकी के साथ कनेक्शन सामने आया है. जिसके बाद मामले में कानपुर के एसएसपी ने एक और बड़ी कार्रवाई की है.

थाने से किसने किया था विकास दुबे को फोन?

इस कार्रवाई के तहत चौबेपुर थाने के 3 और पुलिसकर्मियों को निलंबित किया गया. सब इंस्पेक्टर कुंवरपाल, कृष्णकांत और कॉस्टेबल विकास निलंबित किए गए और तीनों पुलिसकर्मियों की कॉल डिटेल में विकास दुबे से बात का रिकॉर्ड सामने आया है. आपको बता दें, थानाध्यक्ष विनय तिवारी को पहले ही निलंबित किया जा चुका है

कानपुर एनकाउंटर से जुड़ी 5 बड़ी खबरें

1) चौबेपुर थाने के 3 पुलिसवाले निलंबित
2) सब इंस्पेक्टर कुंवरपाल और कृष्णकांत शर्मा निलंबित
3) कॉन्स्टेबल राजीव को भी किया गया सस्पेंड
4) हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे का 2017 का वीडियो वायरल
5) विकास दुबे ने वीडियो में 2 बीजेपी विधायकों का नाम लिया

सरेंडर से पहले विकास को दबोचना चाहती है पुलिस

कानपुर में पुलिस पर हुए हमला मामले की जांच में तेजी आ गई है. सूत्रों के हवाले से ये जानकारी भी सामने आ रही है कि करीब 115 पुलिसवाले जांच के दायरे में हैं, जिनके कॉल रिकॉर्ड की भी जांच हो रही है. उत्तर प्रदेश के कई कोर्ट में अलर्ट जारी कर दिया गया है. बताया जा रहा है कि सरेंडर से पहले विकास दुबे को यूपी पुलिस गिरफ्तार करना चाहती है.

चौबेपुर थाने की पुलिस पर शक क्यों? जानिए यहां

यहां इस बात की भी जानकारी होनी आवश्यक है कि आखिरकार ये शक चौबेपुर थाने की पुलिस पर क्यों है? दरअसल, चौबेपुर थाने से ही गैंगस्टर विकास दुबे को फोन गया था. पुलिस की दबिश की जानकारी पहले दी गई और इस मुठभेड़ के दौरान पुलिस टीम में चौबेपुर थाना प्रभारी सबसे पीछे थे. एनकाउंटर के दौरान डीएसपी के घिरने के बाद चौबेपुर थाना प्रभारी विनय तिवारी भाग गए. ड्यूटी में लापरवाही बरतने पर निलंबित किए गए और तिवारी से से एसटीएफ की पूछताछ हो रही है जिसमें एक बड़ी जानकारी सामने आई है.

इसे भी पढ़ें: हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे के इस वायरल वीडियो ने भाजपा की मुश्किलें बढ़ा दी

आपको बता दें,  विकास के साथी दयाशंकर ने इस बात का खुलासा किया है कि दबिश से पहले विकास दुबे के पास थाने से फोन आया था. साथ ही विकास दुबे ने पुलिसवालों पर फायरिंग की थी और 25-30 लोगों को विकास दुबे ने ही बुलाया था. दयाशंकर ने ये भी खुलासा किया है कि वारदात से पहले लोगों को फोन कर बुलाया गया था.

इसे भी पढ़ें: विकास दुबे के साथ "वायरल कनेक्शन" पर भाजपा MLA भगवती सागर की सफाई

इसे भी पढ़ें: बड़ा खुलासा: SO विनय तिवारी ने फोन करके कटवाई थी गांव की बिजली, जानिए वजह