BJP के खिलाफ चुनाव आयोग का बड़ा ऐक्शन, अध्यक्ष दिलीप घोष को नोटिस

पश्चिम बंगाल में चल रहे विधानसभा चुनाव को लेकर चुनाव आयोग (Election Commission) ने एक्शन मूड अपना लिया है. आयोग ने बीजेपी नेताओं पर भी कार्रवाई की है. बंगाल बीजेपी अध्यक्ष दिलीप घोष को नोटिस जारी किया है.

Written by - Zee Hindustan Web Team | Last Updated : Apr 13, 2021, 05:42 PM IST
  • बंगाल बीजेपी अध्यक्ष दिलीप घोष को नोटिस जारी
  • बीजेपी नेता पर चुनाव आयोग ने 48 घंटे का बैन लगाया
BJP के खिलाफ चुनाव आयोग का बड़ा ऐक्शन, अध्यक्ष दिलीप घोष को नोटिस

नई दिल्ली: भारत निर्वाचन आयोग ने पश्चिम बंगाल भाजपा के अध्यक्ष दिलीप घोष के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की है. चुनाव आयोग (Election Commission) ने बंगाल बीजेपी अध्यक्ष को नोटिस जारी दिया है. दिलीप घोष के अलावा आयोग ने कई अन्य बीजेपी नेताओं पर भी कार्रवाई की है.

बुधवार तक देना है नोटिस का जवाब

चुनाव आयोग ने दिलीप घोष को नोटिस जारी किया है. कूचबिहार हिंसा पर दिलीप घोष विवादित बयान ने दिया था. कार्रवाई करने से पहले निर्वाचन आयोग ने ‘सीतलकूची जैसी घटनाओं की पुनरावृत्ति’ वाले बयान पर घोष को नोटिस भी भेजा.

आयोग ने पश्चिम बंगाल भाजपा के अध्यक्ष दिलीप घोष के खिलाफ उनके बयान को लेकर कार्रवाई की है, जिसमें घोष ने कथित रूप से कहा था कि ‘सीतलकुची जैसी घटना की पुनरावृत्ति अनेक स्थानों पर होगी.’ उल्लेखनीय है कि कूच बिहार के सीतलकूची में केंद्रीय बलों की गोलीबारी में चार लोग मारे गए थे.

आयोग ने घोष को नोटिस का जवाब देने और इन टिप्पणियों पर अपना रुख स्पष्ट करने के लिए बुधवार सुबह तक का वक्त दिया है. निर्वाचन आयोग से घोष की शिकायत तृणमूल कांग्रेस द्वारा की गई थी. नोटिस में घोष की उस कथित टिप्पणी का जिक्र है, जिसमें कहा गया था, ‘यदि कोई अपनी सीमाओं को पार करेगा तो आपने देखा ही है कि सीतलकूची में क्या हुआ. सीतलकूची जैसी घटना कई स्थानों पर होगी.’

राहुल सिन्हा को 48 घंटे के लिए किया बैन

दिलीप घोष के अलावा चुनाव आयोग ने बंगाल बीजेपी के पूर्व अध्य़क्ष राहुल सिन्हा को 48 घंटे के लिए बैन किया है. सीतालकुची में सुरक्षाबलों की कार्रवाई को सही ठहराते हुए कहा था- उन्हें 4 नहीं 8 लोगों को मारना चहिए था.

आयोग ने कहा है कि इस तरह के बयानों का कानून-व्यवस्था पर गंभीर असर पड़ेगा. आयोग ने सिन्हा के बयान की कड़ी निंदा की जिसमें उन्होंने कथित रूप से कहा था कि विधानसभा चुनाव के दौरान पश्चिम बंगाल के कूच बिहार जिले के सीतलकूची में केंद्रीय सुरक्षा बलों को चार लोगों के बजाय आठ लोगों की हत्या कर देनी चाहिए थी.

चुनाव आयोग ने बंगाल बीजेपी नेता शुवेंदु अधिकारी को भी चेतावनी दी है. 29 मार्च को दिए गए भाषण पर शुवेंदु को चेतावनी दी गई है. आयोग ने आपत्तिजनक बयानबाजी से बचने की सलाह दी. वहीं कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी की चुनाव आयोग से मांग की है. उन्होंने कहा कि कोरोना रोकने के लिए चुनावी रैलियों पर रोक लगाई जाए.

इसे भी पढ़ें- West Bengal Election: विवादों में फंसी ममता बनर्जी की 'धरना पॉलिटिक्स'

ममता बनर्जी कोलकाता में गांधी मूर्ति के पास धरने पर बैठी हैं और चुनाव आयोग के फैसले का विरोध कर रही हैं. ममता बनर्जी यहां व्हील चेयर पर ही धरना स्थल पर पहुंचीं. गांधी मूर्ति के पास धरने पर बैठीं ममता बनर्जी ने यहां पेटिंग बनाई. पेंटिंग के बाद ममता बनर्जी ने लोगों को भी इसे दिखाया

इसे भी पढ़ें- 'दीदी खेला करने की सोच रही थी, उन्हीं के साथ खेला हो गया'

Zee Hindustan News App: देश-दुनिया, बॉलीवुड, बिज़नेस, ज्योतिष, धर्म-कर्म, खेल और गैजेट्स की दुनिया की सभी खबरें अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें ज़ी हिंदुस्तान न्यूज़ ऐप.

ज़्यादा कहानियां

ट्रेंडिंग न्यूज़