• कोरोना वायरस पर नवीनतम जानकारी: भारत में संक्रमण के सक्रिय मामले- 5,95,501 और अबतक कुल केस- 19,64,537: स्त्रोत PIB
  • कोरोना वायरस से ठीक / अस्पताल से छुट्टी / देशांतर मामले: 13,28,337 जबकि मरने वाले मरीजों की संख्या 40,699 पहुंची: स्त्रोत PIB
  • कोविड-19 की रिकवरी दर 67.15% से बेहतर होकर 67.62% पहुंची; पिछले 24 घंटे में 51,706 मरीज ठीक हुए
  • गोवा MyGov के जनभागीदारी मंच में शामिल हुआ. सरकार के साथ अपनी राय, विचार और सुझाव साझा करने के लिए नागरिक रजिस्टर करें
  • कोविड-19 के खिलाफ लड़ाई में दिल्ली पुलिस की मदद करने के लिए 'कोरोना क्लीनर' का विकास
  • IIT दिल्ली के स्नातकों ने यूवी विकिरण का उपयोग करके 'कोरोना क्लीनर' का विकास किया
  • 74वें स्वंतत्रता दिवस का जश्न सेना, नौसेना और भारतीय वायु सेना के बैंड की संगीतमय प्रस्तुति के साथ मनाया जा रहा है
  • प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना चरण-1 : अप्रैल 2020 से जून 2020
  • राज्यों/ केंद्र शासित प्रदेशों ने एनएफएसए लाभार्थियों के बीच अप्रैल-जून 2020 की अवधि के लिए आवंटित खाद्यान्न का 93.5% वितरित किय
  • भारतीय रेलवे द्वारा अयोध्या स्टेशन को राम मंदिर के मॉडल के तर्ज विकसित किया जाएगा

सुशांत मामले में अब फंस गई मुंबई पुलिस

मुंबई पुलिस को ये पता है कि उसके ये कह देने से कि गलती से फ़ाइल डिलीट हो गई है, उसकी चोरी पकड़ में आ गई है. अब ये लगभग तय हो गया है कि मुंबई पुलिस गुनहगारों को बचा रही है..  

सुशांत मामले में अब फंस गई मुंबई पुलिस

नई दिल्ली.    कोई फ़ाइल कैसे डिलीट हो सकती है जब तक डिलीट न की जाए? ये बात हर वो इंसान अच्छी तरह जानता है जिसे कम्प्यूटर की ज़रा सी भी जानकारी हो. कोई भी व्यक्ति जिसे कंप्यूटर की जानकारी नहीं है कम्प्यूटर को हाथ न लगा सकता है न लगाता है. ऐसे में किसी कंप्यूटर जानने वाले व्यक्ति से कोई फ़ाइल कैसे डिलीट हो सकती है?

 

अब तो सीबीआई जांच तय है 

मुंबई की जो पुलिस इतनी अन-प्रोफेशनल है कि देश के एक हाईप्रोफाइल मर्डर की फ़ाइल उड़ा दे वो पुलिस इस मर्डर की जांच करने में सक्षम कैसे है? अब तो सीबीआई की जांच पक्की हो गई है क्योंकि मुंबई पुलिस की अक्षमता सिद्ध हो गई है और अब सीबीआई के अतिरिक्त कोई बेहतर विकल्प शेष नहीं है. 

 

मुंबई पुलिस की भूमिका की भी जांच हो

इस जांच में सुशांत के हत्यारों की पड़ताल के साथ मुंबई पुलिस की पड़ताल भी होनी चाहिए कि उसने फ़ाइल किस तरह से डिलीट की. सीबीआई को अपनी इंक्वायरी में ये भी जांच करनी होगी कि मुंबई पुलिस ने सुशांत की हत्या को आत्महत्या क्यों कहा. जांच ये भी करनी होगी कि मुंबई पुलिस जांच के लिए राजी क्यों नहीं है. आखिर क्यों मुंबई पुलिस ने बिहार पुलिस की जांच में रोड़े अटकाने की कोशिश की? जांच ये भी होनी चाहिए कि मुंबई पुलिस किसे बचाने के लिए इतनी मेहनत कर रही है?  

मुंबई पुलिस सक्षम नहीं अक्षम है  

चालीस से पैंतालीस दिन में एक एफआईआर तक दर्ज नहीं की जिस मुंबई पुलिस ने वह कहती है कि उसे सीबीआई की जरूरत नहीं वो इस मामले की जांच करने में सक्षम है. प्रश्न सक्षमता का नहीं है प्रश्न है मंशा का. जो पुलिस दूसरे राज्य से आई पुलिस की मदद करने की बजाये उसके काम में रोड़े अटकाए वो कितनी सक्षम है, समझा जा सकता है. 

मुंबई पुलिस का दुर्व्यवहार देश ने देखा 

जो दुर्व्यवहार मुंबई पुलिस ने बिहार पुलिस के साथ किया उसे सारे देश ने देखा है. बिहार पुलिस ने पोस्टमॉर्टेम रिपोर्ट मांगी तो मना कर दिया. बिहार पुलिस को गाड़ी नहीं दी, उनको ऑटोरिक्शा से जांच के लिए जाना पड़ा. बिहार पुलिस को मुंबई पुलिस ने कैदियों वाली गाड़ी में चोरों की तरह लगभग धक्का देते हुए बैठाया. और अब मुंबई पुलिस इस हद तक नीचे गिर गई है कि बेशर्मी से कह रही है कि फ़ाइल डिलीट हो गई है. ये फाइलें डिलीट हो गई हैं या डिलीट कर दी गई हैं - ये भी अब एक जांच का विषय बन गया है.

ये भी पढ़ें. सुशांत मर्डर मिस्ट्री: तीन तरह से जांच 'कातिलों' तक ले जा सकती है