• देश में कोविड-19 से सक्रिय मरीजों की संख्या 1,01,497 पहुंची, जबकि संक्रमण के कुल मामले 2,07615: स्त्रोत-PIB
  • कोरोना से ठीक होने वाले लोगों की संख्या- 1,00,303 जबकि अबतक 5,815 मरीजों की मौत: स्त्रोत-PIB
  • रेलवे ने 4155 श्रमिक स्पेशल ट्रेनों का परिचालन किया; 57+ लाख यात्रियों को उनके गंतव्य तक पहुँचाया गया
  • इलेक्ट्रॉनिक्स और आईटी मंत्री ने #AatmaNirbharBharat के लिए इलेक्ट्रॉनिक्स उत्पादन को बढ़ावा देने के लिए 3 योजनाओं की शुरुआत की
  • #AatmaNirbharBharat के लिए #MakeInIndia को प्रोत्साहित करने के लिए DPIIT ने पब्लिक प्रोक्योरमेंट ऑर्डर, 2017 में संशोधन किया
  • एंटी-कोविड ​​ड्रग मॉलेक्यूल के फास्ट-ट्रैक विकास के लिए SERDB-DST ने IIT (BHU) वाराणसी में अनुसंधान के लिए सहयोग को मंजूरी दी
  • ट्राइफेड कोविड ​​-19 के कारण संकट में पड़े आदिवासी कारीगरों को हरसंभव सहायता प्रदान करेगी
  • पीएसए और डीएसटी ने संयुक्त रूप से राष्ट्रीय विज्ञान प्रौद्योगिकी और नवाचार नीति 2020 के निर्माण की प्रक्रिया की शुरुआत की
  • कृषि, सहकारिता एवं किसान कल्याण विभाग ने विभिन्न बागवानी फसलों के लिए 2019-20 का दूसरा अग्रिम अनुमान जारी किए हैं
  • कोविड के लक्षण विकसित होने पर, घबराएं नहीं, तुरंत 1075 पर कॉल करें #IndiaFightsCorona #BreakTheStigma

दिल्ली में सबसे बड़ा कोरोना विस्फोट: 24 घंटे में 660 केस और 14 नए कंटेनमेंट जोन

देश की राजधानी दिल्ली में शुक्रवार को अब तक का सबसे बड़ा कोरोना विस्फोट हुआ है. पहली बार ऐसा हुआ है, जब दिल्ली में 24 घंटों के अंदर 660 नये मामले सामने आए हैं. ऐसे में कोरोना से मौत पर सियासत भी गरमा गई है.

दिल्ली में सबसे बड़ा कोरोना विस्फोट: 24 घंटे में 660 केस और 14 नए कंटेनमेंट जोन

नई दिल्ली: कोरोना के खिलाफ जंग में 54 दिनों के लॉकडाउन से उकताई दिल्ली को लॉकडाउन के चौथे चरण में छूट मिली तो वो दौड़ पड़ी. घरों में कैद लोग सड़कों पर उमड़ पड़े, गाड़ियों की कतार लग गई, दुकानों के शटर उठ गए, दफ्तरों के ताले खुल गए, गली मोहल्लों में चहलकदमी बढ़ गई लेकिन दिल्ली में रफ्तार पकड़ती जिंदगी पर कोरोना नजरें गड़ाए बैठा था.

शुक्रवार को दिल्ली में 660 नए केस

लॉकडाउन में मिली छूट ने कोरोना को दिल्ली पर वार करने का बड़ा मौका दे दिया. जिसकी गवाही बीते चार दिनों के आंकड़े दे रहे हैं. शुक्रवार को कोरोना ने दिल्ली में नए मामलों का नया रिकॉर्ड बना दिया. एक दिन में 660 नए केस, ये राजधानी में अब तक का एक दिन में नए मामलों का सबसे बड़ा आंकड़ा है. इससे पहले, 21 मई को 571 केस मिले थे, जबकि 20 मई को 534 और 19 मई को 500 नए मामले सामने आए थे.

यह लगातार चौथा दिन है जब 500 से ज्यादा मामले सामने आए हैं. शुक्रवार के आंकड़ों को मिला दें तो दिल्ली में इस प्राण घातक महामारी से संक्रमित होने वालों की संख्या 12,319 हो गई है. जबकि अब तक ये वायरस राजधानी में 208 लोगों की जान ले चुका है.

कोरोना से मौतों पर दिल्ली में सियासत

एक ओर देश की राजधानी दिल्ली में वायरस के संक्रमण का आंकड़ा बढ़ रहा है, तो वहीं दूसरी तरफ कोरोना से होने वाली मौत के आंकड़ों पर सियासी संग्राम छिड़ गया है. केजरीवाल सरकार कह रही है कि दिल्ली में कोरोना की वजह से अभी तक 208 लोगों की जान गई है लेकिन नगर निगम जिस पर डेथ सर्टिफिकेट जारी करने की जिम्मेदारी है, वो 564 लोगों की मौत का दावा कर रहा है. जाहिर है कोरोना को लेकर दिल्ली सरकार और एमसीडी जिस पर बीजेपी का कब्जा है, दोनों आमने सामने हैं.

राजधानी में कंटेनमेंट जोन की संख्या बढ़ी

राष्ट्रीय राजधानी में कोरोना वायरस की वजह से हालात दिन-ब-दिन बदतर होते जा रहे हैं. मरीजों और मौतों का आंकड़ा तो बढ़ा ही है. नए केंटेनमेंट जोन भी तेजी से बढ़ रहे हैं. जिन कंटेनमेंट जोन की संख्या घटकर 78 पहुंच गई थी. वो अब फिर बढ़कर 92 हो गए हैं. शुक्रवार को दिल्ली में कोरोना के 14 नए कंटेन्मेंट जोन बने. एक दिन में इतने कंटेन्मेंट जोन राजधानी में आज तक नहीं बने थे. जो नए कंटेनमेंट जोन बने हैं, उनमें इनके नाम शामिल हैं.

1. A-28, दीप एनक्लेव, पार्ट-2, विकासपुरी
2. RZ-535/11, गली नम्बर-46, साध नगर, पालम कॉलोनी
3. हाउस नम्बर- 667, गली नम्बर-3, गांव कंगनहेरी
4. फ्लैट नम्बर-102, DG3 ब्लॉक, विकासपुरी
5. J-106, पूरन नगर, मेन रोड, मेट्रो पिलर नम्बर 33 के पास, पालम कॉलोनी
6. F-204, विकासपुरी
7. हाउस नम्बर- 23 से 156, 15 से 191 और 230 से 233, सनलाइट कॉलोनी- 1
8. EE-ब्लॉक जहांगीरपुरी
9. हाउस नम्बर-690, लालबाग, आजादपुर
10. E-2 ब्लॉक, जहांगीरपुरी
11. D-1 जहांगीरपुरी
12. N-116, जेजे कैम्प, बादली
13. हाउस नम्बर- 92 से 212, नाहरपुर गांव
14. X-ब्लॉक, मंगोलपुरी

माथे पर शिकन पैदा करने वाली इन खबरों के बीच दिल्ली के लिए एक राहत की खबर ये है कि यहां कोरोना का रिकवरी रेट नेशनल रिकवरी रेट से ज्यादा हो है. यहां कोविड-19 पीड़ित 47 फीसदी लोग अब तक ठीक हो चुके हैं. जबकि राष्ट्रीय स्तर पर कोरोना से ठीक होने वालों का रिकवरी रेट 39.92% ही है.

इसे भी पढ़ें: हिन्दुस्तान की ज्योति की मुरीद हो गईं इवांका ट्रंप, जमकर की तारीफ

जाहिर है दिल्ली वाले कोरोना को हराने में कामयाब हो रहे हैं लेकिन अगर उन्होंने लापरवाही बरती तो कोरोना के बढ़ते मामले मुसीबत बढ़ा सकते हैं. इसलिए काम पर निकलते समय कोरोना को भी जेहन में रखें और लॉकडाउन के प्रोटोकॉल का पालन करते रहे तभी कोरोना के फैलाव पर लगाम कसी जा सकेगी.

इसे भी पढ़ें: ..और इस तरह चीन का गुलाम बन जाएगा पाकिस्तान

इसे भी पढ़ें: हल्दी से होगा कोरोना का खात्मा! जानिए, कैसे?