• देश में कोविड-19 से सक्रिय मरीजों की संख्या 1,10,960 पहुंची, जबकि संक्रमण के कुल मामले 2,26,770: स्त्रोत-PIB
  • कोरोना से ठीक होने वाले लोगों की संख्या- 1,09,462 जबकि अबतक 6,348 मरीजों की मौत: स्त्रोत-PIB
  • अंतर्राष्ट्रीय टीकाकरण गठबंधन के लिए भारत ने 15 मिलियन डॉलर देने का वचन दिया
  • केंद्र ने 4 जून, 2020 को राज्यों / संघ राज्य क्षेत्रों को जीएसटी मुआवजे के तौर पर 36,400 करोड़ रुपया जारी किया
  • कोविड-19 की रोकथाम हेतु MoHFW ने निवारक उपायों पर एसओपी जारी किया
  • ट्यूलिप– सभी यूएलबीऔर स्मार्ट शहरों में नए स्नातकों को अवसर प्रदान करने के लिए शहरी अध्ययन प्रशिक्षण कार्यक्रम की शुरूआत
  • स्वास्थ्य मंत्री ने दिल्ली को आक्रामक निगरानी, ​​संपर्क का पता लगाने और कड़े नियंत्रण कार्यों के साथ जांच बढ़ाने की आवश्यकता जोर
  • आइए कोविड-19 के खिलाफ भारत की लड़ाई को मजबूत करें और सरकार द्वारा जारी किए गए सभी दिशानिर्देशों का पालन करें
  • मनरेगा के तहत मजदूरी और सामग्री दोनों के ही लंबित बकाये को समाप्त करने के लिए राज्यों को 28,729 करोड़ रुपये जारी किए गए
  • पीएमजीकेपी के तहत (02.06.2020 तक): चालू वित्तीय वर्ष में 48.13 करोड़ मानव कार्य-दिवस के रोजगार का सृजन

हिन्दुस्तान की ज्योति की मुरीद हो गईं इवांका ट्रंप, जमकर की तारीफ

कोरोना वायरस से जूझ रही दुनिया इस मुश्किल वक्त में हर कोई जंग लड़ रहा है. लेकिन, दरभंगा की ज्योति ने जंग में ऐसी शानदार प्रतिभा का प्रदर्शन किया कि इवांका ट्रंप भी मुरीद हो गई...

हिन्दुस्तान की ज्योति की मुरीद हो गईं इवांका ट्रंप, जमकर की तारीफ

नई दिल्ली: हार को हराकर कामयाबी हासिल करने वालों का लोहा पूरी दुनिया मानती है. और जहां कोई उम्मीद ही ना बची हो और जिंदगी जब अंधेरों से घिरी हो उस वक्त एक 15 साल की ज्योति ने जब फैसला लिया और ऐसा करने का ठान लिया जो कोरोना के मुश्किल दौर में मिसाल बन गया, उसके इस मिसाल की गूंज अमेरिका तक सुनाई देने लगी. 

दरभंगा की ज्योति को इवांका का सलाम

अपने जख्मी पिता को साइकिल पर बिठाकर गुरुग्राम से 1200 किमी दूर दरभंगा पहुंची तो पूरी दुनिया हैरान रह गई. जिसने सुना उसने ज्योति की प्रशंसा की.  ज्योति के इस करानामे की देश ने तो सराहना की ही, अमेरिका भी इस मिसाल को देखकर चुप नहीं रह सका. ये खबर जब व्हाइट हाउस पहुंची तो अमेरिकी राष्ट्रपति  डोनाल्ड ट्रंप की बेटी इवांका भी ज्योति की प्रशंसा करने से खुद को रोक नहीं पाई. इवांका ट्रंप ने ज्योति की हिम्मत की दाद देत हुए ट्वीट कर दिया. 

इवांका ने अपने ट्वीट में लिखा कि "15 साल की ज्योति कुमारी ने अपने जख्मी पिता को साइकिल से सात दिनों में 1,200 किमी दूरी तय करके अपने गांव ले गई. सहनशक्ति और प्यार की इस वीरगाथा ने भारतीय लोगों और साइकलिंग फेडरेशन ऑफ इंडिया का ध्यान अपनी ओर खींचा है."

इवांका ट्रंप का ट्वीट-

भारतीय साइकिलिंग महासंघ का ऐलान

इवांका ट्रंप को ज्योति की कहानी की जानकारी तब हुई जब भारतीय साइकिलिंग महासंघ ने ज्योति से संपर्क किया. दरअसल, स्थानीय प्रशासन के जरिए ये खबर सीएफआई तक पहुंची थी. भारतीय साइकिलिंग महासंघ ने ज्योति को ट्रायल का एक मौका देने का फैसला किया है. मीडिया में खबर आते ही आग की तरह फैल गई. सीएफआई के निदेशक वीएन सिंह ने कहा कि महासंघ की तरफ से उसे ट्रायल का मौका दिया जाएगा. इसके अलावा यदि वो सीएफआई के मानकों पर थोड़ी भी खरी उतरेगी तो उसे स्पेशल ट्रेनिंग दी जाएगी साथ ही कोचिंग भी मुहैया कराई जाएगी.

जाहिर है ज्योति में कुछ तो बात तो रही होगी वरना 1200 किमी. साइकिल चलाकर बीमार पिता को लेकर गुरुग्राम से दरभंगा पहुंचना मामूली बात नहीं है.

मुश्किल वक्त में ज्योति ने मुश्किल को मुश्किल में डाला

जी हां, ये बिल्कुल सत्य है कि जो वक्त ज्योति और उसके परिवार के लिए सबसे मुश्किल वक्त में से एक था. उस वक्त मुश्किल को भी मुश्किल में डालकर ज्योति ने बहुत बड़ा काम करके दिखा दिया. दरअसल, ज्योति के पिता गुरुग्राम में दिहाड़ी मजदूरी का काम करते थे. लॉकडाउन की वजह से परिवार मुश्किलों का सामना कर रहा था. इसी बीच ज्योति के पिता जख्मी हो गए जिसकी वजह से मुश्किलें और बढ़ गई. आवाजाही पूरी तरह से बंद होने की वजह से ज्योति अपने पिता को लेकर साइकिल से ही दरभंगा के लिए निकल पड़ी.

ज्योति ने बताया था कि "हमारे कमरे का किराया नहीं था, मकान मालिक किराया मांग रहा था, खाने के लिए भी पैसा नहीं था." तो वहीं ज्योति के पिता ने कहा था कि "यहां पहुंचकर मुझे बहुत खुशी हुई है, इस बच्चे ने किसी तरह मुझे इस गांव में पहुंचाया, इस बच्चे पर मुझे बहुत गर्व है."

ज्योति 10 मई को अपने पिता को लेकर गुरुग्राम से दरभंगा के लिए निकली थी और 16 मई को अपने घर पहुंची. फिलहाल दोनों को क्वारंटाइन सेंटर में रखा गया है.

इसे भी पढ़ें: हल्दी से होगा कोरोना का खात्मा! जानिए, कैसे?

ज्योति की बहादुरी की जितनी तारीफ की जाए उतनी कम है जहां एक तरफ ज्योति की सरहाना हो रही है, वहीं दूसरी तरफ सवाल उठ रहा है कि ऐसी नौबत क्यों आई कि एक बेटी को अपने बीमार पिता को साइकिल पर बिठाकर 1200 किमी दूर गुरुग्राम से दरभंगा लाना पड़ा.

इसे भी पढ़ें: कोरोना वायरस की काट है देसी काढ़ा

इसे भी पढ़ें: ..और इस तरह चीन का गुलाम बन जाएगा पाकिस्तान