आजादी के बाद कोरोना महामारी देश की शायद सबसे बड़ी चुनौती : पूर्व RBI गवर्नर

महामारी के चलते भारत के लिए यह त्रासदी भरा समय है. आजादी के बाद कोविड-19 महामारी शायद देश की सबसे बड़ी चुनौती है. राजन ने कहा, जब महामारी पहली बार आई तो लॉकडाउन की वजह से चुनौती मुख्यत: आर्थिक थी, लेकिन अब चुनौती आर्थिक और व्यक्तिगत दोनों ही है. 

Written by - Zee Hindustan Web Team | Last Updated : May 16, 2021, 10:28 AM IST
  • देश में प्रतिदिन तीन लाख से अधिक मामले सामने आ रहे हैं
  • सुधार चुपके से नहीं बल्कि कई बार खुलकर करना होता हैः राजन
आजादी के बाद कोरोना महामारी देश की शायद सबसे बड़ी चुनौती : पूर्व RBI गवर्नर

नई दिल्लीः भारतीय रिज़र्व बैंक (आरबीआई) के पूर्व गवर्नर रघुराम राजन ने शनिवार को कहा कि स्वतंत्रता के बाद कोविड-19 महामारी देश की शायद सबसे बड़ी चुनौती. राजन ने साथ ही कहा कि कई जगहों पर विभिन्न कारणों के चलते सरकार लोगों की मदद के लिए मौजूद नहीं थी.

एक ऑनलाइन कार्यक्रम मे बोले राजन
दिल्ली में यूनिवर्सिटी ऑफ शिकागो सेंटर द्वारा आयोजित एक ऑनलाइन कार्यक्रम को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि भारत को सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम क्षेत्र के लिए दिवालिया घोषित करने की एक त्वरित प्रक्रिया की आवश्यकता है.

आर्थिक और व्यक्तिगत दोनों ही चुनौती
उन्होंने कहा, महामारी के चलते भारत के लिए यह त्रासदी भरा समय है. आजादी के बाद कोविड-19 महामारी शायद देश की सबसे बड़ी चुनौती है. 

राजन ने कहा, जब महामारी पहली बार आई तो लॉकडाउन की वजह से चुनौती मुख्यत: आर्थिक थी, लेकिन अब चुनौती आर्थिक और व्यक्तिगत दोनों ही है और जैसे हम आगे बढ़ेंगे तो इसमें एक सामाजिक तत्व भी होगा.

यह भी पढ़िएः Corona in World: दुनियाभर में 16.21 करोड़ पहुंचे कोरोना के मामले

मृतकों की संख्या भी लगातार बढ़ी
देश में हाल के सप्ताहों के दौरान लगातार प्रतिदिन तीन लाख से अधिक मामले सामने आ रहे हैं और मृतकों की संख्या भी लगातार बढ़ी है. उन्होंने कहा, इस महामारी का एक प्रभाव यह है कि विभिन्न कारणों से हमने सरकार की मौजूदगी नहीं देखी.

राजन ने रेखांकित किया कि महाराष्ट्र सरकार कोविड-19 मरीजों को ऑक्सीजन बिस्तर मुहैया करा पा रही है. उन्होंने कहा, कई स्थानों पर इस स्तर पर भी सरकार काम नहीं कर रही.

समाज के बारे में गंभीरता से सवाल उठाना जरूरी
RBI के पूर्व गवर्नर के कहा कि महामारी के बाद यदि हम समाज के बारे में गंभीरता से सवाल नहीं उठाते हैं तो यह महामारी जितनी ही बड़ी त्रासदी होगी.
राजन मौजूदा समय में यूनिवर्सिटी ऑफ शिकागो बूथ स्कूल ऑफ बिजनेज में एक प्रोफेसर हैं. उन्होंने कहा कई बार आपको सुधार चुपके से नहीं बल्कि पूरी तरह से खुलकर करना होता है.

मेरा भाषण सरकार की आलोचना नहीं
भारतीय प्रौद्योगिक संस्थान (IIT) दिल्ली में दिए अपने भाषण को याद करते हुए कहा राजन ने कहा, मेरा भाषण सरकार की आलोचना नहीं थी. कई बार चीजों की कुछ ज्यादा ही व्याख्या की जा जाती है. राजन के मुताबिक 31 अक्टूबर 2015 को आईआईटी दिल्ली के दीक्षांत समारोह के उनके भाषण को प्रेस ने सांकेतिक विरोध के तौर पर देखा.

यह भी पढ़िएः भारत में कोरोना वैक्सीन की कमी पर बोले पूनावाला, उत्पादन बढ़ाने की पुरजोर कोशिश जारी

Zee Hindustan News App: देश-दुनिया, बॉलीवुड, बिज़नेस, ज्योतिष, धर्म-कर्म, खेल और गैजेट्स की दुनिया की सभी खबरें अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें ज़ी हिंदुस्तान न्यूज़ ऐप.  

ज़्यादा कहानियां

ट्रेंडिंग न्यूज़