चेन्नई के जवाहरलाल नेहरू स्टेडियम में रेमेडिसविर लेने के लिए जुटी भीड़, कोरोना प्रोटोकॉल की उड़ी धज्जियां

चेन्नई के जवाहरलाल नेहरू स्टेडियम में रेमेडिसविर खरीदने के लिए सैकड़ों लोग पहुंचे. वह कतार में खड़े तो थे, लेकिन कंधों से कंधा टकराते ये लोग कोरोना के डर को धता बता रहे थे. कोरोना प्रोटोकॉल व सोशल डिस्टेंसिंग नियमों की तो खुले आम धज्जियां उड़ते हुए दिखाई दीं. 

Last Updated : May 16, 2021, 12:51 PM IST
  • बड़ी जगह के कारण स्टेडियम में वितरित हो रही थी रेमेडिसविर
  • लेकिन, यहां भी लोगों की लगी भीड़, एक-दूसरे पर चढ़े दिखे लोग
चेन्नई के जवाहरलाल नेहरू स्टेडियम में रेमेडिसविर लेने के लिए जुटी भीड़, कोरोना प्रोटोकॉल की उड़ी धज्जियां

चेन्नईः एक तरफ जहां Corona से हाहाकार मचा हुआ और इसके बचाव के लिए लोग हर जरूरी तरीके पर जोर दे रहे हैं, वहीं देशभर का सिस्टम इस कदर लचर है कि हर तरह की जागरूकता और दावे की हवा निकल जा रही है. जीवन बचाए रखने की मजबूरी ही मौत का सबब बन जा रही है.

शनिवार को ऐसी ही एक वीभत्स तस्वीर नजर आई. यह नजारा चेन्नई का था, जहां रेमेडिसविर इंजेक्शन खरीदने के लिए लोगों ने न सिर्फ भीड़ लगा ली, बल्कि एक-दूसरे के ऊपर चढ़े भी नजर आए. 

मौत की कतार में लगे लोग
जानकारी के मुताबिक, चेन्नई के जवाहरलाल नेहरू स्टेडियम में रेमेडिसविर खरीदने के लिए सैकड़ों लोग पहुंचे. वह कतार में खड़े तो थे, लेकिन कंधों से कंधा टकराते ये लोग कोरोना के डर को धता बता रहे थे. कोरोना प्रोटोकॉल व सोशल डिस्टेंसिंग नियमों की तो खुले आम धज्जियां उड़ते हुए दिखाई दीं. स्टेडियम में रेमडेसिविर की बिक्री के पहले दिन लोग अपने प्रियजनों के लिए एंटीवायरल दवा खरीदने के लिए बड़ी संख्या में इकट्ठा हुए थे.

यह भी पढ़िएः स्टेरोइड्स के दुरूपयोग के कारण बढ़ रहा है ब्लैक फंगस का खतरा: डॉ गुलेरिया

अपनों की जिंदगी बचाने के लिए कुछ भी
यहां अपनी बारी का इंतजार कर रहे एक युवक ने कहा कि वह पिछले 10 दिनों से रेमडेसिविर लेने की कोशिश में है. उनके माता-पिता कोविड-19 पॉजिटिव पाए गए हैं और डॉक्टरों ने उन दोनों के लिए रेमडेसिविर लेने के लिए कहा है.

शनिवार की सुबह युवक के पिता नहीं रहे. जिसके बाद वह अपनी मां को बचाने के लिए रेमडेसिविर लेने के लिए स्टेडियम पहुंचे थे. 

हर किसी की यही व्यथा
ठीक इसी तरह एक और युवक भी Jawaharlal Nehru Stadium पहुंचे था. ताकि इंजेक्शन ले सके. वह दोपहर 1 बजे से यहां खड़ा था. उन्हें भी सुबह ही टोकन मिला लेकिन देखते-देखते इंजेक्शन चाहने वालों की तादाद बहुत बढ़ गई. वह चेन्नई से 30 किमी दूर स्थिति गांव से आए हैं. उनके माता-पिता और भाई तीनों ही संक्रमित हैं. उन्हें रेमेडिसविर की जरूरत है. लेकिन यहां की स्थिति ऐसी है कि इस भीड़ में और भी लोग कोरोना संक्रमित हो सकते हैं. 

यह भी पढ़िएः Corona in India: देश में कोरोना का कहर जारी, सामने आए 3 लाख से ज्यादा नए मामले

बड़ी जगह के कारण चुनी गई स्टेडियम की जगह
तमिलनाडु में हर दिन 7,000 रेमडेसिविर इंजेक्शन मिल रहे हैं. राज्य सरकार यह तर्क दे रही है कि यह जरूरत से काफी कम हैं और मांग की है कि इसके दैनिक आवंटन को बढ़ाकर प्रतिदिन 20,000 इंजेक्शन किया जाना चाहिए.

हाल ही में, राज्य सरकार ने मद्रास हाईकोर्ट को बताया था कि उसने जवाहरलाल नेहरू स्टेडियम में रेमडेसिविर वितरित करने का निर्णय लिया है क्योंकि उसमें बड़ी जगह है और वहां सामाजिक दूरी सुनिश्चित की जा सकती है. 

Zee Hindustan News App: देश-दुनिया, बॉलीवुड, बिज़नेस, ज्योतिष, धर्म-कर्म, खेल और गैजेट्स की दुनिया की सभी खबरें अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें ज़ी हिंदुस्तान न्यूज़ ऐप.  

ज़्यादा कहानियां

ट्रेंडिंग न्यूज़