• पूर्वी लद्दाख में महीने भर से भारत-चीन के बीच जारी सीमा पर तनाव के बीच दोनों पक्षों में बातचीत
  • भारत और चीन के बीच दोनों पक्षों की तरफ से लेफ्टिनेंट जनरल स्तर की बातचीत की गई
  • दोनों पक्षों के बीच यह बातचीत पूर्वी लद्दाख में चीन की साइड में लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल पर माल्डो में हुई
  • लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल LAC पर माल्डो में बॉर्डर पर्सनल मीटिंग की जाती है
  • इंडियन आर्मी के एक प्रवक्ता ने बातचीत का जिक्र किए बिना जानकारी दी
  • 'भारत-चीन सीमा पर मौजूदा हालात को देखते हुए दोनों देशों के अधिकारी तयशुदा सैन्य और कूटनीतिक माध्यमों से जुड़ना जारी रखेंगे'
  • लेफ्टिनेंट जनरल स्तर की बातचीत से पहले स्थानीय कमांडरों के स्तर पर दोनों सेनाओं के बीच 12 राउंड बातचीत हो चुकी है
  • इसके अलावा शनिवार की बातचीत से पहले दोनों देशों के बीच 3 मेजर जनरल स्तर की भी बातचीत हुई है
  • सीमा पर जारी गतिरोध को खत्म करने के लिए दोनों देशों के बीच यह पहली बड़ी कोशिश: आधिकारिक सूत्र
  • भारतीय प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व लेह स्थित 14वीं कोर के जनरल कमांडिंग ऑफिसर लेफ्टिनेंट जनरल हरिंदर सिंह ने की

यहां बन गया देश का पहला मेडिकल कॉल सेंटर, जानिए क्या हैं सुविधाएं

कोरोना वायरस से लड़ने के लिए उत्तर प्रदेश के नोएडा में अत्याधुनिक कॉल सेंटर बनकर तैयार हो चुका है. खास बात यह है कि ये देश का पहला कोरोना मेडिकल कॉल सेंटर है. 

यहां बन गया देश का पहला मेडिकल कॉल सेंटर, जानिए क्या हैं सुविधाएं

नोएडाः देश भर में कोरोना का संकट दौर जारी है. सभी राज्य अपने स्तर पर जी-जान से कोरोना से बचने के लिए जूझ रहे हैं. युद्धस्तर पर बचाव जारी हैं और लगातार उपाय जारी हैं. इन सबके बीच कोरोना से जंग में उत्तर प्रदेश की प्रशंसा हो रही है. राज्य सरकार लगातार सक्रियता बनाए हुए है और ऊपर से लेकर नीचे तक हर क्रम में जिम्मेदारी तय है. 

इसी जंग के बीच यूपी के नाम एक और उपलब्धि जुड़ गई है. दरअसल उत्तर प्रदेश में देश का पहला कोरोना मेडिकल कॉल सेंटर बनकर तैयार हो गया है. 

नोएडा में बना मेडिकल कॉल सेंटर
कोरोना वायरस के मामलों में लगातार इजाफा देखने को मिल रहा है. इस बीच कोरोना वायरस से लड़ने के लिए उत्तर प्रदेश के नोएडा में अत्याधुनिक कॉल सेंटर बनकर तैयार हो चुका है. खास बात यह है कि ये देश का पहला कोरोना मेडिकल कॉल सेंटर है.

यह कॉल सेंटर नोएडा-ग्रेटर नोएडा एक्सप्रेस-वे पर सेक्टर-126 में एचसीएल के कॉल सेंटर में बनाया गया है. दरअसल, गुरुवार को ही नोएडा के जिलाधिकारी सुहास एल वाई ने कोरोना वायरस से लड़ने के लिए अत्याधुनिक मेडिकल कॉल सेंटर बनाने की बात कही थी. साथ ही इसे 48 घंटे में चालू करने के बात भी कही थी.

कोरोना-काल में भारत को राहत की 5 बड़ी वजहें

इन सुविधाओं से है लैस
इस मेडिकल कॉल सेंटर के लिए तकनीकी सुविधाएं एच सी एल सॉफ्टवेयर कंपनी ने मुहैया कराई है. साथ ही मेडिकल सुविधाएं शारदा मेडिकल कॉलेज की ओर से मुहैया कराई जा रही हैं. जिला प्रशासन ने शारदा मेडिकल कॉलेज से 12 जूनियर डॉक्टर कॉल सेंटर में नियुक्त करने की मांग की, जिन्हें शारदा मेडिकल कॉलेज ने नियुक्त कर दिया है.

इस मेडिकल कॉल सेंटर में आधुनिक सुविधाओं के साथ ही कोरोना वायरस पर जानकारी रखने वाले डॉक्टर नियुक्त होंगे. कॉल सेंटर का नोडल अधिकारी गौतमबुद्ध नगर के अपर जिलाधिकारी (वित्त और राजस्व) बलराम सिंह को बनाया गया है.

लगातार बढ़ रहे मामले
उत्तरप्रदेश में सबसे ज्यादा कोरोना वायरस के संक्रमित मरीज गौतमबुद्धनगर (नोएडा) में मिले हैं. जिले में अब तक 50 लोग कोरोना वायरस से संक्रमित पाए जा चुके हैं. जिले में कोरोना संक्रमण के मामले लगातार बढ़ते जा रहे हैं, जिसके कारण जिला प्रशासन, पुलिस और स्वास्थ्य विभाग युद्धस्तर पर काम कर रहे है.

डॉक्टरों से अभद्रता करने वालों पर सीएम योगी सख्त, दी कड़ी चेतावनी