कुदरत का कोल्ड WAR! ठंड से जम गया द्रास

कुदरत ने इन दिनों दिसंबर के महीने में सर्दी का ऐसा प्रकोप फैलाया है, जिससे हर कोई ठिठुरा हुआ है. कारगिल जिले के द्रास इलाके का हाल ऐसा है कि यहां पाइप से पानी नहीं 'बर्फ' की सप्लाई हो रही है.

कुदरत का कोल्ड WAR! ठंड से जम गया द्रास

नई दिल्ली: देश का उत्तरी और पूर्वी हिस्सा भीषण सर्दी से कांप रहा है. रविवार को -28° सेल्सियस तापमान के साथ द्रास देश का सबसे ठंडा हिस्सा रहा. पंजाब, हरियाणा, बिहार, मध्य प्रदेश, झारखंड और राजस्थान में शीतलहर जारी है. 

भारत की सबसे ठंडी जगह

अगर आप 5 डिग्री, 3 डिग्री या जीरो डिग्री वाले मौसम से सहमे हुए हैं और आपको लग रहा है कि बहुत ज्यादा ठंड है. तो आप गलत हैं. भारत में एक ऐसी जगह है जहां का तापमान माइनस 2, 4 या 10 डिग्री बल्कि माइनस 28 डिग्री से भी नीचे आ गया है.

कारगिल जिले का द्रास इलाका आज की तारीख में ये जगह भारत की सबसे ठंडी जगह है और दुनिया की दूसरी सबसे ठंडी जगह है.

-28.7 डिग्री सेल्सियस तापमान से जमा द्रास

यहां का तापमान सुनकर ही हर किसी के रौंगटे खड़े हो जाएंगे. इस जगह का रविवार का तापमान माइनस 28 दशमलव 7 डिग्री सेल्सियस रहा. द्रास में सब कुछ जम सा गया है. जहां तक किसी की भी नजर जाएगी. सिर्फ बर्फ ही बर्फ नजर आएगा. द्रास को देखकर लगेगा जैसा कोई सफेद जन्नत है. द्रास में बहने वाली नदी भी पूरी तरह से जम गई है. 

पाइप से पानी नहीं 'बर्फ' की सप्लाई

पानी सप्लाई के लिए आए वाटर टैंक में पानी जम गया है. घर की छतों पर बर्फ की मोटी परत जम गई है. दुकानों के बाहर बर्फ जमी हुई है. लोग जमी हुई बर्फ को हटाने की जद्दोजहद कर रहे है. घनघोर ठंड के कारण गाड़ियां बंद हो जा रही हैं. द्रास को दुनिया दूसरा सबसे ठंडा इलाका कहा जाता है. हालांकि इस सीजन में द्रास का तापमान माइनस 30 डिग्री तक भी जा चुका है. ऐसे में इस बात का अंदाजा लगा पाना भी बेहद मुश्किल है कि यहां रहने वाला की ज़िंदगी कितनी कठिन होगी.

इसे भी पढ़ें: भीषण सर्दी से कांपी दिल्ली, पारा 1.7 डिग्री तक पहुंचा

पूरे देश में ठंडी की मार से हर तरफ हाहाकार मचा हुआ है. शीतलहर का काला बादल कुछ इस कदर छाया हुआ है कि राजधानी दिल्ली में भी 100 साल बाद सबसे ठंडा दिसंबर है और यहां मौसम विभाग ने रेड अलर्ट जारी किया है.

इसे भी पढ़ें: भीषण ठंड से ठिठुर रहा उत्तर भारत, लेह में जमी सिंधु नदी