भीषण सर्दी से कांपी दिल्ली, पारा 1.7 डिग्री तक पहुंचा

देश की राजधानी दिल्ली इस समय भीषण सर्दी और शीतलहर का प्रकोप झेल रही है. ठंडी और कंपाने वाली हवाओं ने लोगों का जीना मुश्किल कर दिया है. पिछले कई वर्षों का रिकॉर्ड तोड़ते हुए पारा 1.7 डिग्री तक पहुंच गया.

भीषण सर्दी से कांपी दिल्ली, पारा 1.7 डिग्री तक पहुंचा

दिल्ली: राजधानी दिल्ली समेत पूरा उत्तर भारत इन दिनों कड़ाके की सर्दी और शीतलहर की चपेट में है. दिल्ली में लगातार लुढ़कते पारे के साथ कंपकंपाने वाली ठंड पड़ रही है. राजधानी में शनिवार को न्यूनतम तापमान गिरकर 1.7 डिग्री पर पहुंच गया. मौसम विभाग के मुताबिक शनिवार को सुबह 8.30 बजे दिल्ली के सफदरजंग एन्क्लेव में 2.4 डिग्री, पालम में 3.1 डिग्री, लोधी रोड में 1.7 डिग्री और आया नगर में 1.9 डिग्री रिकॉर्ड किया गया. शनिवार को दिल्ली का न्यूनतम तापमान 1.7 डिग्री रहा है.

ठंडी हवाओं से कांपा पूरा NCR

मौसम विभाग ने जानकारी दी कि 118 साल में ये दूसरा दिसंबर है, जब दिल्ली में इतनी कड़ाके की ठंड पड़ रही है. इससे पहले 1997 में इतनी लंबी ठंड पड़ी थी. राजधानी में बीती रात न्यूनतम तापमान 3.6 डिग्री रिकॉर्ड किया गया था. इसके अलावा दिल्ली से सटे नोएडा, गुरुग्राम में भी सर्दी से लोग ठिठुर रहे हैं. सुबह 6:10 बजे तक दिल्ली का न्यूनतम तापमान 2.4 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया था. घने कोहरे और बर्फीली हवाओं के बीच लोगों का घर से निकलना मुश्किल हो गया है.

हरियाणा और पंजाब में भी पड़ रही कड़ाके की ठंड

हरियाणा और पंजाब में पड़ रही कड़ाके की ठंड शुक्रवार को भी जारी रही. हिसार में पारा नीचे लुढ़ककर 0.3 डिग्री पर पहुंच गया. मौसम विभाग के एक अधिकारी ने बताया कि हरियाणा के हिसार में पिछली रात मौसम की सबसे ठंडी रात रही, जब न्यूनतम तापमान छह डिग्री नीचे गिर गया. अमृतसर में तापमान पांच डिग्री सेल्सियस, लुधियाना में 5.6 डिग्री, हलवारा 5.5 डिग्री, गुरदासपुर में 5.8 डिग्री और पटियाला में तापमान 6.9 डिग्री सेल्सियस रहा। दोनों राज्यों की संयुक्त राजधानी चंडीगढ़ में न्यूनतम तापमान 6.6 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया.

अभी तीन दिनों तक नहीं मिलेगी राहत

मौसम वैज्ञानिकों ने बताया कि फिलहाल तीन दिनों तक भीषण ठंड से राहत नहीं मिलेगी क्योंकि हिमालय की तलहटी से चलने वाली बर्फीली हवाओं की दिशा अभी बदली नहीं है. जब तक ये हवाएं उत्तर भारत की और बहेंगी तब तक ऐसी ही सर्दी पड़ेगी. अनुमान व्यक्त किया जा रहा है कि हिमालय की तलहटी से चलने वाली बर्फीली हवाओं की दिशा तीन दिन बाद परिवर्तित होगी. मौसम विभाग के मुताबिक उत्तर भारत में आने वाले दिनों में पारा और गिर सकता है. इसके कारण ठंड ज्यादा बढ़ सकती है.

ये भी पढ़ें- हिंदुस्तान बना 'सर्दि'स्तान! देश को जमा देने वाली 'ठंड'