आतंकी हमले के इनपुट पर अलर्ट, दिल्ली मेट्रो में मिले एक करोड़ रुपये

 दिल्ली मेट्रो में एक युगल के पास एक करोड़ की रकम से भरा बैग मिला है. दिवाली पर हर जगह सुरक्षा कड़ी करने की बात कही जा रही है. इसके साथ ही यह भी खबर है कि दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल को आतंकी हमलों के इनपुट मिले हैं. गृहमंत्रालय ने भी हिंदूवादी नेताओं की सुरक्षा को लेकर समीक्षा करने के आदेश दिए हैं. ऐसे में इतनी बड़ी रकम का पकड़ा जाना किसी साजिश की कड़ी भी हो सकता है. 

आतंकी हमले के इनपुट पर अलर्ट, दिल्ली मेट्रो में मिले एक करोड़ रुपये

नई दिल्लीः दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल को आतंकी और हिंदूवादी नेताओं पर हमलों के इनपुट मिले हैं. इस पर अलर्ट के बीच दिल्ली मेट्रो में एक बैग से एक करोड़ रुपये बरामद हुए हैं. स्कैनर में बैग देखे जाने के बाद शक हुआ तो इसकी जांच की गई और जो सामने आया उससे सुरक्षाकर्मियों की आंखे फटी रह गईं. हालांकि मामला गुरुवार का है. मेट्रो की वायलेट लाइन पर स्थित स्टेशन जंगपुरा पर एक युवक-युवती बैग लेकर आए थे, जिन्हें पकड़कर मेट्रो पुलिस के हवाले कर दिया गया है. बाद में मामला आयकर विभाग को सौंप दिया गया. 

चांदनी चौक में देनी थी रकम


सीआईएसएफ और दिल्ली मेट्रो रेल पुलिस के अधिकारियों से मिली जानकारी के आधार पर सामने आया कि गुरुवार सुबह जंगपुरा स्टेशन पर तैनात सुरक्षाकर्मियों को एक बैग की चेकिंग के दौरान कुछ शक हुआ। जब बैग खोलकर देखा गया तो उसमें से कुल एक करोड़, एक हजार रुपये बरामद हुए। बैग लेकर आए युवक-युवती की पहचान राजस्थान के रहने वाले विकास चौहान (20) और जबलपुर की आरती (20) के तौर पर हुई है. दोनों जब कोई सटीक जवाब नहीं दे पाए तो इसके बाद नेहरू प्लेस स्थित मेट्रो रेल पुलिस के थाने में मामले की जानकारी दी गई. इसके बाद सीआईएसएफ और रेलवे पुलिस के सीनियर अफसर भी वहां पहुंच गए। इनकम टैक्स विभाग के अफसरों को भी इस बारे में जानकारी दे दी गई. पूछताछ में सामने आया है कि यह लोग जबलपुर से पैसे लेकर चले थे। वहां के एक व्यापारी ने इन्हें यह रकम दी थी, जो इन्हें दिल्ली के चांदनी चौक में किसी को सौंपनी थी. उस जगह का पता इन्हें चांदनी चौक पहुंचने के बाद फोन पर बताया जाने वाला था, लेकिन उससे पहले ही दोनों पकड़े गए।

मेट्रो पकड़ने की गलती की
सुरक्षा एजेंसियों की पूछताछ में दोनों ने दावा किया कि वे चांदनी चौक में खरीदारी करने के लिए जा रहे थे. हालांकि बार-बार पूछने पर भी वे रकम से संबंधित कोई कागजात पेश नहीं कर सके. बताया गया कि सख्ती से पूछताछ में उन्होंने बताया कि यह हवाला की रकम है. वह ट्रेन से मध्य प्रदेश से आए थे, लेकिन हजरत निजामुद्दीन स्टेशन पर उतरने के बाद उन्होंने चांदनी चौक पहुंचने के लिए मेट्रो पकड़ने की गलती कर दी. शायद उन्हें यह अंदाजा नहीं रहा कि मेट्रो के स्कैनर में बैग डालने पर वह पकड़े जाएंगे. इस काम के लिए उन्हें मोटा कमीशन देने का आश्वासन दिया गया था। रकम पहुंचाने के बाद दिवाली पर उनकी योजना दिल्ली में ही रहने की थी। दोनों को आगे की जांच के लिए आयकर विभाग को सौंप दिया गया है। 

रेलवे स्टेशन पर क्यों नहीं हुई जांच 
दोनों ने बताया है कि वह रेल से दिल्ली आए हैं. ऐसे में यह भी सवाल हैं कि मध्य प्रदेश में रेलवे स्टेशन पर उनकी जांच क्यों नहीं की गई. जबकि दिवाली पर हर जगह सुरक्षा कड़ी करने की बात कही जा रही है. इसके साथ ही यह भी खबर है कि दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल को आतंकी हमलों के इनपुट मिले हैं. गृहमंत्रालय ने भी हिंदूवादी नेताओं की सुरक्षा को लेकर समीक्षा करने के आदेश दिए हैं. ऐसे में इतनी बड़ी रकम का पकड़ा जाना किसी साजिश की कड़ी भी हो सकता है.