जुमे की नमाज के बाद भी उत्तर प्रदेश में शांति, नेताओं की राजनीति फिर भी जारी

शुक्रवार को उत्तर प्रदेश में जमे की नमाज के बाद शांति बरकरार रही. कहीं से भी अप्रिय घटना की खबर नहीं है. इसके बावजूद विपक्ष के नेताओं की राजनीति तेज है. सपा प्रमुख अखिलेश यादव खराब कानून व्यवस्था की शिकायत करने राज्यपाल के आवास पहुंचे.

Written by - Zee Hindustan Web Team | Last Updated : Dec 27, 2019, 06:29 PM IST
    • जुमे की नमाज के बाद भी उत्तर प्रदेश में शांति
    • अखिलेश यादव कानून व्यवस्था की शिकायत करने राजभवन पहुंचे
    • पुलिस ने की चाक चौबंद व्यवस्था
  जुमे की नमाज के बाद भी उत्तर प्रदेश में शांति, नेताओं की राजनीति फिर भी जारी

लखनऊ: उत्तर प्रदेश में शुक्रवार को जुमे की नमाज के बाद भी शांति व्यवस्था कायम है. प्रदेश के सभी जिलों में जुमे की नमाज शांतिपूर्ण ढंग से अदा की गई है. अब तक कहीं से भी किसी तरह की अप्रिय घटना की सूचना नहीं है. शुक्रवार को जुमे की नमाज से पहले गाजियाबाद,अलीगढ़ समेत कई जिलों में इंटरनेट सेवा बंद कर दी गई. डीजीपी मुख्यालय से इन सब पर नजर भी रखी.

राजभवन पहुंचे अखिलेश यादव

अखिलेश यादव ने राजभवन में राज्यपाल आंनदीबेन पटेल से भेंट की और इस दौरान उन्होंने राज्यपाल को एक ज्ञापन सौंपा. अखिलेश यादव उत्तर प्रदेश की खराब कानून व्यवस्था को लेकर राज्यपाल आनंदीबेन पटेल से मिले थे. करीब 20 मिनट तक राजभवन में रहे अखिलेश यादव ने प्रदेश की कानून व्यवस्था पर सवाल खड़े किये. 

पुलिस ने की चाक चौबंद व्यवस्था 

यूपी में पुलिस ने इन दिनों हाई अलर्ट घोषित कर दिया था. उत्तरप्रदेश के विभिन्न जिलों में जुम्मे की नमाज को लेकर प्रशासन ने सुरक्षा व्यवस्था कड़ी करने के निर्देश जारी किए हैं, जुमे की नमाज में जो भीड़ इकठ्ठी होगी, पुलिस उसकी भी पैट्रोलिंग करती नजर आई. मालूम हो कि यूपी में CAA विरोध के मद्देनजर 21 जिलों में इंटरनेट सेवाएं बंद है.बुलंदशहर, आगरा, संभल, बिजनौर, सहारनपुर, मुजफ्फरनगर, फिरोजाबाद, मथुरा,  गाजियाबाद, अलीगढ़, शामली, कानपुर, सीतापुर, मेरठ, अमरोहा, लखनऊ में इंटरनेट सेवाएं बंद हैं.

498 लोगों की संपत्ति जब्त करने को तैयार योगी सरकार

उत्तर प्रदेश में सार्वजनिक संपत्ति को नुकसान पहुंचाने वाले मामले में पुलिस ने अबतक 498 लोगों की पहचान कर ली है. इन सभी 498 लोगों पर जुर्माना लगाया गया है, अगर इन सभी ने जुर्माने की भरपाई नहीं की तो उनकी संपत्ति जब्त करने का फरमान जारी हो चुका है. जानकारी के मुताबिक अब तक पूरे उत्तर प्रदेश में 1113 लोग गिरफ्तार किए गए हैं. जबकि हिंसा के लिए 5558 लोगों को हिरासत में लिया गया है. 

ये भी पढ़ें- पाकिस्तान ने फिर किया सीजफायर उल्लंघन, भारतीय सेना ने 4 रेंजर्स को किया ढेर

ज़्यादा कहानियां

ट्रेंडिंग न्यूज़