CAA की हिंसा के बहाने PM मोदी पर हमले की साजिश रच रहे हैं कट्टरपंथी आतंकी

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की जान पर भारी खतरा मंडरा रहा है. खुफिया एजेन्सियों ने जानकारी दी है कि देश में फैली अव्यवस्था का फायदा उठाकर आतंकी संगठन रामलीला मैदान में होने वाली प्रधानमंत्री मोदी की रैली में बम विस्फोट कर सकते हैं.   

CAA की हिंसा के बहाने PM मोदी पर हमले की साजिश रच रहे हैं कट्टरपंथी आतंकी

नई दिल्ली: पाकिस्तान ने अपने आतंकवादियों को भारत में दाखिल कर दिया है. जो CAA के नाम पर मचे हंगामे का फायदा उठाकर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पर हमले की साजिश रच रहे हैं. खुफिया एजेन्सियों को जानकारी मिली है कि दिल्ली में जैश ए मोहम्मद के आतंकवादी इकट्ठा हुए हैं. 

दो दिन बाद होने वाली है पीएम की रैली
दिल्ली के रामलीला मैदान में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी 22 दिसंबर को रैली करने वाले हैं. इसमें पीएम के अलावा कई कैबिनेट मंत्री और एनडीए शासित राज्यों के कई मुख्यमंत्री भी उपस्थित रहेंगे. 

आतंकवादियों ने इसी रैली पर हमला करने की योजना बनाई है. खुफिया विभाग ने ये चेतावनी जाहिर करते हुए  प्रधानमंत्री की सुरक्षा में लगे स्पेशल प्रोटेक्शन ग्रुप (एसपीजी) और दिल्ली पुलिस को विशेष तौर पर सावधानी बरतने के लिए कहा है. 

CAA हंगामे की आड़ में हमले की साजिश
खुफिया विभाग को आशंका है कि आतंकवादी देश भर में CAA विरोधी हंगामे की आड़ में अपने खतरनाक मंसूबों को अंजाम देने की कोशिश कर सकते हैं. 

खुफिया एजेंसियों को मिले इनपुट से यह पता चला है कि पाकिस्तान के बालाकोट में जैश के आंतकी ठिकानों पर एयर स्ट्राइक, अनुच्छेद 370 हटाना, राम जन्मभूमि निर्माण कार्य तेज होना, नागरिकता संशोधन एक्ट लागू होने जैसे कदमों को लेकर पाकिस्तान और आतंकवादियों में बौखलाहट है. 

जिसकी वजह से आतंकी पीएम मोदी जैसे भारत के जनप्रिय नेता पर हमले की साजिश रच रहे हैं. 

PM पर हमले के लिए काफी दिनों से आतंकी कर रहे हैं तैयारी
नवंबर के आखिरी हफ्ते में राष्ट्रीय जांच एजेन्सी(NIA)  ने तमिलनाडु के मदुरै में छापा मारकर अल-कायदा के तीन सदस्यों को गिरफ्तार किया था. ये तीनों PM मोदी सहित देश के 22 शीर्ष नेताओं पर हमले की साजिश रच रहे थे. इन तीनों के नाम  एम. करीम, आसिफ सुल्तान मोहम्म्द और अब्बास अली हैं. 

करीम को पुलिस ने उस्माननगर से गिरफ्तार किया, जबकि आसिफ सुल्तान मोहम्म्द को जीआर नगर तथा अब्बास अली को इस्माइलपुरम से गिरफ्तार किया गया. उनके कब्जे से विस्फोटक पदार्थ भी जब्त किए गए थे.

इन सभी के पास से बरामद पेन ड्राइव में कई नेताओं के बारे में रिसर्च थी. इसमें खास तौर पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बारे में भी बहुत बारीक जानकारियां थीं. जिससे पता चलता है कि इन आतंकियों के मुख्य निशाने पर पीएम मोदी ही थे. 

जैश ए मोहम्मद ने दो महीने पहले दी थी धमकी
कश्मीर स्थित पाकिस्तान परस्त आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के आतंकी शमशेर वानी ने पीएम मोदी पर हमले की धमकी दी थी. वह धारा 370 हटाए जाने के  बाद देश के बड़े नेताओं को निशाने पर लेने की गीदड़ भभकी दे रहा था. 

शमशेर वानी ने सितंबर के आखिरी हफ्तों में एक चिट्ठी लिखकर अनुच्छेद 370 हटाने के लिए प्रधानमंत्री, गृह मंत्री और एनएसए पर हमले की बात कही थी.