• कोरोना वायरस पर नवीनतम जानकारी: भारत में संक्रमण के सक्रिय मामले- 3,19,840 और अबतक कुल केस- 9,36,181: स्त्रोत PIB
  • कोरोना वायरस से ठीक / अस्पताल से छुट्टी / देशांतर मामले: 5,92,032 जबकि मरने वाले मरीजों की संख्या 24,309 पहुंची: स्त्रोत PIB
  • कोविड-19 की रिकवरी दर 63.02% से बेहतर होकर 63.23% पहुंची; पिछले 24 घंटे में 20,572 मरीज ठीक हुए
  • दुनिया भर के अन्य देशों की तुलना में भारत में प्रति दस लाख की जनसंख्या पर सबसे कम मामले और सबसे कम मौतें हुई हैं
  • कोरोना के कुल मामलों में 86% मामले दस राज्यों से हैं
  • देश में 2 स्वदेशी टीकों को इस महीने मानव परीक्षण का प्रारंभिक चरण शुरू करने की मंजूरी मिली
  • WHO द्वारा दिए गए व्यापक परीक्षण मार्गदर्शन के अनुसार 22 राज्य प्रति दिन कोविड-19 के 140 सैंपल प्रति 10 लाख टेस्टिंग कर रहे हैं
  • IIT दिल्ली द्वारा विकसित दुनिया की सबसे किफायती प्रोब फ्री RT-PCR आधारित कोविड-19 डायग्नोस्टिक किट आज लॉन्च की जाएगी
  • वंदे भारत मिशन: 650K से अधिक भारतीय स्वदेश लौटे और 80K से अधिक विदेश की यात्रा पर गए
  • कोविड मुक्त यात्रा सुनिश्चित करने के लिए भारतीय रेलवे पहला 'पोस्ट कोविड कोच' चलाने के लिए तैयार है

दिल्ली दंगे: कहां से आती है मजहबी कट्टरपंथियों में इतनी हैवानियत

दिल्ली में हुए भीषण दंगों ने पूरे देश को हिला दिया था. जिस बर्बरता के साथ जेहादी मानसिकता के कट्टरपंथी लोगों ने निर्दोष और मासूम लोगों मारा है उतनी हैवानियत इन जेहादियों में कैसे आती है.  

दिल्ली दंगे: कहां से आती है मजहबी कट्टरपंथियों में इतनी हैवानियत

नई दिल्ली: दिल्ली में हुई भीषण हिंसा और दंगों में 50 अधिक लोगों की बेहद निर्ममता और बर्बरतापूर्ण तरीके से हत्या कर दी गयी थी. इसमें मजहबी कट्टरपंथियों के हैवानी स्वरूप को देखकर देशवासी दंग रह गए थे. लोग यही विचार कर रहे हैं कि इन जेहादी मानसिकता के तथाकथिक भारतीयों में इतनी हैवानियत कहां से आती है. 

आम आदमी पार्टी के पूर्व पार्षद ताहिर हुसैन पर अंकित शर्मा की हत्या करने के आरोप में दिल्ली पुलिस अहम सबूत हाथ लगे हैं. दिल्ली पुलिस दंगों की निष्पक्ष जांच करके सभी दंगाइयों और मजहबी कट्टरपंथियों के खिलाफ चार्जशीट दायर कर रही है. इसमें कई चौकाने वाले खुलासे हुए हैं.

मुस्लिम भीड़ ने हिन्दू युवक को जिंदा जलाया

नागरिकता कानून के खिलाफ शाहीन बाग में हुए धरने में देश की बहुसंख्यक आबादी के खिलाफ मजहबी कट्टरपंथियों ने अपने दंगाई साथियों में भयानक जहर भर दिया और इतना उकसा दिया कि कई निर्दोष हिन्दू बर्बरता से मार दिए गए. ताहिर हुसैन के घर पर बारूद का जखीरा बरामद हुआ था. दिल्ली पुलिस ने अपनी चार्जशीट में बड़ा खुलासा किया है. दिल्ली पुलिस ने कोर्ट को बताया कि CAA विरोधी दंगे के दौरान हिंदुओं की संपत्ति को निशाना बना रही जेहादियों की भीड़ ने एक व्यक्ति को मिठाई की दुकान के भीतर जिंदा जला दिया था.

ये भी पढ़ें- उत्तरप्रदेश में भीषण सड़क हादसा, 9 लोगों की हुई मौत

12 लोगों को किया नामजद

आपको बता दें कि पुलिस ने मिठाई की दुकान में काम करने वाले दिलबर नेगी की हत्या के आरोप में 12 लोग को नामजद किया है. दिल्ली पुलिस की अपराध शाखा ने मेट्रोपॉलिटन मजिस्ट्रेट रिचा परिहार के समक्ष ये चार्जशीट दाखिल की है. मजिस्ट्रेट ने मामले पर अगली सुनवाई के लिए 18 जून की तारीख तय की.

CAA के विरोध में तालिबानी मानसिकता

सभी देशवासियों के मन में एक सवाल तेजी से उठ रहा है कि नागरिकता कानून के माध्यम से पड़ोसी देशों के प्रताड़ित और निरीह अल्पसंख्यक समुदाय के शरणार्थियों को भारत की नागरिकता दी जा रही है तो इससे मुस्लिम समुदाय को क्यों दिक्कत है. इस कानून से किसी भी भारतीय की नागरिकता को कोई खतरा नहीं है. इसके बावजूद इन लोगों में तालिबानी सोच कहां से आ गयी. IB अधिकारी अंकित शर्मा के शव को 40 बार चाकूओं से गोदा गया था. ये जेहादी और तालिबानी सोच दिल्ली के दंगों में साफ साफ दिखाई दी थी.