2019 Year Ender: बॉलीवुड की दुनिया में 2019 के 10 बड़े कंट्रोवर्सी

साल 2019 ने फिल्म जगत में कई विवादों को उभरते और बिखरते देखा है..  

2019 Year Ender: बॉलीवुड की दुनिया में 2019 के 10 बड़े कंट्रोवर्सी

मुंबई. यहां पढ़िये वे विवाद जो इस साल के साथ हमेशा याद किये जाएंगे:

1. कंगना रनौत फिल्म के नाम को लेकर विवाद

बॉलीवुड की दुनिया में कंट्रोवर्सी क्वीन कहीं जाने वाली कंगना रनौत की फिल्म जजमेंटल है क्या के रिलीज होने से ठीक पहले बड़ा विवाद शुरू हो गया था क्योंकि फिल्म का नाम पहले मेंटल है क्या रखा गया था लेकिन जब इंडियन साइकिट्रिक सोसाइटी ने फिल्म के नाम पर आपत्ति जताई और सेंसर बोर्ड को एक पत्र लिखा. जिसके बाद निर्माता-निर्देशकों के खींचतान के बाद फिल्म का नाम आखिर में बदला पड़ा. मेंटल है क्या के बाद फिल्म का नाम जजमेंटल है क्या रखा गया.  आपत्ति जताते हुए पत्र में कहा गया था कि यह 'मानसिक विकारों और मानसिक विकारों से पीड़ित व्यक्तियों के लिए भेदभावपूर्ण, कलंक, अपमानजनक और अमानवीय है'.

2. पानीपत मूवी पर उठे सवाल

अर्जुन कपूर की हालिया रिलीज फिल्म पानीपत पर भी काफी कंट्रोवर्सी हुई. राजस्थान के राजपूतों ने फिल्म में राजा सूरजमल का गलत चित्रण करने का विरोध किया. इसके लिए जयपुर, भरतपुर, बीकानेर में फिल्म पानीपत के खिलाफ बोलने वाले लोगों के लिए गर्म आधार बन गए और फिल्म पर तत्काल प्रतिबंध लगाने की मांग की गई. जिसके बाद राजस्थान के सीएम अशोक गहलोत ने ट्विटर पर आशुतोष गोवारिकर की फिल्म के संबंध में स्थानीय लोगों के दावों को निपटाने के लिए सेंसर बोर्ड से हस्तक्षेप करने की मांग की. बाद में निर्माता-निर्देशकों को विवादास्पद भाग को हटाना पड़ा. यह फिल्म मराठों और मुगलों के बीच लड़ी गई पानीपत की तीसरी लड़ाई पर आधारित ह.

3. मोदी बॉयोपिक रिलीज

भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की बॉयोपिक इसी साल रिलीज की गई. फिल्म में मोदी की भूमिका में विवेक ओबेरॉय दिखें. फिल्म को लेकर विवाद तब शुरू हुआ जब बॉयोपिक को 2019 के लोकसभा चुनाव से पहले रिलीज किया गया. बॉयोपिक में मोदी की पूरी लाइफ को दिखाया गया था क्योंकि इस बात की बहुत अधिक संभावना है कि एक विशेष राजनीतिक दल चुनावी लाभ प्राप्त करेगा यदि फिल्म को चुनाव के दौरान रिलीज करने की अनुमति दी जाती है. जिसके बाद फिल्म की रिलीज डेट को बदलना पड़ा और 5 अप्रैल की जगह 24 मई को सिनेमाघरों में फिल्म रिलीज की गई.
 
4. सांड की आंख स्टार कास्ट

जहां लोगों ने अपनी नई रिलीज सांड की आंख में लीड वृद्ध महिला किरदार को निभाने के लिए अभिनेत्री तापसी पन्नू और भूमि पेडनेकर को लिया गया था. जिसका समीक्षकों व बॉलीवुड के एक्टरों ने ही काफी आलोचना की थी. वहीं सोनी राजदान और नीना गुप्ता जैसी दिग्गज अभिनेत्रियों ने भी खुलकर बोलते हुए कहा कि कम से कम वरिष्ठ किरदारों को निभाने के लिए बॉलीवुड के वरिष्ठ कलाकारों को लिया जाए न कि वृद्ध किरदारों के लिए युवा अदाकाराओं को लेना सही है. जिसके बाद इस बयान पर काफी कंट्रोवर्सी हुई. सांड की आंख ने आयु-अनुकूल कास्टिंग पर एक बहस छेड़ दी थी.

5. सलमान खान और अरिजीत सिंह  

2014 में सलमान खान और अरिजीत सिंह के बीच सब कुछ ठीक न होने की खबरें आई थी जिसके बाद अरिजीत ने सलमान से सॉरी भी कहा था लेकिन उसके बाद भी दोनों के बीच सब सही नहीं है. खबरों की मानें तो सलमान ने कथित तौर पर अरिजीत के गाने को पाकिस्तानी गायक राहत फतेह अली खान के कवर के साथ 'वेलकम टू न्यूयॉर्क' में बदले जाने की खबरों ने भी काफी विवाद बढ़ाया. इस फिल्म में सलमान मुख्य किरदार में नहीं है लेकिन वह सोनाक्षी सिन्हा के साथ 'नैन फिसले गे' गीत में एक  नजर आएंगे. इसके बाद सोशल मीडिया में इस खबर को लेकर काफी कंट्रोवर्सी देखने को मिली और दर्शक दो वर्गों में बट चुका था. जिसमें कुछ सलमान के सपोर्ट में थे तो कुछ अरिजीत को सपोर्ट कर रहे थे.

6. फिल्म कबीर सिंह को महिला सशक्तिकरण के खिलाफ बताया गया

फिल्म कबीर सिंह 2019 की सबसे बड़ी फिल्मों में से एक थी. शाहिद कपूर ने फिल्म में जो किरदार शाहिद ने निभाया था उसे उनकी लाइफ की अब तक की बेस्ट परफॉर्मेंस में भी गिना गया लेकिन वहीं दूसरी ओर शाहिद द्वारा फिल्म में निभाए गए किरदार की आलोचना भी जमकर हुई. फिल्म में हीरो के इस तरह की किरदार निभाए जाने को लेकर विवाद शुरू हुआ क्योंकि दर्शक हीरो के किरदार से बहुत जल्दी प्रभावित होते हैं और फिल्म में शाहिद कई बार महिलाओं की इज्जत नहीं करते दिखें. विवाद तब और ज्यादा बढ़ गया जब फिल्म के डायरेक्टर संदीप ने फिल्म और चरित्र का बचाव करते हुए कहा "जब लोग प्यार में गहराई से जुड़े होते हैं, तो उन्हें एक दूसरे के लिए अपना सबसे बुरा पक्ष दिखाने से नहीं बचना चाहिए." इस फिल्म को महिला सशक्तिकरण के खिलाफ बताया गया.

7. नेहा भसीन और अनु मलिक कंट्रोवर्सी

सिंगर नेहा भसीन ने अनु मलिक पर गंभीर आरोप लगाए जिसके बाद मामले ने खूब कंट्रोवर्सी बटोरी. नेहा ने अपने ट्वीटर पर एक-एक कर अनु मलिक पर आरोपों के पुल बांधती चली गईं. अपने पहले ट्वीट में नेहा ने लिखा कि अनु मलिक ने उन्हें गलत तरीकें से छुने की कोशिश की , वह भी जब नेहा 21 साल की थीं.  मसले का जिक्र करते हुए नेहा ने बताया कि उस वक्त वह अनु मलिक से मिलकर अपने गानों की सीडी देने गई थी. पर अनु मलिक के बर्ताव को देखते हुए वह झुठ बोलकर निकल गई कि उनकी मां नीचे उनका इंतजार कर रहीं हैं. इस ट्वीट के बाद सोना महापात्रा ने भी नेहा के सपोर्ट में अनु मलिक के खिलाफ बहुत कुछ बोला. दोनों फीमेल सिंगर ने अनु मलिक के साथ हमारे सोसाइटी पर भी सवाल खड़ा किया. बता दें कि सोना महापात्रा ने पहले ही मी टू के दौरान ही अनु मलिक पर संगीन आरोप लगा चुकी हैं.

8. विवेक ओबरॉय और memes

लोकसभा चुनाव के बाद एग्जिट पोल के थीम पर कई memes बनाए जा रहे थे. उसी समय विवेक ओबरॉय ने भी एक ऐसे memes को रिट्वीट किया. जिसके बाद देश में कंट्रोवर्सी ने अलग ही माहौल बनाया. दरअसल उस memes  में ऐश्वर्या राय बच्चन भी शामिल थीं. और विवेक और ऐश्वर्या एक-दूसरे को डेट कर चुके हैं. विवेक ने इस memes को अपनी टिप्पणी के लिए उठाया था लेकिन कई लोगों ने इस ट्वीट को अपमानजनक माना. memes  को साझा करने के लिए न केवल बॉलीवुड जगत के लोगों ने विवेक की अवहेलना की बल्कि राष्ट्रीय महिला आयोग (NCW) ने भी अपने ट्वीट के लिए अभिनेता से प्रतिक्रिया मांगी.

9. कंगना और करणी सेना का आपस में फिल्म मणिकर्णिका पर विवाद

मणिकर्णिका के समय कंगना ने करणी सेना पर आरोप लगाए थे कि उनकी तरफ से फिल्म को लेकर कंगना को धमकियां दी जा रही है. जिसके बाद करणी सेना और कंगना के बीच विवाद पैदा हो गया था धमकियों वाली बात बताते हुए कंगना ने कहा कि वह खुद भी एक राजपूत हैं और वह हर किसी का मुकाबला करने में व उसे समाप्त करने में सक्षम हैं. लेकिन इसके बाद विवाद ने तब ज्यादा सुर्खियां बटोरी जब करणी सेना के अधिकारिक प्रवक्ताओं ने सामने आकर धमकी देने जैसे किसी भी बात से इनकार किया. कुछ लोगों ने तो यहां तक कह दिया की कंगना ने यह सब सिर्फ फिल्म के प्रमोशन के लिए किया, इस बात में कोई सच्चाई नहीं थी.

10. सुपर 30

फिल्म सुपर 30 को लेकर भी काफी विवाद हुआ क्योंकि फिल्म में ऋतिक के चेहरे को काफी अलग तरीके से प्रस्तुत किया गया था जिसे लेकर बिहार के रहने वालों ने विरोध किया. उनका कहना था कि फिल्म में बिहारियों को इस तरह से बदसुरत दिखाने की चलन सही नहीं है. जहां दर्शकों ने उनके चेहरे के रंग पर सवाल उठाया था.

ये भी पढ़ें. देश के जिम्मेदार नागरिक के तौर पर बोलने का अधिकार है जनरल विपिन रावत को