• देश में कोविड-19 से सक्रिय मरीजों की संख्या 89,987 पहुंची, जबकि संक्रमण के कुल मामले 1,65,799: स्त्रोत-PIB
  • कोरोना से ठीक होने वाले लोगों की संख्या- 71,106 जबकि अबतक 4,706 मरीजों की मौत: स्त्रोत-PIB
  • वित्त मंत्री ने वित्तीय स्थिरता और विकास परिषद की अध्यक्षता की और घरेलू स्थिति की समीक्षा की
  • वित्त मंत्री ने ‘आधार’ पर आधारित ई-केवाईसी के जरिए ‘तत्काल पैन आवंटन’ की सुविधा का शुभारंभ किया
  • वाणिज्य मंत्री एक्सपोर्टर्स से अधिक प्रतिस्पर्धी होने और दुनिया को गुणवत्तापूर्ण उत्पाद प्रदान करने का आह्वान किया
  • उपभोक्ता कार्य मंत्री एफसीआई के खाद्यान्न वितरण और खरीद की समीक्षा की
  • कैबिनेट सचिव ने कोविड से सबसे अधिक प्रभावित 13 शहरों की स्थिति की समीक्षा की
  • भारत जुलाई के अंत तक, प्रति दिन 5 लाख स्वदेशी किट का उत्पादन करेगा: अधिकार प्राप्त समूह-1
  • केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री ने नई दिल्ली में वेबिनार के माध्यम से 45,000 उच्च शिक्षण संस्थाओं के प्रमुखों से बातचीत की
  • रेलवे ने 3,736 श्रमिक स्पेशल ट्रेनों का संचालन किया, 50+ लाख प्रवासी श्रमिकों को घर पहुंचाया गया

कश्मीर में सुरक्षाबलों का पराक्रम देख, आतंकियों में मची भगदड़

आतंकवाद के खिलाफ सुरक्षाबलों के प्रहार से कश्मीर घाटी के आतंकियों में दहशत है. दहशत इतनी है कि उनमें अब भगदड़ मच गई है. मौत को करीब देखकर आतंकियों ने अपना ठिकाना ही बदल लिया है. दक्षिण कश्मीर में सुरक्षा बलों के दबाव से परेशान आतंकवादी अब अपना इलाका और रणनीति दोनों बदल रहे हैं.

कश्मीर में सुरक्षाबलों का पराक्रम देख, आतंकियों में मची भगदड़

नई दिल्ली: मंगलवार को जब सुरक्षाबलों ने श्रीनगर में दो आतंकियों के खिलाफ ऑपरेशन चलाया था. आतंकी ने सुरक्षाबलों को चकमा देने की कोशिश की लेकिन वो बच नहीं सका. कश्मीर घाटी में सुरक्षाबलों ने आतंकियों के खिलाफ जबरदस्त अभियान छेड़ रखा है. सुरक्षाबल चुन-चुन कर आतंक के कमांडरों को उनके अंजाम तक पहुंचा रहे हैं, सुरक्षाबलों के अभियान से आतंकी सहम गए हैं और अब वो दूसरे इलाकों में भाग रहे हैं.

कश्मीर में आतंकवादियों ने बदले ठिकाने

दक्षिण कश्मीर में सुरक्षा बलों के ऑपरेशन से परेशान आतंकवादी बौखला गए हैं. इसीलिए अब आतंकी अपना इलाका और रणनीति दोनों बदल रहे हैं.

भारतीय सेना की ताकत और संकल्प से खौफजदा कुछ कुछ आतंकियों ने साउथ कश्मीर से अपना ठिकाना बदल लिया है. पीर पंजाल के दक्षिण में किश्तवाड़ के जंगलों का रुख करके आतंकवादियों ने ये साबित कर दिया है कि उनके ज़ेहन में मौत का खौफ पनपा हुआ है. आपको बता दें कि करीब पिछले एक दशक से आतंकवादियों को इसी पीर पंजाल के दक्षिण के डोडा और किश्तवाड़ जिलों में लगातार मौत के घाट उतारा जा रहा है. लेकिन पिछले कुछ समय ये आतंकी यहां फिर से आतंकवाद को फैलाने की कोशिश करने लगे हैं.

सुरक्षाबलों का पराक्रम, आतंकियों में भगदड़

यहां आपका ये भी जानना जरूरी है कि तकरीबन 20 वर्ष पहले आतंकियों ने डोडा और किश्तवाड़ के इलाके में अपना बड़ा अड्डा बना लिया था. जिसके बाद सुरक्षा बलों की लगातार ताबड़तोड़ कार्रवाई और आम लोगों की मदद के चलते एक दशक पहले इस इलाके को आतंकवाद मुक्त करा लिया गया था. लेकिन  साल 2018 के नवंबर माह में यहां फिर से दोबारा आतंकी घटनाएं शुरू हुईं. जिसे देखते हुए अब एक बार फिर सुरक्षाबलों ने किश्तवाड़ और डोडा में भी ऑपरेशन को रफ्तार दे दिया है.

सुरक्षाबलों का अभियान, आतंकियों में दहशत

जम्मू कश्मीर के डोडा और किश्तवाड़ इलाके में बीते करीब 2 साल में यानी साल 2018 से कई आतंकी घटनाएं सामने आई हैं. इसी साल 15 जनवरी को डोडा से आतंकी हारून अब्बास को पकड़ा गया था. इसके बाद 5 मई को आतंकियों का मददगार तनवीर मलिक पकड़ा गया था. 17 मई को सुरक्षाबलों ने डोडा से हिजबुल आतंकवादी ताहिर अहमद बट को ढेर कर दिया था.

कश्मीर घाटी से किश्तवाड़ और डोडा इलाक़े में ऊंचे पहाड़, घाटियां और घने जंगल हैं. इसी का फायदा उठाकर आतंकी यहां अपने लिए सुरक्षित ठिकाना ढूंढ रहे हैं. बीते 2 वर्षों में यहां कई नए आतंकियों की भर्ती का खेल चलता रहा है, लेकिन ज्यादातर आतंकवादियों को सुरक्षाबलों ने जहन्नुम भेज दिया है.

इसे भी पढ़ें: दीदी की अपील पर PM मोदी का दौरा आज! तूफान से नुकसान का लेंगे जायजा

आतंकी सीमा पार से आए या फिर घने जंगलों, पहाड़ियों या फिर किसी गुफा में छिप जाएं. सुरक्षाबलों की गोलियां उन्हें उनके बिल से निकालकर जहन्नुम का रास्ता दिखाने के लिए हर पल तैयार हैं.

इसे भी पढ़ें: कर्नाटक में सोनिया गांधी पर FIR, कांग्रेस में 

इसे भी पढ़ें: कोरोना काल में अमेरिकन ज्योतिषी की भविष्यवाणी