उत्तराखंडः चुनाव में कितना काम आएगा सीएम धामी का फ्री टैबलेट और 24 हजार भर्तियों का दांव

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी अपने चार महीने के छोटे से कार्यकाल में सरकारी विभागों में 24,000 नई भर्तियों, छात्रों के लिए मुफ्त टैबलेट और पर्यटन क्षेत्र के लोगों के लिए 200 करोड़ रुपये की राहत देने की घोषणा कर चुके हैं.  

Written by - Zee Hindustan Web Team | Last Updated : Nov 26, 2021, 04:03 PM IST
  • अगले साल उत्तराखंड में होने हैं विधानसभा चुनाव
  • सूबे में बीजेपी को मुख्य रूप से कांग्रेस दे रही चुनौती

ट्रेंडिंग तस्वीरें

उत्तराखंडः चुनाव में कितना काम आएगा सीएम धामी का फ्री टैबलेट और 24 हजार भर्तियों का दांव

नई दिल्ली: उत्तराखंड में अगले साल विधानसभा चुनाव होने हैं. राज्य गठन के बाद से अब तक यहां किसी भी पार्टी की सरकार लगातार नहीं बन पाई है. अभी सूबे में बीजेपी की सरकार है, ऐसे में राज्य के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी इस मिथक को तोड़ने के लिए कोई कोर कसर नहीं छोड़ना चाहते हैं. यही वजह है कि उन्होंने बहुत कम समय में कई बड़ी घोषणाएं की हैं. वह सरकारी विभागों में 24,000 नई भर्तियों, छात्रों के लिए मुफ्त टैबलेट और पर्यटन क्षेत्र के लोगों के लिए 200 करोड़ रुपये की राहत देने की घोषणा कर चुके हैं.

चार महीनों में लिए 400 निर्णय
धामी के फैसलों को लेकर राज्य के दौरे पर आए राजनाथ सिंह ने कहा, 'मुझे आश्चर्य हुआ जब पुष्कर सिंह धामी ने घोषणा करते हुए कि उन्होंने अपने कार्यकाल के लगभग चार महीनों में 400 निर्णय लिए हैं. चार महीनों में चार सौ निर्णय लेना सामान्य चीज नहीं है.' धामी पहले ही राज्य के लगभग सभी जिलों का दौरा कर चुके हैं और प्राकृतिक आपदा के दो दौर से सफलतापूर्वक निपट चुके हैं.

मुख्यमंत्री का दावा है कि वात्सल्य योजना, चार धाम देवस्थानम बोर्ड अधिनियम की समीक्षा के लिए एक समिति का गठन, अन्य राज्यों के लोगों द्वारा भूमि की खरीद से संबंधित कानूनों की समीक्षा करने के लिए एक पैनल आदि उनकी अन्य उपलब्धियां हैं.

उन्होंने कहा कि उनकी सरकार पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए हवाई, रेल और सड़क संपर्क विकसित कर रही है और महिलाओं और नवजातों के कल्याण के लिए वात्सल्य योजना और महालक्ष्मी योजना सहित विभिन्न परियोजनाएं शुरू की गई हैं. धामी ने एक जनसभा में दावा किया कि उन्होंने बहुत कम समय में राज्य के दूरदराज के गांवों तक पहुंचने और सरकारी योजनाओं का लाभ जरूरतमंदों तक पहुंचाने का प्रयास किया है.

कांग्रेस में सेंध लगाने की कोशिश
कांग्रेस में सेंध लगाने के लिए पुष्कर सिंह धामी ने पूर्व मुख्यमंत्री नारायण दत्त तिवारी को मरणोपरांत पुरस्कार देने की घोषणा की और तिवारी के नाम पर उधम सिंह नगर जिले में पंतनगर औद्योगिक एस्टेट का नाम भी रखा. कुछ समय पहले सीएम ने ऐलान किया था कि उत्तराखंड गौरव सम्मान-2021 राज्य सरकार पूर्व मुख्यमंत्री नारायण दत्त तिवारी (मरणोपरांत), प्रसिद्ध लेखक रस्किन बांड, पर्यावरणविद् डॉ. अनिल प्रकाश जोशी, प्रसिद्ध लोक गायक नरेंद्र सिंह नेगी और पर्वतारोही बछेंद्री पाल को पुरस्कार प्रदान करेगी.

'तीन सीएम बदलना BJP की विफलता का उदाहरण'
हालांकि, कांग्रेस इन सभी घोषणाओं से प्रभावित नहीं है और कहती है कि एक साल में तीन मुख्यमंत्रियों को बदलना और नियुक्त करना अपने आप में भाजपा की विफलता की ओर इशारा करता है. कांग्रेस कह रही है कि पिछले 5 वर्षों में राज्य के साथ सरकार की अयोग्यता को छिपाने के लिए केवल कागजों पर घोषणाएं की जा रही हैं.

आप का पूर्व सैनिकों को लुभाने का प्रयास
इस बीच आम आदमी पार्टी भी राज्य में खुद को स्थापित करने की कोशिश कर रही है और हाल ही में राज्य का दौरा करने वाले अरविंद केजरीवाल ने अयोध्या, अजमेर और करतारपुर साहिब की मुफ्त तीर्थयात्रा की घोषणा की थी. आप ने राज्य में पूर्व सैनिकों को लुभाने के लिए कर्नल अजय कोठियाल को मुख्यमंत्री पद का उम्मीदवार घोषित किया है.

यह भी पढ़िएः 2008 Mumbai Attacks: जब कसाब समेत 10 आतंकियों ने ली थी बेकसूरों की जान, जानिए 26/11 मुंबई हमले की कहानी

Zee Hindustan News App: देश-दुनिया, बॉलीवुड, बिज़नेस, ज्योतिष, धर्म-कर्म, खेल और गैजेट्स की दुनिया की सभी खबरें अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें ज़ी हिंदुस्तान न्यूज़ ऐप.  

ज़्यादा कहानियां

ट्रेंडिंग न्यूज़