• देश में कोविड-19 से सक्रिय मरीजों की संख्या 89,987 पहुंची, जबकि संक्रमण के कुल मामले 1,65,799: स्त्रोत-PIB
  • कोरोना से ठीक होने वाले लोगों की संख्या- 71,106 जबकि अबतक 4,706 मरीजों की मौत: स्त्रोत-PIB
  • वित्त मंत्री ने वित्तीय स्थिरता और विकास परिषद की अध्यक्षता की और घरेलू स्थिति की समीक्षा की
  • वित्त मंत्री ने ‘आधार’ पर आधारित ई-केवाईसी के जरिए ‘तत्काल पैन आवंटन’ की सुविधा का शुभारंभ किया
  • वाणिज्य मंत्री एक्सपोर्टर्स से अधिक प्रतिस्पर्धी होने और दुनिया को गुणवत्तापूर्ण उत्पाद प्रदान करने का आह्वान किया
  • उपभोक्ता कार्य मंत्री एफसीआई के खाद्यान्न वितरण और खरीद की समीक्षा की
  • कैबिनेट सचिव ने कोविड से सबसे अधिक प्रभावित 13 शहरों की स्थिति की समीक्षा की
  • भारत जुलाई के अंत तक, प्रति दिन 5 लाख स्वदेशी किट का उत्पादन करेगा: अधिकार प्राप्त समूह-1
  • केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री ने नई दिल्ली में वेबिनार के माध्यम से 45,000 उच्च शिक्षण संस्थाओं के प्रमुखों से बातचीत की
  • रेलवे ने 3,736 श्रमिक स्पेशल ट्रेनों का संचालन किया, 50+ लाख प्रवासी श्रमिकों को घर पहुंचाया गया

क्या कांग्रेस में गांधी परिवार की आलोचना करना मना है

भारत को लोकतंत्र प्रदान करने की दुहाई देने वाली कांग्रेस पार्टी में गांधी परिवार पर सवाल उठाना सख्त मना है. ऐसा इसलिये कहा जा रहा है क्योंकि जो भी गांधी परिवार के सदस्यों पर सवाल उठाता है उसे पार्टी में दरकिनार कर दिया जाता है.

क्या कांग्रेस में गांधी परिवार की आलोचना करना मना है

नई दिल्ली: भारतीय राजनीति में कांग्रेस को सबसे पुराना राजनीतिक दल माना जाता है. जवाहरलाल नेहरू से लेकर राहुल और प्रियंका वाड्रा वाली कांग्रेस ने कई उतार चढ़ाव देखे और विरोध करने वाले सभी नेताओं का सियासी दमन भी किया. कांग्रेस का इतिहास गवाह है कि जब जब किसी नेता गांधी परिवार के खिलाफ आवाज उठाई तब तब उस नेता के पर कतर दिए गए.

अब रायबरेली से कांग्रेस विधायक अदिति सिंह को गांधी परिवार का विरोध करने की सजा भुगतनी पड़ रही है. प्रवासी मजदूरों को घर भेजने के लिए बस का इंतजाम करके प्रियंका वाड्रा सियासी लाभ लेने की कोशिश कर रही हैं. इस मुद्दे पर अदिति सिंह ने प्रियंका गांधी की जमकर आलोचना की है. गांधी परिवार की आलोचना सुनकर पूरी कांग्रेस बौखला गयी और अदिति सिंह को महिला मोर्चा के पद से हटा दिया गया.

अदिति सिंह ने प्रियंका वाड्रा की आलोचना की थी

रायबरेली से कांग्रेस की बागी विधायक अदिति सिंह ने ही इस पूरे मसले पर अपनी पार्टी के रुख की कड़ी आलोचना की. अदिति सिंह ने कहा है कि यह क्रूर मजाक है. अदिति सिंह ने एक ट्वीट में लिखा था कि आपदा के वक्त ऐसी निम्न सियासत की क्या जरूरत,एक हजार बसों की सूची भेजी. उसमें भी आधी से ज्यादा बसों का फर्जीवाड़ा, 297 कबाड़ बसें, 98 आटो रिक्शा व एबुंलेंस जैसी गाड़ियां, 68 वाहन बिना कागजात के, ये कैसा क्रूर मजाक है. अगर बसें थीं तो राजस्थान,पंजाब, महाराष्ट्र में क्यों नहीं लगाई.

महासचिव पद से हटाया गया

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के संसदीय क्षेत्र रायबरेली के रायबरेली सदर क्षेत्र की युवा विधायक अदिति सिंह ने कांग्रेस के प्रवासी कामगारों की मदद करने के लिए बसों का बेड़ा लगाने के मामले में कांग्रेस पर उंगली उठाई थी. कांग्रेस ने इसे गंभीरता से लेते हुए विधायक अदिति सिंह को पार्टी की महिला विंग के महासचिव पद से निलंबित कर दिया गया है. इसके साथ ही उनके खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई शुरू कर दी है.

ये भी पढ़ें- बंगाल में अम्फान तूफान का कहर,सीएम ममता बनर्जी ने की 72 लोगों के मरने की पुष्टि

कांग्रेस को कई बार नीचा दिखा चुकी हैं अदिति

आपको बता दें कि जब जब कांग्रेस सियासत में कोई भी बेतुका फैसला लेती है तो अदिति सिंह उसकी फजीहत कर देती हैं. पार्टी का कहना है कि अदिति सिंह को दिसंबर महीने में महिला कांग्रेस महासचिव के पद से हटा दिया गया था. अदिति सिंह से दो बार पार्टी विरोधी गतिविधियों पर जवाब मांगा गया. जवाब नहीं मिलने पर विधानसभा अध्यक्ष से सदस्यता समाप्त करने के लिए दो बार अपील की जा चुकी है. सीएम योगी के समर्थन में वे पार्टी व्हिप का उल्लंघकर यूपी विधानसभा के विशेष सत्र में शामिल हुई थीं.