Daily Panchang 27 फरवरी 2021 माघ पूर्णिमा में करें सत्यनारायण भगवान की पूजा

सनातन परंपरा में ‘भगवान सत्यनारायण’ को भगवान विष्णु जी का ही एक स्वरूप माना गया है. ऐसे में हर माह सत्यनारायण की पूजा अर्चना किये जानें का विधान है. जिसके लिए हर महीने पूर्णिमा के दिन सत्यनारायण भगवान की आराधना करते हुए उनका व्रत किया जाता है.

Written by - Zee Hindustan Web Team | Last Updated : Feb 27, 2021, 08:46 AM IST
  • माघ पूर्णिमा को करें भगवान सत्यनारायण भगवान की पूजा
  • आज का दिशा शूल पूर्व दिशा में है, पूर्व दिशा में यात्रा न करें
Daily Panchang 27 फरवरी 2021 माघ पूर्णिमा में करें सत्यनारायण भगवान की पूजा

नई दिल्लीः आज माघ मास के शुक्ल पक्ष की पू्र्णिमा तिथि है.आज 27 फरवरी 2021 और दिन शनिवार है. आज सत्यानारायण पूजा से विशेष कृपा मिलेगी. सनातन संस्कृति में पंचांग के अनुसार ही जीवन में हर काम किए जाते हैं. आज क्या है खास है बता रहे हैं आचार्य विक्रमादित्य-

आज का पंचांग
तिथि - पूर्णिमा - 13:48:45 तक
नक्षत्र मघा - 11:18:53 तक

पक्ष शुक्ल
योगसुकर्मा - 19:36:53 तक

शुभ समय (शुभ मुहूर्त)
अभिजीत12:11:10 से 12:57:11 तक

दिशा शूल- दिशा शूलपूर्व

आज करें सत्यनारायण भगवान की पूजा
सनातन परंपरा में ‘भगवान सत्यनारायण’ को भगवान विष्णु जी का ही एक स्वरूप माना गया है. ऐसे में हर माह सत्यनारायण की पूजा अर्चना किये जानें का विधान है. जिसके लिए हर महीने पूर्णिमा के दिन सत्यनारायण भगवान की आराधना करते हुए उनका व्रत किया जाता है. इस विशेष दिन भक्त भगवान सत्यनारायण के प्रति अपनी श्रद्धा प्रकट करते हुए दिन भर उपवास रखते है तथा संध्या काल में ‘भगवान सत्यनारायण’ व “भगवान विष्णु जी” की विधिवत पूजा तथा ध्यान पूर्वक कथा सुनते व दूसरों को भी सुनाते हैं.

ऐसे करें सत्यनारायण भगवान की पूजा

  • सबसे पहले सुबह जल्दी उठकर स्नान आदि कर स्वच्छ वस्त्र पहने.
  • उसके बाद सत्यनारायण व्रत का सच्चे मन से संकल्प ले.
  • इसके बाद पूजा स्थल को गाय के गोबर से पवित्र करके वहां अल्पना बनाएँ और उस पर पूजा की चौकी रख दें. अगर गोबर
  • संभव न हो तो गंगाजल से स्थान को पवित्र करके भी उसपर चौकी रखी जा सकती है.
  • इस चौकी के चारों ओर केले का पौधा रखते हुए चौकी पर सत्यनारायण भगवान की मूर्ति या चित्र स्थापित करें.
  • अब पूरे विधि विधान के साथ भगवान सत्यनारायण का पाठ करते हुए उनकी पूजा करें.
  • पूजा के पश्चात उनकी आरती करें और चरणामृत लेकर प्रसाद बांटे.
  • इसके बाद पुरोहित जी को भोजन कराकर उन्हें श्रद्धा अनुसार दक्षिणा एवं वस्त्र दे.
  • इसके साथ ही ग़रीबों और ज़रूरतमंद को दान-पुण्य करें.

Zee Hindustan News App: देश-दुनिया, बॉलीवुड, बिज़नेस, ज्योतिष, धर्म-कर्म, खेल और गैजेट्स की दुनिया की सभी खबरें अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें ज़ी हिंदुस्तान न्यूज़ ऐप.  

 

ज़्यादा कहानियां

ट्रेंडिंग न्यूज़