BCCI के कोषाध्यक्ष ने बताया, कब तक चलेगा टीम इंडिया का दो टीमों का फार्मूला

बीसीसीआई के कोषाध्यक्ष अरुण धूमल ने बताया है कि कब तक जारी रहेगा भारत को दी टीमों के समानांतर खेलने का सिलसिला.  

Written by - Zee Hindustan Web Team | Last Updated : Jun 17, 2021, 07:10 AM IST
  • भारत की दूसरे दर्जे की टीम अगले महीने श्रीलंका में सिरीज खेलेगी
  • ऐसे मामले में कोरोना से जुड़ी पाबंदियों पर गौर करने की जरूरत है
BCCI के कोषाध्यक्ष ने बताया, कब तक चलेगा टीम इंडिया का दो टीमों का फार्मूला

नई दिल्ली: भारतीय क्रिकेट बोर्ड (बीसीसीआई) के कोषाध्यक्ष अरूण धूमल ने बुधवार को कहा कि कोविड-19 महामारी के कारण जारी चुनौतियों के बीच भारत की दो अलग टीमों का अलग स्थलों पर खेलना जारी रह सकता है क्योंकि इससे अधिक द्विपक्षीय श्रृंखलाओं के आयोजन के अलावा सभी प्रारूपों में खेलने वाले खिलाड़ियों को जैविक रूप से सुरक्षित माहौल की थकान से कुछ राहत मिल सकती है.

श्रीलंका और इंग्लैंड के खिलाफ खेलेंगी भारत को दी टीमें

शिखर धवन की अगुआई में भारत की दूसरे दर्जे की टीम अगले महीने श्रीलंका में सीमित ओवरों की श्रृंखला खेलेगी जबकि उसी समय विराट कोहली की अगुआई वाली भारतीय टीम इंग्लैंड में मेजबान टीम के खिलाफ पांच टेस्ट की श्रृंखला की तैयारी कर रही होगी.

कोहली पहले ही कह चुके हैं कि जैविक रूप से सुरक्षित माहौल से ब्रेक के अलावा खिलाड़ियों के काम के बोझ का प्रबंधन करने की जरूरत है.

यह भी पढ़िएः फॉफ डुप्लेसिस को सिर में लगी चोट, PSL के बाकी मैचों से हुए बाहर

भारत की मजबूत बेंच स्ट्रैंथ को दर्शाता है दो जगह खेलना

धूमल ने पीटीआई से कहा, 'यह निश्चित संभावना है कि भारत युवा टीम के साथ सीमित ओवरों की एक और श्रृंखला खेल सकता है जबकि मुख्य खिलाड़ी कहीं और खेल रहे हों या उन्हें ब्रेक की जरूरत हो. ऐसे मामले में कोविड-19 से जुड़ी पाबंदियों पर भी गौर करने की जरूरत है.

' उन्होंने कहा, 'यह (दो भारतीय टीम) भारतीय टीम की मजबूत बेंच स्ट्रैंथ को भी दर्शाता है और हमें अधिक द्विपक्षीय श्रृंखलाओं के आयोजन का मौका देता है और अन्य बोर्ड की मदद करता है जो महामारी के बीच वित्तीय चुनौतियों का सामना कर रहे हैं.'

धूमल ने कहा, 'पिछले 18 महीने में द्विपक्षीय क्रिकेट के नुकसान से निपटने के लिए नए विचारों को लाना जरूरी है.' भारत ने 13 जुलाई से शुरू हो रहे श्रीलंका के तीन एकदिवसीय और तीन टी20 अंतरराष्ट्रीय मैचों के दौरे के लिए छह ऐसे खिलाड़ियों को चुना है जिन्होंने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट नहीं खेला है. सभी मैच कोलंबो में खेले जाएंगे.

यह भी पढ़िएः फॉफ डुप्लेसिस को सिर में लगी चोट, PSL के बाकी मैचों से हुए बाहर

महिला क्रिकेट भविष्य में करेगी तरक्की

बीसीसीआई को महिला क्रिकेट का पर्याप्त तवज्जो नहीं देने के लिए आलोचना का सामना करना पड़ता है और धूमल ने कहा कि बोर्ड देश में खेल को बढ़ावा देने के लिए सभी जरूरी कदम उठा रहा है. उन्होंने कहा, 'बीसीसीआई के अंतर्गत आने के बाद महिला क्रिकेट ने लंबा सफर तय किया है. भविष्य में खेल और प्रगति करेगा और बोर्ड उभरती हुई महिला क्रिकेटरों को अधिक अनुभव और मौके देने के लिए कोई कसर नहीं छोड़ेगा.'

धूमल ने कहा, 'बोर्ड ने इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया के आगामी दौरों के साथ अगले साल विश्व कप से पहले टीम को अधिक मैच खिलाने का प्रयास किया है.' उन्होंने कहा, 'हमें उन्हें दोबारा टेस्ट खेलते हुए देखने की बहुत खुशी है और खिलाड़ियों को शुभकामनाएं देते हैं.'

आईपीएल के दौरान वुमेंस चैलेंज का आयोजन मुश्किल

धूमल ने हालांकि कहा कि आईपीएल के दौरान वुमेंस चैलेंज की जगह बनाना मुश्किल होगा क्योंकि जब आईपीएल का दूसरा चरण शुरू होगा तो टीम को 19 सितंबर से ऑस्ट्रेलिया में तीन एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय, एक गुलाबी गेंद का टेस्ट और तीन टी20 अंतरराष्ट्रीय खेलने हैं. ऑस्ट्रेलिया पहुंचने पर खिलाड़ियों को 14 दिन के पृथकवास से भी गुजरना होगा. धूमल ने कहा, 'मौजूदा कार्यक्रम को देखते हुए आईपीएल के दौरान वुमेंस चैलेंज की जगह तलाशना मुश्किल है.'

Zee Hindustan News App: देश-दुनिया, बॉलीवुड, बिज़नेस, ज्योतिष, धर्म-कर्म, खेल और गैजेट्स की दुनिया की सभी खबरें अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें ज़ी हिंदुस्तान न्यूज़ ऐप.  

ज़्यादा कहानियां

ट्रेंडिंग न्यूज़