CBSE Board Exam: बोर्ड परीक्षा टलने के बाद प्रतियोगी परीक्षाओं को लेकर चिंतित नजर आ रहे छात्र

शिक्षा मंत्रालय ने बुधवार को सीबीएसई बोर्ड की 12वीं की परीक्षा को कुछ समय के लिए टालने का फैसला किया है. ऐसे में बच्चों के मन में सवाल उठ रहे हैं कि वे प्रतियोगी परीक्षाओं में कैसे भाग लेंगे.

Written by - Zee Hindustan Web Team | Last Updated : Apr 15, 2021, 12:17 PM IST
  • बोर्ड परीक्षा को लेकर 1 जून को होगी रिव्यू मीटिंग
  • प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी पर ध्यान केंद्रित करें छात्र
CBSE Board Exam: बोर्ड परीक्षा टलने के बाद प्रतियोगी परीक्षाओं को लेकर चिंतित नजर आ रहे छात्र

नई दिल्ली: देश में तेजी से बढ़ रहे कोरोना के मामलों के बीच कई दिनों से छात्र और अभिवावक सीबीएसई बोर्ड की परीक्षाएं कैंसिल करने की अपील कर रहे थे. 

इस पर संज्ञान लेते हुए देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक बैठक बुलाई. जिसके बाद भारत सरकार के शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल 'निशंक' ने सीबीएसई बोर्ड की 10वीं  की परीक्षा स्थगित करने और 12वीं की परीक्षा को कुछ समय के लिए टालने की घोषणा की है. 

प्रतियोगी परीक्षाओं को लेकर दुविधा में छात्र

सीबीएसई बोर्ड की 12वीं  कक्षा की परीक्षाएं कुछ समय के लिए टाल दिए जाने के बाद कई छात्रों की चिंता बढ़ गई है कि अब परीक्षाओं का आयोजन कब किया जाएगा. 

शिक्षा मंत्रालय ने यह जानकारी दी है कि 1 जून को एक रिव्यू मीटिंग की जाएगी, इसके बाद ही परीक्षाओं के आयोजन को लेकर अंतिम फैसला लिया जाएगा. 

विशेषज्ञों का मानना है कि देश में अगर हालात तब तक ठीक हो जाते हैं, तब भी 1 जून की मीटिंग के बाद भी 15 जून से पहले परीक्षाओं का आयोजन नहीं किया जा सकेगा.

छात्रों के मन में अभी सबसे बड़ा सवाल यह है कि अगर बोर्ड परीक्षाएं देर से होती हैं, तो JEE और NEET जैसी प्रतियोगी परीक्षाएं भी प्रभावित होंगी.

इस पर विशेषज्ञों का मानना है कि छात्रों को बोर्ड परीक्षा की चिंता छोड़ते हुए अब प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी में लग जाना चाहिए. 

छात्रों के पास यह अच्छा मौका है कि वे प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए बेहतर तैयारी कर सकते हैं. 

यह भी पढ़िए: Petrol Price: 15 दिनों बाद गिरे पेट्रोल के दाम, जानिए किन शहरों में कितनी पहुंची कीमत 

क्या ऑनलाइन हो  सकती है परीक्षा

देश में अगर आने वाले दिनों में कोरोना संक्रमण की रफ्तार कम नहीं होती है, तो हो सकता है कि सीबीएसई ऑनलाइन परीक्षा के विकल्प को अपनाए.

अभी देश में कोरोना संक्रमण के मामले बहुत तेजी से बढ़ रहे हैं और अभी देश में एक बड़ी आबादी को वैक्सीन नहीं मिल पाई है. ऐसे में जून तक देश में कोरोना संक्रमण के मामले कम होने की संभावना काफ्गी कम है. \

इन सभी को ध्यान में रखते हुए सीबीएसई ऑनलाइन परीक्षा के विकल्प का चुनाव कर सकती है. विशेषज्ञों का कहना है कि अगर परीक्षाएं ऑनलाइन होती हैं, तो प्रश्नपत्र में बहुत कठिन प्रश्न पूछे जाने की संभावना काफी कम रहेगी. 

इसलिए छात्रों को अभी अधिक से अधिक प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी पर ध्यान केंद्रित करना चाहिए. 

यह भी पढ़िए: इन बचत योजनाओं में कीजिए निवेश और बनाइए अपना भविष्य सुरक्षित

Zee Hindustan News App: देश-दुनिया, बॉलीवुड, बिज़नेस, ज्योतिष, धर्म-कर्म, खेल और गैजेट्स की दुनिया की सभी खबरें अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें ज़ी हिंदुस्तान न्यूज़ ऐप.

 

ज़्यादा कहानियां

ट्रेंडिंग न्यूज़