• देश में कोविड-19 से सक्रिय मरीजों की संख्या 86,110 पहुंची, जबकि संक्रमण के कुल मामले 1,58,333: स्त्रोत-PIB
  • कोरोना से ठीक होने वाले लोगों की संख्या- 67,692 जबकि अबतक 4,531 मरीजों की मौत: स्त्रोत-PIB
  • जो छात्र लॉकडाउन में गृह जिले में नहीं हैं, बोर्ड परीक्षा केंद्र उनके वर्तमान जिले में स्थानांतरित कर दिया जाएगा: HRD मंत्री
  • पीएमजीकेवाई के तहत राज्यों / केंद्र शासित प्रदेशों में 13.4 करोड़ लाभार्थियों को 1.78 लाख एमटी दाल वितरित की गई
  • लॉकडाउन के दौरान पीएम-किसान के तहत 9.67 करोड़ किसानों के लिए 19,350.84 करोड़ रुपये जारी किए गए
  • रेलवे ने 3543 श्रमिक स्पेशल ट्रेनों का परिचालन किया; 48+ लाख यात्रियों को उनके गंतव्य तक पहुंचाया गया
  • 579 लाइफलाइन उड़ानों ने 5,37,085 किलोमीटर की दूरी तय कर 927 टन मेडिकल और आवश्यक कार्गो का परिवहन किया
  • वाणिज्य और उद्योग मंत्री ने उद्योग और व्यापार संगठनों के साथ बातचीत की और #AatmaNirbharBharat पर जोर दिया
  • डीएसटी-एसईआरबी ने कोविड 19 के खिलाफ संरचना आधारित संभावित एंटीवायरलों की पहचान के लिए अध्ययन का समर्थन किया
  • MoHFW की ओर से आँखों की सुरक्षा-चश्मों के पुन: प्रसंस्करण और पुनः उपयोग पर एक परामर्श भी जारी किया गया है

भारतीय सीमा पर अमेरिकी चेतावनी को चीन ने बताया बकवास

कोरोना पर चीन का चेहरा बेनकाब होने के बाद अब चीन बेशर्मी पर उतारू है. लद्दाख-सिक्किम सीमा पर भारतीय सैनिकों से झड़प पर जब उसे अमेरिका की झाड़ पड़ी तो चीन ने कहा ये बकवास है आपकी !  

भारतीय सीमा पर अमेरिकी चेतावनी को चीन ने बताया बकवास

नई दिल्ली.  अमेरिका चीन की किसी भी बेजा हरकत को बख्शने के मूड में नहीं है. अपने मित्र राष्ट्र भारत के साथ अपनी एकता की अभिव्यक्ति के साथ अमेरिका ने  लद्दाख-सिक्किम सीमा पर बदतमीजी कर रहे चीन को चेतावनी दी है . लेकिन बेशर्मी के साथ चीन की इस पर प्रतिक्रिया आई है और उसने कहा ये आपकी बकवास है!

 

अमेरिकी कूटनीतिज्ञ ने किया था बयान जारी 

हाल ही में लद्दाख में भारत चीन सीमा पर तनाव पैदा करने की बेजा हरकत पर अमेरिका ने भारत को समर्थन दिया था और चीन की निन्दा की थी. अमेरिका की वरिष्ठ कूटनीतिज्ञ ने बयान जारी करके चीन के व्यवहार को उकसाने और समस्या पैदा करने वाला करार दिया था. 

जवाब दिया चीनी विदेश मंत्रालय ने 

भारत के समर्थन में अमेरिकी चेतावनी पर चीन ने तुरंत प्रतिक्रिया दी जो कि उसकी बदमिजाजी की दूसरी बानगी है. चीनी विदेश मंत्रालय ने बयान जारी करके कहा है कि ये आपकी बकवास है. और बेहतर हो कि अमेरिका भारत और चीन के बीच संचार चैनल बनने की कोशिश न करे. 

ये भी पढ़े. कोरोना काल में अमेरिकन ज्योतिषी की भविष्यवाणी

''चीनी आक्रमण सिर्फ बातों का नहीं होता''

अमेरिका के वरिष्ठ कूटनीतिज्ञ ने अपने बयान में कहा कि- इसे एक चेतावनी की तरह लिया जाना चाहिए क्योंकि चीनी आक्रमण सदा शब्दों पर आधारित नहीं होता और चाहे वह दक्षिण चीन सागर में हो या चाहे वह भारत के साथ सीमा पर हो, अमेरिका ने हमेशा चीन के व्यवहार को उकसाने वाला और परेशान करने वाला पाया है. चीन अपनी बढ़ती शक्ति का उपयोग कैसे करना चाहता है, यह दुनिया से छिपा नहीं है. अमेरिका की प्रमुख उप सहायक सचिव एलिस वैल्स ने वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए पत्रकारों से बातचीत में यह बात कही.  

ये भी पढ़े. क्या राजीव गांधी हत्याकांड के रहस्य से पर्दा उठना बाकी है?