• देश में कोविड-19 से सक्रिय मरीजों की संख्या 1,01,497 पहुंची, जबकि संक्रमण के कुल मामले 2,07615: स्त्रोत-PIB
  • कोरोना से ठीक होने वाले लोगों की संख्या- 1,00,303 जबकि अबतक 5,815 मरीजों की मौत: स्त्रोत-PIB
  • रेलवे ने 4155 श्रमिक स्पेशल ट्रेनों का परिचालन किया; 57+ लाख यात्रियों को उनके गंतव्य तक पहुँचाया गया
  • इलेक्ट्रॉनिक्स और आईटी मंत्री ने #AatmaNirbharBharat के लिए इलेक्ट्रॉनिक्स उत्पादन को बढ़ावा देने के लिए 3 योजनाओं की शुरुआत की
  • #AatmaNirbharBharat के लिए #MakeInIndia को प्रोत्साहित करने के लिए DPIIT ने पब्लिक प्रोक्योरमेंट ऑर्डर, 2017 में संशोधन किया
  • एंटी-कोविड ​​ड्रग मॉलेक्यूल के फास्ट-ट्रैक विकास के लिए SERDB-DST ने IIT (BHU) वाराणसी में अनुसंधान के लिए सहयोग को मंजूरी दी
  • ट्राइफेड कोविड ​​-19 के कारण संकट में पड़े आदिवासी कारीगरों को हरसंभव सहायता प्रदान करेगी
  • पीएसए और डीएसटी ने संयुक्त रूप से राष्ट्रीय विज्ञान प्रौद्योगिकी और नवाचार नीति 2020 के निर्माण की प्रक्रिया की शुरुआत की
  • कृषि, सहकारिता एवं किसान कल्याण विभाग ने विभिन्न बागवानी फसलों के लिए 2019-20 का दूसरा अग्रिम अनुमान जारी किए हैं
  • कोविड के लक्षण विकसित होने पर, घबराएं नहीं, तुरंत 1075 पर कॉल करें #IndiaFightsCorona #BreakTheStigma

अब हांगकांग पर भारत का समर्थन मांगा चीन ने

चीन एक तरफ जहां हांगकांग के लोकतंत्रवादी प्रदर्शनकारियों को कुचलने की तैयारी में नजर आता है वहीं लद्दाख में भारत के साथ सीमा-विवाद कर रहा यही चीन बेशर्मी के साथ हांगकांग को लेकर बनाये अपने नए कानून पर भारत का समर्थन भी मांग रहा है..  

अब हांगकांग पर भारत का समर्थन मांगा चीन ने

नई दिल्ली.  चीन की बेशर्मी देखिये अपनी विस्तारवादी नीति के तहत अपने हर पड़ौसी के साथ विवाद करने वाला यह जहरीला ड्रैगन अपनी ऐसी ही एक नई कोशिश पर समर्थन मांग रहा है.  चीन ने हांगकांग के लिये नया राष्ट्रीय सुरक्षा कानून बनाया है. अब इस विवादास्पद कानून को लागू करते समय वह उम्मीद कर रहा है कि दुनिया के देश उसका समर्थन करेंगे.

 

कहा - पृथकतावादी ताकतों पर काबू पाना है

चीन दुनिया के देशों से हांगकांग को लेकर किये अपने विवादास्पद फैसले पर भारत एवं अन्य देशों से  समर्थन मांग रहा है. इस पर अपनी कैफियत चीन यह दे रहा है कि उसका लक्ष्य इस पूर्व ब्रिटिश कॉलोनी में 'पृथकतावादी' ताकतों पर नियंत्रण करना है. चीन का मानना है कि हांगकांग के लोकतांत्रिक नागरिक चीन की राष्ट्रीय सुरक्षा एवं संप्रभुता के लिए 'गंभीर' खतरा पैदा कर रहे हैं.

चीन ने कहा कि ये हमारा अंदरूनी विषय है 

हांगकांग पर कार्रवाई को तैयार चीन ने पहले ही किसी भी भावी अंतरराष्ट्रीय प्रतिक्रिया को खारिज करने की अपनी कोशिश पहले ही तैयार कर ली है और इसके लिए उसने अपने नए मसौदा कानून के कारणों को स्पष्ट करते हुए भारत तथा दुनिया के दूसरे बड़े देशों को पत्र लिख कर उनका समर्थन माँगा है. अहम् बात ये है कि हांगकांग को अपना विशेष प्रशासनिक क्षेत्र बताते हुए चीन ने वहां राष्ट्रीय सुरक्षा बनाए रखने को देश का अंदरूनी विषय करार दिया है.

 

संसद में पास कराया क़ानून चीन ने 

हांगकांग पर कब्जा जमाने की अपनी जहरीली मंशा से चीन ने हाल ही में अपनी संसद में हांगकांग में विवादास्पद राष्ट्रीय सुरक्षा कानून का मसौदा पेश किया था. हांगकांग की की क्षेत्रीय स्वायत्तता एवं निजी स्वतंत्रता पर यह पिछले एक दशक में सबसे बड़ा प्रहार है. 1997 में इसे अंग्रेजों ने चीन को सौंप दिया था और यहां तब से 'एक देश दो विधान' चल रहा है.

ये भी पढ़ें. मालदीव ने दिया भारत का साथ, OIC में पाक हुआ हलाक