शुरू हो गया तीसरा विश्व युद्ध! "अदृश्य दुश्मन" दुनिया को अकेले कर देगा तबाह?

तीसरे विश्व युद्ध की शुरूआत हो चुकी है. इस जंग में जीत किसकी होगी ये कोई नहीं जानता, दुश्मन कैसा है ये भी किसी को नहीं पता... मालूम है तो सिर्फ उसका नाम, कोरोना वायरस. इस लड़ाई में पूरी दुनिया बनाम अदृश्य दुश्मन के बीच दो-दो हाथ हो रहा है. दुनिया की अर्थव्यवस्था को द्वितीय विश्व युद्ध से ज्यादा का नुकसान हो चुका है.

शुरू हो गया तीसरा विश्व युद्ध! "अदृश्य दुश्मन" दुनिया को अकेले कर देगा तबाह?

नई दिल्ली: एक अदृश्य दुश्मन, जिससे इस वक्त पूरी धरती कांप रही है, दुनिया की हर महाशक्ति सहमी हुई है. हम बात कर रहे हैं कोरोना वायरस की. जिसे लेकर दुनियाभर में कोहराम मचा हुआ है. हर कोई सहमा हुआ है और अब तो अलग-अलग रिपोर्ट्स में ये दावे भी किये जा रहे हैं कि कोरोना से दुनिया की अर्थव्यवस्था को इतना नुकसान हुआ है जितना कि द्वितीय विश्व युद्ध में भी नहीं हुआ था.

कोरोना ने तोड़ दी वैश्विक अर्थव्यवस्था की कमर

कोरोना वायरस चीन की देन है या नहीं  ये जांच के बाद पता चलेगा. लेकिन इस महामारी के कारण पूरी दुनिया को गंभीर आर्थिक संकट का सामना करना पड़ेगा.

वर्ल्ड बैंक की रिसर्च में किया गया बड़ा दावा

World Bank की एक रिसर्च के मुताबिक किसी महामारी की वजह से दुनिया की अर्थव्यवस्था को करीब 215 लाख करोड़ रुपए का नुकसान हो सकता है.

भारत की GDP से ज्यादा घाटा का अनुमान

भारत की GDP लगभग 204 लाख करोड़ रुपए की है यानी भारत की GDP से ज्यादा का घाटा विश्व की अर्थव्यवस्था हो सकता है. साथ ही दुनिया के लगभग 190 देश ऐसे हैं जिनकी अर्थव्यवस्था 215 लाख करोड़ रुपए से कम है.

Corona Virus की वजह से दुनिया की दूसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था यानी चीन को बड़ा नुकसान हुआ है और इसका बुरा असर अब पूरी दुनिया पर दिखाई दे रहा है.

द्वितीय विश्व युद्ध से दोगुना नुकसान की आशंका

Second World War की वजह से विश्व को लगभग 136 लाख करोड़ रुपए का नुकसान हुआ था और Corona Virus की वजह से इससे दोगुना नुकसान होने की आशंका है. इस विश्व युद्ध में दुनिया के 30 देश शामिल थे लेकिन आज Corona Virus से 170 से ज्यादा देश प्रभावित हैं.

WTO ने सबसे बड़ी आर्थिक मंदी की चेतावनी दी

कैसे कोरोना वायरस से पूरी दुनिया में सबसे बड़ी आर्थिक मंदी की आहट सुनाई देने लगी है, द वर्ल्ड ट्रेड ऑर्गनाइज़ेशन यानी WTO ने चेतावनी दी है कि कोरोना के चलते दुनिया को सबसे भारी नुकसान होने वाला है.

कोरोना से सबसे बड़ी आर्थिक मंदी?

1. कोरोना की वजह से 2008 से भी बुरे हालात होंगे
2. महामारी का अर्थव्यवस्था पर बुरा असर पड़ेगा 
3. अर्थव्यवस्था गिरने, नौकरियां जाने से हालात ख़राब होंगे
4. दुनिया भर के व्यापार में तेज़ी से गिरावट आएगी 
5. सटीक आंकलन मुश्किल है लेकिन व्यापार में बड़ी मंदी आएगी
6. वैश्विक वित्तीय संकट 2 दशक पहले से भी बुरा होगा
7. इसलिए दुनिया के सभी देशों को एकजुट होकर वायरस से लड़ना होगा
8. दुनिया के साथ आने से ही वैश्विक मंदी का असर कम होगा
(Source- WTO)

इसे भी पढ़ें: दो महीने में भारत में आ सकते हैं 13 लाख मामले

दुनिया की अर्थव्यवस्था को भारी नुकसान पहुंचाने वाले कोरोना नामक अदृश्य दुश्मन से निपटने के लिए पूरा विश्व जद्दोजहद कर रहा है. लेकिन हालात बेकाबू होते जा रहे हैं. सुपरपावर अमेरिका से लेकर चीन, इटली जैसे देशों का हाल बद से बदतर होता जा रहा है. अब वैश्विक अर्थव्यवस्था को भी भारी नुकसान होता दिखाई देने लगा है.

इसे भी पढ़ें: कोरोना लॉकडाउन के दौरान घर पर रहकर बोर हो गए हैं तो आजमाएं ये तरीके

इसे भी पढ़ें: कोरोना के खिलाफ हिंदुस्तान का ग्लोबल युद्ध! G-20 देशों ने की भारत की तारीफ