• पूरे देश में कोरोना वायरस के कुल सक्रिय मामले अभी तक 4312 हैं, अभी तक 124 लोगों की मृत्यु हुई, 353 लोग इलाज के बाद ठीक हुए
  • स्वास्थ्य मंत्रालय ने कोरोना मरीजों की देखभाल के लिए अस्पताल और अन्य सुविधाओं को तीन भागों में बांटा.
  • भारतीय रेलवे अपने डॉक्टरों और चिकित्साकर्मियों की सुरक्षा के लिए हर रोज एक हजार पीपीआई किट का निर्माण करेगी
  • कोरोना से निपटने के लिए राहत कार्यों में योगदान देने के लिए पूर्व सैनिकों ने स्वैच्छिक सेवाएं प्रदान की
  • लॉकडाउन के बीच जहाजों का आवागमन होगा, पोत परिवहन मंत्रालय ने सुनिश्चित किया
  • सरकार के दीक्षा ऐप पर कोरोना से जूझने वालों के लिए इंटीग्रेटेड ऑनलाइन गवर्नमेन्ट ट्रेनिंग यानी IGOT कोर्स लाया गया है
  • पूरी दुनिया में कोरोना वायरस की चपेट में 1,428,428, अब तक कुल 82,020 की मौत हो चुकी है. 3,00,198 मरीज ठीक भी हुए.
  • राज्यों में कुल कोरोना संक्रमण- महाराष्ट्र में 1161, तमिलनाडु में 690, दिल्ली में 606, तंलंगाना में 404, केरल में 336
  • उत्तर प्रदेश में 332 राजस्थान में 343, आंध्र में 324, मध्य प्रदेश में 280, कर्नाटक में 204, गुजरात में 168

दो महीने में भारत में आ सकते हैं 13 लाख मामले

ये डरावना अनुमान एक रिपोर्ट के माध्यम से सामने आया है. ये रिपोर्ट और ये अनुमान सत्य हों या न हों, इसकी चेतावनी हमारे काम आ सकती है. यदि हम अपने यशस्वी प्रधानमंत्री के निर्देशों का ईमानदारी से पालन करते हुए लॉकडाउन को सफल बनाएं तो देश को कोरोना पर विजय प्राप्त करने से कोई रोक नहीं सकता..

दो महीने में भारत में आ सकते हैं 13 लाख मामले

नई दिल्ली: कोरोना के जहरीले वायरस ने जितनी तेजी से अपने पाँव दुनिया भर में पसारे हैं उसके आधार पर एक अनुमान लगा कर एक रिपोर्ट तैयार की गई है. ये रिपोर्ट भारत को सावधान करते हुए बताती है कि मई के मध्य तक भारत में कोरोना संक्रमणल यह मामले बढ़कर दस लाख से तेरह लाख तक पहुंच सकते हैं.

अमरीका से आई है ये रिपोर्ट

संयुक्त राज्य अमेरिका के वैज्ञानिकों की टीम राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर कोरोना का अध्ययन कर रही है. इस अध्ययन के आधार पर इस टीम ने आंकड़ों के अनुमान वाली एक रिपोर्ट तैयार की है. भारत के लिये इस रिपोर्ट में एक बड़ी चेतावनी दर्शित हुई है. ये रिपोर्ट कहती है कि अनुमानित तौर पर मध्य मई तक भारत में नए कोरोनो संक्रमण के दस से तेरह लाख मामले सामने आ सकते हैं.

कोरोना से भारत में चिंता बढ़ी

इस रिपोर्ट ने सवा सौ करोड़ की जनसंख्या वाले भारत के चिकित्सा अधिकारियों और विशेषज्ञों के बीच चिंताओं को बढ़ा दिया है. देश के यशस्वी प्रधानमंत्री मोदी अब तक के सर्वाधिक सक्रिय प्रधानमंत्री सिद्ध हुए हैं. ऐसे में कोरोना से युद्ध की तैयारियों को लेकर देश में उत्साह है.

इसे भी पढ़ें: कोरोना के खिलाफ हिंदुस्तान का ग्लोबल युद्ध! G-20 देशों ने की भारत की तारीफ

फिर भी अनुमान है कि आने वाले हफ्तों में कोरोना संक्रमण के नए मामले तेजी से बढ़ सकते हैं. और ये स्थिति देश की स्वास्थ्य प्रणाली में गंभीर तनाव पैदा कर सकती है

मई का दूसरा हफ्ता निर्णायक

कोरोना वायरस के भारत पर होने वाले बड़े हमले को ले कर रिसर्चर्स ने जो आशंका जताई है उसके अनुसार मई माह के दूसरे हफ्ते तक देश में कोरोना वायरस के 13 लाख केस आ सकते हैं. 

इसे भी पढ़ें: नकाबपोश चीन दुनिया के सवालों के घेरे में

अमरीकी वैज्ञानिकों की टीम भारत में कोरोना के मामलों की स्टडी कर रही है. ग्रुप के रिसर्चर्स ने भारत में कोरोना की मौजूदगी वाले आंकड़ों का अध्ययन करने के बाद जारी रिपोर्ट में ये आशंका जताई है.

इसे भी पढ़ें: और भी कदम उठाने होंगे, सिर्फ लॉकडाउन काफी नहीं!

इसे भी पढ़ें: अगर कोरोना साजिश तो सवालों के घेरे में डब्ल्यूएचओ