एक भी ICC टूर्नामेंट्स में रंग नहीं लाई Virat Kohli की कप्तानी, हर बार लौटना पड़ा खाली हाथ
X

एक भी ICC टूर्नामेंट्स में रंग नहीं लाई Virat Kohli की कप्तानी, हर बार लौटना पड़ा खाली हाथ

दरअसल विराट एंड कंपनी ने आईसीसी (ICC) की हर टूर्नामेंट में अपनी काबिलीयत का लोहा मनवाया है लेकिन 'विराट सेना' एक बार भी खिताब अपने नाम नहीं कर पाई है. 

एक भी ICC टूर्नामेंट्स में रंग नहीं लाई Virat Kohli की कप्तानी, हर बार लौटना पड़ा खाली हाथ

नई दिल्ली: आईसीसी टी20 वर्ल्ड कप (ICC T20 World Cup) का आगाज हो चुका है. भारत के 2 प्रेक्टिस मैच को छोड़ दें तो पहला मुकाबला चिर प्रतिद्वंदी पाकिस्तान से होगा. यह मुकाबला 24 अक्टूबर को दुबई के स्टेडियम में भारतीय समय के मुताबिक 7 बजे से खेला जाएगा. हर बार की तरह इस बार भी भारत पाकिस्तान के मैच को लेकर क्रिकेट फैंस के बीच दिलचस्पी देखने को मिल रही है लेकिन क्या आपने कभी यह सोचा है कि भारतीय टीम के कप्तान विराट कोहली (Virat Kohli) की कियादत में इससे पहले खेली गई ICC की टूर्नामेंट्स में क्या हालत रही है.

ICC Champions Trophy 2017
दरअसल विराट एंड कंपनी ने आईसीसी (ICC) की हर टूर्नामेंट में अपनी काबिलीयत का लोहा मनवाया है लेकिन 'विराट सेना' एक बार भी खिताब अपने नाम नहीं कर पाई है. भारतीय टीम ने विराट कोहली (Virat Kohli) की कप्तानी में पहली आईसीसी टूर्नामेंट साल 2017 में "चेंपियंस ट्राफी" खेली थी. इस टूर्नामेंट में भारत ने पहले पाकिस्तान के 124 रनों से करारी शिकस्त देने के बाद सेमिफाइनल तक का सफर एक 'हटो बचो' की तरह किया था लेकिन फाइनल मुकाबले में एक बार फिर भारतीय टीम का सामना पाकिस्तान हो गया. इस मुकाबले में लोगों को उम्मीद थी कि भारत इस बार भी पाकिस्तान को पटखनी दे देगा लेकिन हुआ इसके उलट और भारत को पाकिस्तान से शिकस्त का सामना करना पड़ा.

यह भी देखिए: IPL 2021: MS धोनी की दरियादिली: बोले- चेन्नई नहीं यह टीम थी IPL खिताब की हकदार

चैंम्पियंस ट्राफी के फाइनल मुकाबले में पाकिस्तानी टीम ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 338 रनों का पहाड़ जैसा हदफ भारत के सामने रखा. भारतीय टीम टारगेट का पीछा करते हुए सिर्फ 158 रनों पर ही सिमट गई. इस मुकाबले में भारतीय टीम को 180 रनों से हार का सामना करना पड़ा. साथ ही करोड़ों भारतीयों का ट्राफी जीतने का सपना भी चकनाचूर हो गया. वो भी उस टीम के खिलाफ खेलते हुए जिससे हारते हुए लगभग हर भारतीय अपने आपको शर्मिंदा महसूस करता है. 

ICC World Cup 2019
इसके बाद विराट कोहली की ही कप्तानी में साल 2019 में ICC वर्ल्ड कप खेला गया. इस टूर्नामेंट में भी भारतीय टीम के लगभग हर खिलाड़ी ने खुद का लोहा मनवाया था. यहां तक कि भारतीय टीम की परफॉर्मेंस देखकर हर दिग्गज और क्रिकेट की समझ रखने वाले पहले ही भारतीय टीम को इस टूर्नामेंट का फातेह मान चुके थे. भारतीय टीम ने अपने प्रदर्शन से सभी के दिल में जगह बनाई. इस टूर्नामेंट में भारतीय टीम ने 9 मैचों में सिर्फ एक हार के साथ प्वाइट टेबल में टॉप पर पहुंच गई लेकिन न्यूजीलैंड के खिलाफ हुए सेमीफाइनल में भारत दबाव झेल नहीं पाया.

यह भी देखिए: T20 World Cup: पाकिस्तान की जर्सी पर अब भारत का नाम

इस मुकाबले में न्यूजीलैंड ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 239/8 का स्कोर बनाया. भारत ने रन-चेज में खराब शुरुआत की और पहले चार ओवरों में टीम का स्कोर 3 विकेट पर 5 रन था. इस मुकाबले में सिर्फ रविंद्र जाडेजा ने 77 और महेंद्र सिंह धोनी के 50 रन यादगार रहे लेकिन इन दोनों की यह यादगार इनिंग मैच जिताने के लिए काफी नहीं थी. इस मैच में भारत को 18 रनों से शिकस्त का सामना करना पड़ा.

ICC Test Championship
इसके बाद साल 2019 से 2021 तक खेली गई आईसीसी टेस्ट चैंपियनशिप में भी भारतीय टीम ने सब को पछाड़ दिया. इसके फाइनल मुकाबले भारतीय टीम का एक बार फिर न्यूजीलैंड से सामना हुआ. भारत की तरह ही न्यूजीलैंड ने भी लीग चरणों में कमाल के प्रदर्शन को फाइनल में जारी रखा और साउथैम्प्टन में बारिश से प्रभावित हुए इस फाइनल मुकाबले में भारत को 8 विकेट से शिकस्त देकर विश्व टेस्ट चैंपियनशिप का पहला चैंपियन बना.

ZEE SALAAM LIVE TV

Trending news