close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

अधिकांश टीमें भारत से आतंकित, मौजूदा टीम इंडिया 70 के दशक की WI जैसी: श्रीकांत

भारत के पूर्व सलामी बल्लेबाज कृष्णामाचारी श्रीकांत ने विराट कोहली की कप्तानी वाली भारतीय टीम की तुलना सत्तर के दशक की वेस्टइंडीज टीम के साथ करते हुए कहा कि अधिकांश विरोधी टीमें भारत से आतंकित है.

अधिकांश टीमें भारत से आतंकित, मौजूदा टीम इंडिया 70 के दशक की WI जैसी: श्रीकांत

मैनचेस्टर: भारत के पूर्व सलामी बल्लेबाज कृष्णामाचारी श्रीकांत ने विराट कोहली की कप्तानी वाली भारतीय टीम की तुलना सत्तर के दशक की वेस्टइंडीज टीम के साथ करते हुए कहा कि अधिकांश विरोधी टीमें भारत से आतंकित है. श्रीलंका ने पाकिस्तान पर विश्व कप के मैच में मिली 89 रन से जीत के बाद यह बात कही.

श्रीकांत ने आईसीसी के लिये अपने कॉलम में लिखा, ''यह टीम सत्तर के दशक की वेस्टइंडीज टीम जैसी बनती जा रही है जिसमें विरोधी टीमें पहले ही मनोवैज्ञानिक दबाव में रहती थी. टीमें भारत का सामना करने को लेकर चिंतित हैं और बैकफुट पर चली जाती हैं.'' भारत ने अभी तक दक्षिण अफ्रीका, ऑस्‍ट्रेलिया और पाकिस्तान को हरा दिया है.

केएल राहुल की तारीफ
केएल राहुल की तारीफ करते हुए श्रीकांत ने कहा,‘‘सभी को पता है कि रोहित शर्मा कितना शानदार बल्लेबाज है लेकिन मेरी नजर में केएल राहुल की पारी अधिक अहम थी. इस मैच से पहले सबसे बड़ा सवाल ही यह था कि शिखर धवन के बिना टीम कैसे खेलेगी.’’ उन्होंने कहा,‘‘शीर्ष तीनों बल्लेबाजों ने रन बनाये. शर्मा और राहुल ने शतकीय साझेदारी की और विराट ने भी उम्दा पारी खेली जो भारत के लिये अच्छी बात है.’’

कुलदीप यादव
फखर जमां और बाबर आजम के अहम विकेट लेने वाले कुलदीप यादव की गेंदबाजी के बारे में उन्होंने कहा ,‘‘इस मैच से पहले कुलदीप यादव के फार्म को लेकर चिंता थी लेकिन उसने कमाल की गेंदबाजी की. बाबर को जिस गेंद पर आउट किया, वह शानदार थी.’’ उन्होंने कहा ,‘‘जसप्रीत बुमराह, भुवनेश्वर कुमार, युजवेंद्र चहल और कुलदीप सभी अच्छी गेंदबाजी कर रहे हैं. इंग्लैंड में सब कुछ ठीक चल रहा है और प्रशंसकों काफी खुश होंगे.’’

श्रीकांत ने कहा कि पाकिस्तान ने पहले गेंदबाजी चुनकर गलती की. उन्होंने कहा ,‘‘पाकिस्तान पर ज्यादा दबाव था. उन्होंने इस मैच को खास समझकर दबाव बनाया जबकि भारतीय इसे आम मैच की तरह ले रहे थे. विश्व कप में यह जरूरी है. आप खुद पर इतना दबाव नहीं डाल सकते.’’

(इनपुट: एजेंसी भाषा)