close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

महाराष्ट्र के किसान ने प्याज बेचने से हुई 6 रुपये की कमाई मुख्यमंत्री को भेजी

महाराष्ट्र के अहमदनगर जिले के एक किसान ने प्याज की कीमतों में आई जबरदस्त गिरावट और प्याज बेचने के एवज में मिलने वाली मामूली रकम को लेकर अपना विरोध दर्ज कराने की खातिर मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस को 6 रुपये का मनी ऑर्डर भेजा है.

महाराष्ट्र के किसान ने प्याज बेचने से हुई 6 रुपये की कमाई मुख्यमंत्री को भेजी

मुंबई : महाराष्ट्र के अहमदनगर जिले के एक किसान ने प्याज की कीमतों में आई जबरदस्त गिरावट और प्याज बेचने के एवज में मिलने वाली मामूली रकम को लेकर अपना विरोध दर्ज कराने की खातिर मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस को 6 रुपये का मनी ऑर्डर भेजा है. श्रेयस अभाले नाम के किसान ने बताया कि जिले के संगमनेर थोक बाजार में 2657 किलो प्याज 1 रुपये प्रति किलो की दर से बेचने और बाजार के खर्च निकालने के बाद उसके पास महज 6 रुपये बचे.

मुख्यमंत्री का ध्यान दिलाने की कोशिश
श्रेयस ने कहा, 'संगमनेर थोक बाजार में मैं जब 2,657 किलो प्याज लेकर आया तो मुझे 2,916 रुपये मिले. मजदूरी और परिवहन पर आए खर्च के तौर पर 2,910 रुपये चुकाने के बाद मेरे पास सिर्फ 6 रुपए बचे.' उसने कहा कि वह इससे काफी निराश हुआ और मुख्यमंत्री को 6 रुपये का मनी ऑर्डर भेजने का फैसला किया ताकि इस स्थिति की तरफ उनका ध्यान दिलाया जा सके.

कम कीमत मिलने पर दो किसानों ने की आत्म हत्या
दूसरी तरफ महाराष्ट्र के नासिक में कर्ज और कम कीमत मिलने के कारण दो प्याज किसानों ने कथित रूप से आत्महत्या कर ली. पुलिस ने बताया कि मृतकों की पहचान तात्याभाउ खैरनर (44) और मनोज धोंडगे (33) के तौर पर हुई है. वे उत्तर महाराष्ट्र के बागलाण तालुका के रहने वाले हैं. नासिक जिले का भारत में प्याज उत्पादन का 50 प्रतिशत हिस्सा है. जिले के किसान दावा कर रहे हैं कि अच्छी फसल होने के कारण उन्हें उनकी उपज की अच्छी कीमत नहीं मिल रही है.

बागलाण तालुका के पुलिस अधिकारी ने बताया कि खैरनार ने भडाणे गांव में अपने प्याज के शेड में फंदा लगाकर खुदकुशी कर ली. उन्होंने कहा कि उनके शव के पास से कोई सुसाइड नोट नहीं मिला. अधिकारी ने कहा कि मृतक के रिश्तेदारों ने दावा किया कि वह कम कीमत मिलने की वजह से अपनी 500 क्विंटल प्याज बेच नहीं पा रहे थे. उनके परिवार के मुताबिक खैरनार पर 11 लाख रुपये का बकाया कर्ज था. अन्य घटना में, 33 वर्षीय मनोज धोंडगे ने जहरीला रसायन पीकर कथित रूप से खुदकुशी कर ली.