close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

Single Use Plastic बैन को लेकर आज कैबिनेट सचिव की अहम बैठक, हो सकता है बड़ा फैसला

आज कैबिनेट सेक्रेटरी की अध्यक्षता में होनेवाली बैठक में सिंगल यूज प्लास्टिक को लेकर आखिरी फैसला लिया जाएगा. जानकारी के मुताबिक, लिस्ट तैयार होने के बाद सरकार की तरफ से बकायदा नोटिफिकेशन भी जारी किया जाएगा.

Single Use Plastic बैन को लेकर आज कैबिनेट सचिव की अहम बैठक, हो सकता है बड़ा फैसला

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) की अपील के बाद सिंगल यूज प्लास्टिक (Single Use Plastic) के खिलाफ मुहिम तेज हो गई है. तमाम मंत्रालय ने निर्देश जारी किया है कि उनके विभाग में इसके इस्तेमाल पर रोक लगाई जाए. जानकारी के मुताबिक, सिंगल यूज प्लास्टिक को बैन करने को लेकर इस हफ्ते पर्यावरण मंत्रालय लिस्ट जारी कर सकता है.

मंत्रालय की तरफ से दो अलग-अलग लिस्ट जारी की जाएगी. एक लिस्ट में उन सामानों का जिक्र होगा जहां सिंगल यूज प्लास्टिक का इस्तेमाल किया जा सकता है, वहीं दूसरी लिस्ट में उन चीजों को शामिल किया जाएगा, जहां इसका इस्तेमाल नहीं किया जाएगा. इसको लेकर आज कैबिनेट सेक्रेटरी की अध्यक्षता में होनेवाली बैठक में आखिरी फैसला लिया जाएगा. जानकारी के मुताबिक, लिस्ट तैयार होने के बाद सरकार की तरफ से बकायदा नोटिफिकेशन भी जारी किया जाएगा.

सिंगल यूज प्लास्टिक के इस्तेमाल पर रोक लगाने को लेकर भारतीय रेलवे बहुत जल्द बड़ा फैसला ले सकता है. जानकारी के मुताबिक, 2 अक्टूबर के बाद स्टेशन परिसर में प्लास्टिक के सामानों के इस्तेमाल पर रोक लग जाएगी. तब प्लास्टिक बॉटल में पानी भी नहीं मिल सकता है. आने वाले दिनों में रेलवे स्टेशनों पर वाटर क्रशिंग यूनिट लगाए जाएंगे. जो यहां आकर यूज्ड प्लास्टिक बॉटल को क्रश कर देंगे उन्हें इंसेटिव के रूप में कुछ दिया जा सकता है. वर्तमान में 128 रेलवे स्टेशन पर 160 वाटर क्रशिंग यूनिट लगे हैं.

सिंगल यूज प्लास्टिक को कहें 'ना', रोजाना 25940 टन प्लास्टिक कचरा सबकुछ कर देगा बर्बाद!

सरकार सिंगल यूज प्लास्टिक का विकल्प तलाश रही है. कंपनियों ने बताया कि प्लास्टिक के बोतल का 50-60% तक री-साइकिल किया जाता है. एक सुझाव पेपर बॉटल को लेकर भी है. हालांकि, इसमें भी प्लास्टिक और मेटल का इस्तेमाल होता है. शीशे की बॉटल का दोबारा इस्तेमाल संभव नहीं है. साथ ही यह महंगा भी पड़ता है. ऐसे में सरकार ने कंपनियों को भी तीन दिनों का समय दिया कि वे अन्य विकल्पों की तलाश करें.

जानकारी के मुताबिक, इस बार लालकिले की रामलीला में प्लास्टिक का इस्तेमाल नहीं किया जाएगा. नव श्री धार्मिक रामलीला की तरफ से कहा गया है कि इस साल केले के पत्ते और मिट्टी के कुल्हड़ का इस्तेमाल किया जाएगा. बता दें, लालकिले की रामलीला का भूमि पूजन कार्यक्रम सोमवार को आयोजित हुआ, जिसमें केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉक्टर हर्षवर्धन, विजय गोयल समेत कई नेता और मंत्री मौजूद रहे.

(इनपुट- समीर दीक्षित, दानिश आनंद और ब्रह्म दुबे)