close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

अब एयर इंडिया की फ्लाइट में मिलेगा जलजीरा और उपमा, 1 अप्रैल से होगी शुरुआत

एयर इंडिया खाने-पीने की व्यवस्था में पूरी तरह बदलाव करने जा रहा है. गर्मियों में एयर इंडिया की फ्लाइट में सफर करने वालों को ग्रीन सैलेड की जगह दही और चावल परोसे जाएंगे.

अब एयर इंडिया की फ्लाइट में मिलेगा जलजीरा और उपमा, 1 अप्रैल से होगी शुरुआत

नई दिल्ली : एयर इंडिया खाने-पीने की व्यवस्था में पूरी तरह बदलाव करने जा रहा है. गर्मियों में एयर इंडिया की फ्लाइट में सफर करने वालों को ग्रीन सैलेड की जगह दही और चावल परोसे जाएंगे. इसके अलावा बिजनेस क्लास में सफर करने वालों को 24 घंटे कॉफी की सुविधा मिलेगी. नामी इंडियन दुकान की मिठाई के साथ ही फ्रूट जूस की जगह आम पन्ना और जलजीरा परोसा जाएगा. इस व्यवस्था को एयर इंडिया की तरफ से 1 अप्रैल से इंटरनेशनल फ्लाइट में शुरू किया जाएगा.

स्वास्थय को ध्यान में रखकर किया जा रहा बदलाव
देश की विमानन कंपनी ने यात्रियों को फ्राइड खाने की जगह उपमा और पोहा चाय के साथ परोसा जाएगा. एयर इंडिया के अधिकारियों ने बताया कि ये बदलाव ट्रेडीशनल इंडियन टच देने और स्वास्थय को ध्यान में रखकर किया जा रहा है. विमान कंपनी के अधिकारियों ने बताया कि हमारा ध्यान अच्छी क्वालिटी के साथ ही बेहतर स्वाद और उसे परोसने के तरीके पर है. नए मेन्यू से फ्राइड (तले हुए) आइटम को अलग किया जाएगा और इन्हें केवल नाश्ते में परोसा जाएगा.

इसके अलावा यात्रियों को सफर के दौरान फल परोसने का निर्णय भी विमानन कंपनी की तरफ से लिया गया है. एयर इंडिया ने उड़ान के दौरान मेन्यू में बदलाव पर पहले फ्लाइट क्रू से भी राय मांगी थी. क्योंकि यात्रियों को खाना परोसने का काम क्रू मेंबर करते है और इन्हें यात्रियों की पसंद-नापसंद का आइडिया रहता है. नए बदलाव को पायलट प्रोजेक्ट के तौर पर 1 अप्रैल से इंटरनेशनल फ्लाइट में शुरू किया जा रहा है.

इंटरनेशनल फ्लाइट में यात्रियों की प्रतिक्रिया मिलने के बाद इसे घरेलू उड़ानों में भी शुरू किए जाने की उम्मीद है. आपको बता दें कि एयर इंडिया हर साल अपनी कैटरिंग सर्विस पर 800 करोड़ रुपये खर्च करती है. अब कंपनी अपने मेन्यू में दो साल बाद बदलाव करने जा रही है. इससे पहले कंपनी ने घरेलू उड़ान के दौरान नॉन-वेज परोसने पर रोक लगाई थी.