50 करोड़ से ज्यादा Facebook खातों की जानकारी हैकर्स की साइट पर मौजूद, इस रिपोर्ट में दावा

Facebook User's Data Leak: यूक्रेन के एक रिसर्चर ने दिसंबर 2019 में कहा था कि 26 करोड़ 70 लाख फेसबुक यूजर की जानकारी इंटरनेट पर मौजूद है. हालांकि ये अभी साफ नहीं है कि ‘बिजनेस इनसाइडर’ ने जो जानकारी दी है, वो दिसंबर 2019 में मिले डेटा से संबंधित है या नहीं.

50 करोड़ से ज्यादा Facebook खातों की जानकारी हैकर्स की साइट पर मौजूद, इस रिपोर्ट में दावा
फेसबुक के 50 करोड़ से अधिक खातों का डेटा हैकर्स की वेबसाइट पर मौजूद है....

न्यूयॉर्क: हैकरों की एक वेबसाइट पर 50 करोड़ से अधिक फेसबुक यूजर (उपयोगकर्ताओं) के डेटा की जानकारी मौजूद है. हालांकि यह सूचना और डेटा कई साल पुराना लग रहा है. हालांकि स्थिति कोई भी हो लेकिन इस खबर और 50 करोड़ जैसे विराट आंकड़े ने इंटरनेट और सोशल मीडिया पर एक्टिव रहने वाले नेटिजंस की चिंता एक बार फिर बढ़ा दी है. दरअसल ये डेटा फेसबुक और अन्य सोशल मीडिया साइट्स द्वारा हासिल की जाने वाली विस्तृत जानकारी की सुरक्षा को लेकर सवाल खड़ा करता है.

‘बिजनेस इनसाइडर’ की खबर

डेटा उपलब्ध होने की जानकारी ‘बिजनेस इनसाइडर’ वेबसाइट ने दी. इस वेबसाइट के अनुसार, 106 देशों के लोगों के फोन नंबर, फेसबुक आईडी, पूरे नाम, स्थान, जन्मतिथि और ईमेल पते ऑनलाइन उपलब्ध है. लोगों की जानकारी की सुरक्षा को लेकर फेसबुक पर कई साल से सवाल उठते रहे हैं. 

वहीं हडसन रॉक साइबर क्राइम इंटेलिजेंस फर्म (Hudson Rock cybercrime intelligence firm)  के चीफ टेक्निकल ऑफिसर, एलोन गैल ने शनिवार को कहा, '533,000,000 फेसबुक रिकॉर्ड फ्री में ही लीक हो गए थे.'

फिर याद आया ‘कैम्ब्रिज एनालिटिका’ प्रकरण

सोशल मीडिया कंपनी ने 2018 में फोन नंबर के जरिए यूजर के खातों को खोजने की सुविधा इस खुलासे के बाद बंद कर दी थी कि राजनीतिक कंपनी ‘कैम्ब्रिज एनालिटिका’ ने आठ करोड़ 70 लाख फेसबुक यूजर की जानकारी उनकी जानकारी या सहमति के बिना ही हासिल कर ली थी. 

ये भी पढ़ें- क्या आप भी मोबाइल से करते हैं पेमेंट? लीक हो गया है Mobikwik से 35 लाख लोगों का Data

 

फेसबुक की सफाई

गौरतलब है कि यूक्रेन के एक सेफ्टी रिसर्चर ने दिसंबर 2019 में कहा था कि 26 करोड़ 70 लाख फेसबुक यूजर की जानकारी इंटरनेट पर उपलब्ध है. अभी यह साफ नहीं है कि ‘बिजनेस इनसाइडर’ ने जिस डेटा के उपलब्ध होने की जानकारी दी है, वो दिसंबर 2019 में मिले डेटा से संबंधित है या नहीं. फेसबुक ने एक बयान में कहा, ‘यह पुराना डेटा है, जिसकी जानकारी 2019 में दी गई थी. हमने इस समस्या को अगस्त 2019 में ही दूर कर दिया था.’

(इनपुट: भाषा से)

VIDEO-

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.