close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

मोदी जी को है इस 'अच्छी' खबर का इंतजार, बस 1 दिन और...

विश्‍व बैंक की ईज ऑफ डूइंग बिजनेस रिपोर्ट 31 अक्‍टूबर को आने वाली है. माना जा रहा है कि ईज ऑफ डूइंग बिजनेस 2018 सर्वे रिपोर्ट में भारत की रैकिंग में सुधार हो सकता है. 

मोदी जी को है इस 'अच्छी' खबर का इंतजार, बस 1 दिन और...
विश्व बैंक की ईज ऑफ डूइंग बिजनेस की रिपोर्ट का इंतजार सरकार को भी है

नई दिल्ली. नोटबंदी और GST से देश की आर्थिक रफ्तार धीमी हुई है. बेरोजगारी और इकोनॉमी को लेकर लगातार सरकार की किरकिरी हुई है. सरकार के पास पिछले कुछ समय से कोई अच्छी खबर नहीं है. अब सरकार के ऊपर भारत की अर्थव्यव्सथा को मजबूत करने और ईज ऑफ डूइंग बिजनेस में बड़ा सुधार का चैलेंज है. मीडिया रिपोर्ट और सूत्रों की मानें तो आर्थिक मोर्चे पर सरकार को खुश करने वाली खबर आने वाली है. इस खबर का इंतजार प्रधानमंत्री मोदी को भी है. सरकार को उम्मीद है कि इस बार भारत की रैकिंग में सुधार होगा.

विश्व बैंक की रिपोर्ट का इंतजार
विश्‍व बैंक की ईज ऑफ डूइंग बिजनेस रिपोर्ट 31 अक्‍टूबर को आने वाली है. माना जा रहा है कि ईज ऑफ डूइंग बिजनेस 2018 सर्वे रिपोर्ट में भारत की रैकिंग में सुधार हो सकता है. पिछली रिपोर्ट में भारत की रैकिंग 130वें पायदान पर थी. कॉमर्स मिनिस्‍ट्री और DIPP के अधिकारी भी इस बात की ओर इशारा कर रहे हैं. यदि रैंकिंग में सुधार होता है तो सरकार के लिए यह बड़े हथियार का काम करेगी. सरकार इस रिपोर्ट से उन तमाम आलोचकों का मुंह बंद कर सकती है, जो लगातार सरकार पर आरोप लगा रहे हैं.

ये है रैंकिंग सुधरने की वजह
केंद्र सरकार ने पिछले 1 साल में इकोनॉमिक रिफॉर्म से जुड़े कई बड़े कदम उठाए हैं. इसमें देश का ऐतिहा‍सिक टैक्‍स रिफॉर्म GST भी शामिल हैं. विदेशी निवेश के मामले में भारत ने चीन को पीछे छोड़कर नंबर एक देश बन चुका है. सूत्रों के मुताबिक, जब से मोदी सरकार सत्‍ता में आई है तब से अब तक देश में करीब 170 अरब डॉलर का विदेशी निवेश आ चुका है.

मन की बात में PM ने क्या कहा यहां क्लिक कर पढ़ें

देश को मिलेगी अच्छी खबर
सुरेश प्रभु ने हाल ही में कहा था कि देश को जल्‍द ही अच्‍छी खबर मिलने वाली है. वहीं DIPP के सेक्रेटरी रेमेश अभिषेक के मुताबिक, विश्‍व बैंक की ईज आफ डूइंग बिजनेस रिपोर्ट 31 अक्‍टूबर को आने वाली है. हमें उम्‍मीद है कि देश की रैंकिंग में सुधार देखने को मिलेगा. हमने इस दिशा में पिछले एक साल के दौरान कई बड़े कदम उठाए हैं.

क्या होगा अगर सुधर गई रैंकिंग
अगर भारत की रैंकिेग में सुधरती है तो इसका सीधा असर अर्थव्यवस्था पर पड़ेगा. रैंकिंग से पता चलता है कि देश में बिजनेस करना कितना आसान है. साथ देश में निवेश का सेंटिमेंट भी बढ़ाता है. विदेशी कंपनियों की नजर भी इस रिपोर्ट पर रहती है. अच्छी रैंकिंग वाले देश में ही विदेशी कंपनियां कारोबार करने के लिए आती हैं, जिससे रोजगार के नए मौके पैदा होते हैं. सबसे ज्यादा बेरोगारी के मुद्दे पर घिरी मोदी सरकार के लिए बढ़ी हुई रैंकिंग विपक्ष को करारा जवाब देने का काम करेगी.