BREAKING NEWS

Petrol Price 23 March 2021: सरकार ने पेट्रोल-डीजल पर टैक्स से की बंपर कमाई, 6 साल में 300% बढ़ा खजाना

Petrol Price Today 23 March 2021 Updates: साल 2014 में पेट्रोल पर एक्साइज ड्यूटी 9.48 रुपये प्रति लीटर थी जिसे अब बढ़ाकर 32.90 रुपये कर दिया गया है, ऐसे ही डीजल पर एक्साइज ड्यूटी 3.56 रुपये से बढ़ाकर अब 31.80 रुपये प्रति लीटर कर दी गई है. दिल्ली में पेट्रोल की कीमत आज 91.17 रुपये प्रति लीटर है, जिसमें टैक्स का हिस्सा ही 60 परसेंट है. 

Petrol Price 23 March 2021: सरकार ने पेट्रोल-डीजल पर टैक्स से की बंपर कमाई, 6 साल में 300% बढ़ा खजाना
Petrol Diesel पर टैक्स से सरकार मालामाल!

नई दिल्ली: Petrol Price Today 23 March 2021 Updates: पेट्रोल-डीजल की कीमतें बीते 24 दिनों से नहीं बदली हैं, लेकिन कई शहरों में इनके रेट रिकॉर्ड स्तर पर हैं. कई जगहों पर पेट्रोल के रेट 100 रुपये के पार भी जा चुके हैं. लेकिन केंद्र या राज्य सरकारों की तरफ से अबतक किसी तरह की राहत का ऐलान नहीं किया गया है. 

पेट्रोल-डीजल पर टैक्स कलेक्शन 300 परसेंट बढ़ा

पेट्रोल-डीजल के दाम बढ़ने के पीछे ग्लोबल क्रूड ऑयल की कीमतों से ज्यादा अहम घरेलू फैक्टर है. ब्रेंट क्रूड ऑयल बीते कई हफ्तों से 64-68 डॉलर प्रति बैरल के इर्द-गिर्द है, लेकिन केंद्र सरकार की तरफ से पेट्रोल-डीजल पर वसूला जाने वाला टैक्स कई गुना बढ़ चुका है. लोकसभा में सरकार ने बताया है कि बीते 6 सालों के दौरान पेट्रोल-डीजल पर टैक्स कलेक्शन 300 परसेंट तक बढ़ चुका है, क्योंकि एक्साइज ड्यूटी बढ़ाई गई. एक नजर डालते हैं सरकार की ओर से दिए गए आंकड़ों पर.

ये भी पढ़ें- सस्ता Home Loan दे रहा Kotak Mahindra Bank, 31 मार्च तक है स्पेशल ऑफर

इस साल सिर्फ 10 महीने में जमकर हुई टैक्स वसूली 

साल 2014-15 में सरकार ने पेट्रोल पर एक्साइज ड्यूटी से 29,279 करोड़ रुपये और डीजल पर 42,881 करोड़ रुपये कमाए, ये मोदी सरकार का पहला साल था. वित्त राज्य मंत्री अनुराग ठाकुर की ओर से लोकसभा में दिए गए लिखित जवाब में बताया गया है कि मौजूदा वित्त वर्ष (FY 2020-21) के पहले 10 महीनों यानी अप्रैल से जनवरी तक पेट्रोल-डीजल पर कलेक्शन 2.94 लाख करोड़ रुपये बढ़ा. 

पिछले 6 सालों में टैक्स कलेक्शन

नैचुरल गैस पर एक्साइज ड्यूटी को मिला दें तो केंद्र सरकार ने साल 2014-15 के दौरान 74,158 करोड़ रुपये टैक्स वसूल किया, जो कि अप्रैल 2020 से जनवरी 2021 के दौरान बढ़कर 2.95 लाख करोड़ रुपये पहुंच गया. अनुराग ठाकुर ने बताया कि पेट्रोल, डीजल और नैचुरल गैस की कीमतों में बढ़ोतरी को परसेंट के तौर पर देखें तो वित्त वर्ष 2014-15 में ये 5.4 परसेंट बढ़ा था, जो कि मौजूदा वित्त वर्ष में 12.2 परसेंट हो गया.

पेट्रोल पर ऐसे बढ़ी सेंट्रल एक्साइज ड्यूटी

साल 2014 में पेट्रोल पर एक्साइज ड्यूटी 9.48 रुपये प्रति लीटर थी जिसे अब बढ़ाकर 32.90 रुपये कर दिया गया है, ऐसे ही डीजल पर एक्साइज ड्यूटी 3.56 रुपये से बढ़ाकर अब 31.80 रुपये प्रति लीटर कर दी गई है. दिल्ली में पेट्रोल की कीमत आज 91.17 रुपये प्रति लीटर है, जिसमें टैक्स का हिस्सा ही 60 परसेंट है. इसमें एक्साइज ड्यूटी ही 36 परसेंट है. बाकी राज्यों का वैट और दूसरे चार्ज अलग हैं. 

डीजल पर एक्साइज ड्यूटी 

इसी तरह दिल्ली में आज डीजल का भाव 81.47 रुपये प्रति लीटर है, जिसमें टैक्स का हिस्सा 53 परसेंट है. इसमें भी 39 परसेंट हिस्सा सिर्फ सेंट्रल एक्साइज ड्यूटी का है. अनुराग ठाकुर ने संसद में बताया कि पेट्रोल और डीजल पर कुल एक्साइज ड्यूटी (बेसिक एक्साइज ड्यूटी, सेस और सरचार्ज को मिलाकर) 14 मार्च 2020 से 3 रुपये प्रति लीटर बढ़ा दी गई. इसके बाद 6 मई 2020 को एक बार फिर पेट्रोल पर सेंट्रल एक्साइज ड्यूटी 13 रुपये प्रति लीटर और डीजल पर 16 रुपये प्रति लीटर बढ़ाई गई.  

15 महीने के दौरान 9 किस्तों में पेट्रोल पर ड्यूटी 11.77 रुपये प्रति लीटर बढ़ाई गई, जबकि डीजल पर ड्यूटी 13.47 रुपये प्रति लीटर बढ़ाई. 2 अक्टूबर 2017 को सरकार ने एक्साइज ड्यूटी 2 रुपये प्रति लीटर घटाई थी, फिर एक साल बाद 1.50 रुपये की कटौती की गई, लेकिन जुलाई 2019 में फिर से 2 रुपये प्रति लीटर बढ़ाई गई. 

ये भी पढ़ें-2021 में दूसरी बार कारों के दाम बढ़ाएगी मारुति सुजुकी, लागत बढ़ने को बताई वजह

LIVE TV

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.