साल खत्म होने से पहले बुक करा लें अपना घर, SBI दे रहा है सस्ते में खरीदने का मौका

अलविदा हो रहे 2020 में आप अपने सपनों का घर सस्ती कीमत में खरीदकर इस साल को यादगार बना सकते हैं. भारत का सबसे बड़ा बैंक आपको ये मौका दे रहा है. 

ज़ी न्यूज़ डेस्क | Dec 20, 2020, 19:18 PM IST

नई दिल्लीः SBI कई प्रापर्टी की नीलामी करने जा रहा है. इसमें रेसिडेंशियल (residential), कॉमर्शियल (commercial) और इंडस्ट्रियल (industrial) हर तरह की प्रापर्टी शामिल हैं. इस नीलामी (SBI auction) में शामिल हो कर आप अपनी पसंद की प्रॉपर्टी या सपनों का घर खरीद सकते हैं. बैंक की ओर से ऐसी properties को नीलाम किया जाता है जिस पर लोन लिया गया हो और चुकाया न गया हो.

1/5

रजिस्ट्रेशन के लिए इस लिंक पर करें क्लिक

click on this link for registration

स्टेट बैंक ऑफ इंडिया ने ट्वीट कर इस बारे में जानकारी दी है. बैंक ने ट्वीट में लिखा है कि क्या आप भी निवेश करने के लिए प्रापर्टी सर्च कर रहे हैं? अगर ऐसा है तो आप एसबीआई ई-ऑक्शन (SBI e-auction) में रजिस्ट्रेशन करा सकते हैं. अधिक जानकारी के लिए इस लिंक https://bit.ly/2HeLyn0 पर क्लिक करें.  

2/5

30 दिसंबर को होगी नीलामी

auction on 30 december

बैंक के मुताबिक वह संपत्ति के फ्रीहोल्ड या लीजहोल्ड होने, स्थान, माप समेत अन्य जानकारियां भी नीलामी के लिए जारी सार्वजनिक नोटिस में देता है. अगर ई-नीलामी के जरिये प्रॉपर्टी खरीदना चाहते हैं तो बैंक में जाकर प्रक्रिया और संबंधित प्रॉपर्टी के बारे में किसी भी तरह की जानकारी ले सकते हैं. नीलामी 30 दिसंबर को होगी.

3/5

इतनी हैं प्रॉपर्टी की लिस्ट

this is the property list

अगले 7 दिनों में - 758 (रेसिडेंशियल) 251 (कॉमर्शियल) 98 (इंडस्ट्रियल) अगले 30 दिनों में - 3032 (रेसिडेंशियल) 844 (कॉमर्शियल) 410 (इंडस्ट्रियल) 

4/5

इसलिए होती है नीलामी

this is why auction happened

जिन भी प्रापर्टी के मालिक (property owner) ने उनका लोन नहीं चुकाया है. या कई बार नोटिस मिलने के बाद भी किसी वजह से लोन नहीं चुका पाएं हैं उन सभी लोगों की जमीन या प्रॉपर्टी बैंकों अपने कब्जे (banks take possession) में ले लेता हैं.

5/5

समय-समय पर होती रहती है नीलामी

SBI समय-समय पर इस तरह की प्रापर्टी की नीलामी (SBI auctioning) करता रहता है. इस नीलामी में बैंक प्रापर्टी बेचकर अपनी बकाया राशि (bank collects its dues) वसूल करता है.