close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

SBI खाताधारकों के साथ नहीं होगा फ्रॉड! बदल जाएगा ATM से पैसा निकालने का तरीका

अगर आपके या आपके किसी परिचित के साथ कभी एटीएम के जरिये फ्रॉड हुआ है तो यह खबर आपको राहत देगी. खाताधारकों की तरफ से फ्रॉड की लगातार शिकायतें बढ़ने के बाद बैंकों की तरफ से सुरक्षित ट्रांजेक्शन के लिए कदम उठाए जा रहे हैं.

SBI खाताधारकों के साथ नहीं होगा फ्रॉड! बदल जाएगा ATM से पैसा निकालने का तरीका

नई दिल्ली : अगर आपके या आपके किसी परिचित के साथ कभी एटीएम के जरिये फ्रॉड हुआ है तो यह खबर आपको राहत देगी. खाताधारकों की तरफ से फ्रॉड की लगातार शिकायतें बढ़ने के बाद बैंकों की तरफ से सुरक्षित ट्रांजेक्शन के लिए कदम उठाए जा रहे हैं. बैंक ऐसी प्रक्रिया पर काम कर रहे हैं जिसके तहत आने वाले समय में एटीएम से 10 हजार या इससे ज्यादा कैश निकालने के लिए ओटीपी एंटर करना जरूरी होगा. स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (SBI) के डिप्टी जनरल मैनेजर सुरेश नायर ने बताया कि स्टेट बैंक एटीएम ट्रांजेक्शन पर OTP  जरूरी करने वाला है जिससे एटीएम फ्राड रोकने में मदद मिलेगी.

केनरा बैंक ने शुरू की सुविधा
दूसरी तरफ केनरा बैंक ने ग्राहकों की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए 10000 या इससे ज्यादा के ट्रांजेक्शन पर ओटीपी जरूरी कर दिया है. इस सुविधा के तहत यदि आप केनरा बैंक के एटीएम से 10000 रुपये या इससे से ज्यादा कैश निकालते हैं तो एटीएम ट्रांजेक्शन के समय आपको अपने मोबाइल में आए ओटीपी को भी दर्ज करना होगा. एटीएम फ्राड को रोकने के लिए देश के कई बैकों की तरफ से भी ओटीपी का फीचर शुरू किया जाने वाला है.

फ्रॉड रोकने के लिए उठाया यह कदम
बैंकों की तरफ से एटीएम ट्रांजेक्शन के समय पिन के साथ ही ओटीपी दर्ज करने के फीचर से धोखाधड़ी पर लगाम लगाई जा सकेगी. इसके लिए बैंकों को अपने एटीएम के मैकेनिज्म में भी बदलाव करना होगा. जब आप अपना पिन दर्ज करें तो उसके साथ ही आपके मोबाइल पर एक ओटीपी आएगा. इस ओटीपी को एटीएम में एंटर करने के बाद ही आपका ट्राजेक्शन पूरा हो पाएगा. इसके अलावा 2020 तक एसबीआई का टार्गेट कार्ड मुक्त ट्रांजेक्शन शुरू करने का भी है.

कुछ मीडिया रिपोर्टस में यह भी दावा किया जा रहा है कि एटीएम फ्रॉड से रोकने के लिए दिल्ली स्टेट लेवल बैंकर्स कमेटी ने कुछ उपाय सुझाए हैं. कमेटी की तरफ से कहा गया है कि दो 2 एटीएम ट्रांजेक्शन के बीच 6 से 12 घंटे का अंतराल होना चाहिए. यदि यह सुझाव माना गया तो आपको एक ट्रांजेक्शन करने के बाद दूसरे के लिए कम से कम छह घंटे का इंतजान करना होगा. बैंकों की रिपोर्ट में यह बात भी सामने आई है कि ज्यादातर फ्रॉड रात 11 बजे से सुबह 6 बजे के बीच होते हैं.