close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

VIDEO: हार से हताश शोएब अख्तर बोले- वाघा बॉर्डर पर छलांगे मारते हैं, जब वक्त आया तो...

पाकिस्तान के पूर्व गेंदबाज शोएब अख्तर  ने कहा कि हमारी टीम ने मैच जीतने की कोशिश ही नहीं की. 

VIDEO: हार से हताश शोएब अख्तर बोले- वाघा बॉर्डर पर छलांगे मारते हैं, जब वक्त आया तो...
शोएब अख्तर के नाम 100 मील प्रति घंटे की रफ्तार से गेंद करने का रिकॉर्ड है. (फोटो: IANS)

नई दिल्लीः आईसीसी क्रिकेट विश्व कप (World Cup 2019) में पाकिस्तान की टीम भारत के सामने फिर फिसड्डी साबित हुई. भारत ने रविवार को उसे 89 रन से करारी शिकस्त दी. मैच के बाद पाकिस्तानी टीम पर प्रशंसकों से लेकर पूर्व क्रिकेटरों का गुस्सा फूट पड़ा है. पाकिस्तान के ही पूर्व गेंदबाज शोएब अख्तर (Shoaib Akhtar) तो अपनी टीम पर पिल पड़े. उन्होंने कप्तान सरफराज अहमद ( Sarfaraz Ahmed) से लेकर एक-एक खिलाड़ी का नाम लेकर उनकी कमियां गिनाईं.

शोएब अख्तर ने अपने यूट्यूब चैनल में सरफराज अहमद, बाबर आजम, मोहम्मद आमिर सबकी आलोचना की. हसन अली (Hasan Ali) का नाम आने पर उन्होंने कहा, ‘हसन अली. वाघा बॉर्डर पर छलांगे-छलांगे मारते हैं. जब जोर लगाने का वक्त आया तो यहां करो ना. आप वहां पर वाघा बॉर्डर पर छलांगे मार रहे हो. आप यहां करो ना बॉलिंग. आप यहां लेंथ बॉल करो. सारी की सारी शॉर्टपिच बॉल कर दी.’ 

यह भी पढ़ें: हार के बाद शोएब के साथ पार्टी का VIDEO बनाने वाले पर भड़कीं सानिया, कहा- ‘मूर्खों का सरदार’

शोएब अख्तर ने आगे कहा, ‘ये चीजें तब अच्छी लगती है जब आप छह-सात आउट करते हैं. आपने (हसन अली) आकर 82-84 रन खा लिए हैं. तो एक तो मुझे समझ नहीं आई कि वह किस माइंडसेट से खेल रहा है. उसका माइंडसेट यही है कि मैं टी20 का बॉलर बनता जाऊं. पीएसएल में खेलता जाऊं. पीएसल का कॉन्ट्रैक्ट मिलता रहे. पाकिस्तान के लिए यह चौथा पांचवां मैच है. ना पेस आ रही है और ना स्विंग है.’ हसन अली ने भारत के खिलाफ नौ ओवर के स्पेल में 84 रन दिए थे और सिर्फ एक विकेट ले सके थे. 

शोएब अख्तर ने इससे पहले कहा कि टॉस जीतना अहम था लेकिन सरफराज को पहले बल्लेबाजी चुननी चाहिए थी. उन्होंने कहा ,‘आप टॉस जीतकर आधा मैच तो वहीं जीत गए थे, लेकिन उसके बाद क्या किया. आपने पूरी कोशिश की कि मैच हार जाएं. बेवकूफाना कप्तानी और बेवकूफाना प्रबंधन. आपको पता है कि आप लक्ष्य का पीछा नहीं कर पाते. फिर यह गलती क्यों की. यह जोखिम लेना ही नहीं चाहिए था.’