CBSE board ने 9वीं से 12वीं की क्लास तक का परीक्षा पैटर्न बदला, यहां क्लिक कर देखें

बीएसई ने सत्र 2021-22 से कक्षा नौवीं से 12वीं तक के परीक्षा पैटर्न में बड़ा बदलाव किया है. पढ़िए पूरी खबर....

 CBSE board ने 9वीं से 12वीं की क्लास तक का परीक्षा पैटर्न बदला, यहां क्लिक कर देखें
डिजाइन फोटो..

नई दिल्ली: छात्रों के लिए बड़ी खबर है. क्योंकि केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) ने सत्र 2021-22 से परीक्षा पैटर्न में बदलाव किया है. बोर्ड के अधिकारियों के मुताबिक अब कक्षा नौवीं से 12वीं की वार्षिक व बोर्ड परीक्षाओं के प्रश्न पत्रों में बदलाव किया जाएगा. छात्रों से योग्यता आधारित प्रश्न अधिक पूछे जाएंगे. ऐसे प्रश्नों को तरजीह दी जाएगी, जो वास्तविक जीवन से जुड़े हुए होंगे. इससे छात्रों में रचनात्मक सोच विकसित होगी. 

कक्षा 9वीं और 10वीं कक्षाओं के लिए ये बदलाव होगा
कक्षा नौवीं की वार्षिक व दसवीं की बोर्ड परीक्षा (सत्र 2021-22) में कंपीटेंसी बेस्ड (योग्यता आधारित) प्रश्न कम से कम 30 प्रतिशत पूछे जाएंगे. ये बहुविकल्पीय, केस आधारित, स्रोत आधारित एकीकृत प्रश्न या किसी अन्य प्रकार के हो सकते हैं. वहीं 20 प्रतिशत प्रश्न वस्तुनिष्ठ प्रकृति के होंगे और शेष 50 प्रतिशत प्रश्न पहले की तरह लघु उत्तरीय व दीर्घ उत्तरीय पूछे जाएंगे. 

कक्षा 11वीं और 12वीं के क्या बदलाव?
बीएसई ने कहा कि कक्षा 11वीं की वार्षिक व 12वीं की बोर्ड परीक्षा (सत्र 2021-22) में कंपीटेंसी बेस्ड क्वेश्चन 20 प्रतिशत होंगे. ये भी नौवीं व दसवीं की तरह बहुविकल्पीय, केस आधारित व स्रोत आधारित एकीकृत प्रश्न या किसी अन्य रूप में भी हो सकते हैं. यहां भी 20 प्रतिशत प्रश्न वस्तुनिष्ठ होंगे, जबकि शेष 60 प्रतिशत प्रश्न पहले की तरह लघु व दीर्घ उत्तरीय होंगे. 

सीबीएसई ने क्या कहा?
बड़े बदलाव को लेकर सीबीएसई ने कहा है कि उसका उद्देश्य केवल सिलेबस के अनुरुप बच्चों को तैयार करना नहीं, बल्कि उन्हें दक्ष बनाना है. वे खुद सोचें कि कैसे नॉलेज को डेवलेप करेंगे. पढ़ाई की ऑटोनॉमी हो. सिलेबस से आगे जा कर बच्चों सोचें, समझें. वे किसी काम को कैसे करेंगे वे खुद तय करने योग्य बनें.  

यहां क्लिक कर देखें नोटिफिकेशन

अभी क्या है पैटर्न?
अभी कक्षा नौवीं व दसवीं में वस्तुनिष्ठ प्रश्न बहुविकल्पीय सहित 20 प्रतिशत होते हैं. इसी तरह केस आधारित व स्रोत आधारित प्रश्न 20 प्रश्न होते हैं, जबकि शेष 60 प्रश्न प्रश्न लघु व दीर्घ उत्तरीय होते हैं. वहीं कक्षा 11वीं व 12वीं में वस्तुनिष्ठ बहुविकल्पीय सहित 20 प्रतिशत, केस व स्रोत आधारित 10 प्रतिशत व शेष 70 प्रतिशत लघु व दीर्घ उत्तरीय होते हैं.

VIDEO-

नई शिक्षा नीति के तहत किया गया बदलाव
सीबीएसई द्वारा नौंवीं से 12वीं तक की परीक्षाओं में योग्यता आधारित प्रश्नों को शामिल करने का मकसद छात्रों में समस्या सुलझाने की क्षमता विकसित करना है. इस बात को नई शिक्षा नीति 2020 में स्थान महत्वपूर्ण स्थान दिया गया है. बोर्ड ने कहा है कि मूल्यांकन छात्रों के अधिक सीखने और एनालिसिस, क्रिटिकल थिंकिंग कंसेप्चुअल क्लीयरिटी विकास पर केंद्रित होना चाहिए. रटने पर कम जोर दिया जाना चाहिए. योग्यता आधारित प्रश्न किसी समस्या पर आधारित होते हैं.

ये भी पढ़ें: PM Kisan: 3 किश्तों के साथ ही अब ले सकेंगे 36 हजार प्रतिवर्ष का फायदा, बस करना होगा ये काम

ये भी पढ़ें: मानवता: कोरोना से मौत पर अपनों ने साथ छोड़ा, मुस्लिम युवाओं ने किया अंतिम संस्कार

WATCH LIVE TV

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.