• 0/542 लक्ष्य 272
  • बीजेपी+

    0बीजेपी+

  • कांग्रेस+

    0कांग्रेस+

  • अन्य

    0अन्य

दिशा पटानी की येलो साड़ी पर हुआ बवाल, Slow Motion गाने पर एक्ट्रेस हुईं ट्रोल

फिल्म 'भारत' के 'स्लो मोशन' गाने में अभिनेत्री दिशा पटानी पीले रंग की साड़ी में डांस करते नजर आईं. इस गाने में दिशा के लुक को देखकर लोगों का कहना है कि 'साड़ी कहां है?' 

दिशा पटानी की येलो साड़ी पर हुआ बवाल, Slow Motion गाने पर एक्ट्रेस हुईं ट्रोल
(फोटो साभार: वीडियो ग्रैब)

नई दिल्ली : सुपरस्टार सलमान खान की फिल्म 'भारत' के 'स्लो मोशन' गाने में अभिनेत्री दिशा पटानी पीले रंग की साड़ी में डांस करते नजर आईं. इस गाने में दिशा के लुक को देखकर लोगों का कहना है कि 'साड़ी कहां है?' 'स्लो मोशन' गाने में पीले रंग की साड़ी के पल्लू को रस्सी की तरह मरोड़कर दिशा के कंधे पर डाल दिया गया है. यूट्यूब पर महज 24 घंटे में इस गाने को 2.4 करोड़ लोगों ने देखा.

अवार्ड विजेता टेक्सटाइल डिजाइनर गौरांग शाह को लगता है कि साड़ी का सार ही इसमें पूरी तरह से धूमिल हो गया है. शाह ने बातचीत में कहा, 'सभी के पास किसी चीज को नए अंदाज में पेश करने का विकल्प होता है, लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि आप साड़ी के उस मौलिक सार से दूर हट जाएं जिसने पीढ़ियों से इसे एक खूबसूरत परिधान बनाया है. यह हमारी सांस्कृतिक विरासत और सभ्यता का हिस्सा है. आपको इसे कुछ उस अंदाज में ड्रेप करना चाहिए जिससे इसकी विशेषता बनी रहे.

Video : रिलीज हुआ 'भारत' का 'स्लो मोशन', सलमान से बोलीं दिशा- 'अब होगी हमारी वेडिंग'

 

डिजाइनर वारिजा बजाज ने बताया, 'डिजानर्स साड़ी को, साड़ी गाउन, लहंगा साड़ी, जीन्स के साथ साड़ी और इसके साथ ही कुछ और खूबसूरत तरीकों से पेश करने पर काम कर रहे हैं.' वह आगे कहती हैं कि जब एक डिजाइनर साड़ी को अलग अंदाज में पेश करता है तो उसे इस बात का ख्याल रखना पड़ता है कि एक खूबसूरत नवीनीकरण और ट्रैजिक डिजास्टर के बीच एक पतली सी लाइन है. खराब तरीके से किया गया डिजाइन न केवल इसके लुक को बर्बाद कर देता है बल्कि साड़ी में नारीवाद के सार को भी खत्म कर देता है.'

हालांकि मशहूर डिजाइनर रितु कुमार को ऐसा लगता है कि स्टाइलिस्ट ने किसी भी नियम को नहीं तोड़ा है. रितु कहती हैं, 'साड़ी एक बिना सिला हुआ गार्मेट है और इसे देश के अलग-अलग हिस्सों में भिन्न तरीकों से पहना जाता है. एक साड़ी नौ गज से तीन गज तक की हो सकती है. साड़ी का कोई मानकीकरण नहीं है.' वह यह भी कहती हैं, 'साड़ी पहनने का कोई परम्परागत या हार्ड व फार्स्ट नियम नहीं है.'

टेक्सटाइल पुनरुत्थानवादी मधु जैन को लगता है कि नए परिवर्तन के लिए जगह जरूर होनी चाहिए, लेकिन परम्परागत तरीके को भी बरकरार रखनी चाहिए. कई लोगों को ऐसा लगता है कि दिशा का लुक गाने में साल 1990 के गाने 'टिप टिप बरसा पानी' में रवीना टंडन के लुक से मिल रहा है तो किसी ने कहा कि यह माधुरी दीक्षित का 'धक धक' लुक है. कुछ ऐसे भी हैं जिन्होंने इस पर जोक्स भी बनाए हैं. 

एक यूजर ने ट्वीट किया कि दिशा के साड़ी के पल्लू को देखो, इसने दिशा को ठीक उसी तरह से ढका है जिस तरीके से मैं पूरे साल के दौरान अपने सिलेबस को कवर करता हूं. किसी ने लिखा, 'यह इकलौती ऐसी साड़ी है जिसमें पल्लू की जगह नाड़ा है.' दिशा की साड़ी पर कुछ मीम्स भी बन रहे हैं.

बॉलीवुड की और भी खबरें पढ़ें