मेक इन इंडिया: अडानी और स्वीडन की कंपनी मिलकर भारत में बनाएंगे लड़ाकू विमान

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मेक इन इंडिया योजना के तहत अब अडानी की कंपनी और स्वीडन की साब कंपनी पार्टनरशिप करते हुए लड़ाकू विमान बनाएंगे.

मेक इन इंडिया: अडानी और स्वीडन की कंपनी मिलकर भारत में बनाएंगे लड़ाकू विमान
अडानी और स्वीडन की कंपनी ने मिलाया हाथ (प्रतीकात्मक तस्वीर)

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मेक इन इंडिया योजना के तहत अब अडानी की कंपनी और स्वीडन की साब कंपनी पार्टनरशिप करते हुए लड़ाकू विमान बनाएंगे. भारतीय वाणिज्य एवं उद्योग महासंघ (फिक्की) के सलाहकार रतन श्रीवास्तव ने कहा कि साब-अडानी की पार्टनरशिप का उद्देश्य भारत की नई “रणनीतिक साझेदारी” नीति के अंतर्गत विमानों का उत्पादन करना है. शुक्रवार को साब के प्रेसिडेंट और चीफ एग्जीक्यूटिव एक प्रेस कॉन्फ्रेंस करने जा रहे हैं. माना जा रहा है इस दौरान वो अडानी से अपनी पार्टनरशिप के बारे में घोषणा कर सकते हैं. 

जानकारी के मुताबिक, इस प्रेस कॉन्फ्रेंस से संबंधित निमंत्रण बुधवार को ही भेज दिए गए थे. हालांकि, साब से जब इस बारे में मीडिया ने जानने की कोशिश की गई तो उन्होंने कुछ भी कहने से इनकार कर दिया. वहीं अडानी की कंपनी की ओर से भी इस डील के बारे में कोई टिप्पणी नहीं की गई है.

ये भी पढ़ें- मोदी मंत्रिमंडल में फेरबदल : रूडी के बाद अब संजीव बालियान ने भी दिया इस्‍तीफा

ये दोनों कंपनियां देश की नई रक्षा साझेदारी नीति के तहत विश्व स्तरीय स्वदेशी वैमानिक आधार विकसित करेगी. इस निर्माण के लिए भारत सालों से संघर्ष कर रहा है. 

ये भी पढ़ें- कांग्रेस ने कहा- ''नोटबंदी पर मोदी ने झूठ बोला, वो माफी मांगे''

अमेरिकन कंपनी ने भी मिलाया हाथ

इससे पहले अमेरिका की कंपनी लॉकहिड मॉर्टिन ने भी भारतीय वायु सेना के लिए एक इंजन वाले फाइटर जेट बनाने के लिए डील साइन की है. भारतीय कंपनी टाटा एडवांस्ड सिस्टम्स के साथ की गई इस साझेदारी के तहत दोनों कंपनियां मिलकर एफ-16 फाइटर जेट बनाएगी. जिसका मुकाबला साब के ग्रिपेन एयरक्राफ्ट से होगा. भारतीय वायुसेना को सोवियत के समय की फ्लीट को बदलने के लिए सैकड़ों विमानों की जरूरत है, जिसके लिए इन एयरक्राफ्ट का निर्माण होगा. दोनों कंपनियों ने कहा था कि भारत में उत्पादन शुरू करने के बावजूद अमेरिका में नौकरियां बनी रहेंगी.