अमृता फडणवीस ने की 'मिट्टी के सितारे' की घोषणा, पहला रियलिटी शो जो गरीब बच्चों को देगा मौका

रियलिटी शो में हिस्सा लेने वाले बच्चो की उम्र 7-15 साल के बीच होगी. ये सारा काम दिव्यांज फाउडेशन की तरफ से किया जाएगा.

अमृता फडणवीस ने की 'मिट्टी के सितारे' की घोषणा, पहला रियलिटी शो जो गरीब बच्चों को देगा मौका
शंकर महादेव और नीरजा बिड़ला के साथ अमृता फड़नवीस (फोटो साभारः facebook)

(अमित त्रिपाठी)/मुंबईः महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़नवीस की पत्नी अमृता फड़नवीस ने 'मिट्टी के सितारे' नाम के एक रियलिटी शो की घोषणा की है, जो कि भारत का ऐसा पहला संगीत रियलिटी शो है, जिसमें ऐसे बच्चों को मौका दिया जाएगा जो गरीबी और आर्थिक समस्या के चलते अपने सपनों को पूरा नहीं कर पाते. बता दें मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़नवीस की पत्नी अमृता फड़नवीस खुद भी बहुमुखी प्रतिभा की धनी हैं. अमृता एक समाज सेविका के साथ-साथ खुद भी एक सिंगर हैं और साथ ही एक्सिस बैंक की वाइस प्रेसिडेंट भी हैं. इस रियलिटी शो में हिस्सा लेने वाले बच्चो की उम्र 7-15 साल के बीच होगी. ये सारा काम दिव्यांज फाउडेशन की तरफ से किया जाएगा.

VIDEO: शंकर महादेवन की आवाज से सजा है 'सूरमा' का गाना, भर देगा आपके अंदर एक नया जोश

मुंबई के दादर इलाके में राज्य के मुख्यमंत्री देवेन्द्र फड़नवीस की पत्नी अमृता फडनवीस, संगीतकार शंकर महादेवन, बीएमसी कमिश्नर अजोय मेहता और बिरला फाउंडेशन के नीरजा बिरला सहित कई बड़ी शख्सियतों का एक जगह पर जुटने का मतलब समाज के उन लोगों को आगे लाना है जिनमें प्रतिभा होने के बाद भी गरीबी और दूसरी परेशानियों के कारण आगे नही आ पा रहे हैं. 

इस मौके पर संगीतकार शंकर महादेवन ने अपने बचपन को याद करते हुए कहा कि 'गरीबी से निकल कर इस मुकाम तक पहुंचने का सफर आसान नहीं था. कई कठनाईयो से गुजरने के बाद आज वह इस मौके पर पहुंच पाए हैं.' वहीं नीरजा बिरला मिटटी के सितारे की पार्टनर हैं जिसका मुख्य काम स्लम इलाकों में छुपी प्रतिभाओं को बाहर लाना और उनकी आर्थिक मदद करना है. राज्य के मुख्यमंत्री देवेन्द्र फड़नवीस की पत्नी अमृता फड़नवीस जी ने मिटटी के सितारे मुहिम शुरू की.

केरल के इस मजदूर ने गाया ऐसा गाना, शंकर महादेवन ने सुनते ही दे डाला ऑफर

अमृता फड़नवीस का कहना है 'गरीब, प्रतिभावान बच्चों को उनका सही मुकाम मिले यही उनका सपना है. अमृता फड़नवीस ने कहा कि इन बच्चों में प्रतिभा है, लगन है और आसमान को छू लेने का जज्बा भी है, लेकिन कुछ आर्थिक तो थोड़ी बहुत पारिवारिक समस्याओं के कारण ये बच्चे आगे नही बढ़ पाते हैं. इन बच्चो को उन्ही परेशानियो से निकाल कर आगे की तरफ ले जाना यही कोशिश है मिट्टी के सितारो की.'