स्मार्ट इंडिया हैकथॉन: PM मोदी बोले- नई शिक्षा नीति में क्वालिटी एजुकेशन पर जोर

पीएम मोदी (modi) ने नई शिक्षा नीति (new education policy) 2020 को देश में 'नौकरियों का सृजन' करने वाला बताया है. पीएम ने कहा कि दुनिया तेजी से बदल रही है. इसीलिए हमें भी उसी के हिसाब से बदलाव लाना होगा.

स्मार्ट इंडिया हैकथॉन: PM मोदी बोले- नई शिक्षा नीति में क्वालिटी एजुकेशन पर जोर
पीएम मोदी की फाइल तस्वीर

नई दिल्ली: पीएम मोदी (modi) ने नई शिक्षा नीति (new education policy) 2020 को देश में 'नौकरियों का सृजन' करने वाला बताया है. पीएम ने कहा कि दुनिया तेजी से बदल रही है. इसीलिए हमें भी उसी के हिसाब से बदलाव लाना होगा. इसी बात को ध्यान में रखते हुए नई शिक्षा नीति में 'नौकरी मांगने वाले' के बजाए 'नौकरी सृजन करने वाला' बनाने पर जोर दिया गया है. पीएम शनिवार को दुनिया के सबसे बड़े ऑनलाइन हैकाथन (hackathon) के ग्रैंड फिनाले को वीडियो कांफ्रेंस के जरिए संबोधित कर रहे थे. 

'बाबा साहेब आंबेडकर को समर्पित है नई शिक्षा नीति'- पीएम मोदी
पीएम ने कहा कि बाबा साहेब आंबेडकर कहते थे कि शिक्षा ऐसी होनी चाहिए. जो सभी की पहुंच में हो, सभी के लिए सुलभ हो. ये नई शिक्षा नीति, उनके इसी विचार को समर्पित है. उन्होंने कहा कि भारत की शिक्षा प्रणाली में अब सुधार हो रहा है. शिक्षा के प्रयोजन और विषय-वस्तु में सुधार का प्रयास किया जा रहा है. भविष्य में भी इस बात को सुनिश्चित किया जाएगा कि छात्र क्या सीखना चाहते हैं. 

'देश में प्रतिभाओं की कमी नहीं'
पीएम ने कहा कि हाल ही में कोरोना से बचाव के लिए फेस शील्ड्स की डिमांड एकदम बढ़ गई थी. इस मांग को 3D प्रिंटिंग टेक्नॉलॉजी के साथ पूरा करने के लिए बड़े पैमाने पर देश के युवा आगे आए. इससे पता चलता है कि देश में प्रतिभा की कोई कमी नहीं है. उन्होंने कहा कि ऑनलाइन एजुकेशन के लिए स्मार्ट इंडिया हैकथॉन जैसे अभियान हो. भारत की शिक्षा और आधुनिक बने, यहां के टैलेंट को पूरा अवसर मिले. 

LIVE TV-

'देश में रिसर्च, इनोवेशन के लिए इको सिस्टम तैयार किया जा रहा'
पीएम मोदी ने कहा कि नई शिक्षा नीति के जरिए सरकार ने नजरिया बदलने की कोशिश की है. इस नीति में देश में गुणवत्तापरक शिक्षा पर सबसे ज्यादा जोर दिया गया है. पीएम ने कहा कि देश में रिसर्च, इनोवेशन के लिए जरूरी इको सिस्टम तैयार किया जा रहा है. पीएम ने कहा कि बीती सदियों में हमने दुनिया को एक से बढ़कर एक वैज्ञानिक, तकनीशियन, प्रौद्योगिकी और उद्यमी दिए हैं. आज तेजी से बदलती हुई दुनिया में एक बार फिर भारत को अपनी वही प्रभावी भूमिका निभाने के लिए उतनी ही तेजी से बदलना होगा। 

ये भी देखें-